ENGLISH HINDI Saturday, May 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
लाॅकडाउन में विभिन्न हेल्पलाइन नम्बरों से लोगों को मिली राहतशिक्षा विभाग में ठेके पर काम करते 496 कर्मियों के कार्यकाल में साल की वृद्धि को मंज़ूरीअध्यापक के 12 वर्षीय गुमशुदा लड़के की वापसी के लिए उपायुक्त ने लखनऊ भेजी कार, दो महीने बाद परिवार से मिला बच्चाबैंक उपभोक्ताओं को अगस्त माह तक दी राहत जुर्माने में भारी वृद्धि: अब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर होगा 500 रुपए का जुर्मानाव्यापरियों को बिना परेशानी ऋण दिलाने हेतु प्रतिनिधि मंडल मिला एसबीआई के उपमहाप्रबंधक सेबीज घोटाला: सीबीआई से जांच के डर से राज्यभर के सीइएओ ने बीज की दुकानों पर दौड़ाई टीमेंइंटरनेशनल हयूमन राइट्स काउंसिल चंडीगढ़ ने समाजसेवियों को किया सम्मानित
संपादकीय

अर्थ तेरे कितने अर्थ

March 22, 2016 08:57 PM

— आर एल गोयल

शब्द—शब्द के अर्थ हैं
अर्थ—अर्थ के भेद
अर्थ—अर्थ की बात है पगले
अर्थ—अर्थ की गज़लें समझ सके तो
समझ ले प्यारे न समझो तो हारे
एक अर्थ तो पावन माटी
दूजा अंग है भाषा का
तीजा है धन सम्पदा
चौथा तो वो है जो देता उर्जा को सहारा
अजब चक्रव्यूह है अर्थ का
किसका पलड़ा भारी है और किससे मिले किनारा
कर लो अगर विश्लेषण तो
परिभाषा में छुपे है अर्थ अनेक
जो न होने देते बंटवारा
अर्थ की परख कर सके तो कर ले पगले
जीवन का भी है एक अर्थ
आसमां की ओर से
जमीं के छोर तक
शब्दों की है माला
मूक का भी अर्थ शोर भी नहीं व्यर्थ
तर्क से जुड़ा है वितर्क
समझ सको तो प्यारे समझ ले फर्क
अर्थ है तो शब्द है और
शब्द नही तो अर्थ व्यर्थ


कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें