ENGLISH HINDI Sunday, August 09, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
कमलम् में हुए कार्यक्रम में नियमों की धज्जियां उड़ाने पर राज नागपाल ने की कड़ी निंदाचंडीगढ़ नगर निगम के कर्मचारी काम छोड़ कलाई की घड़ियों का करेंगे विरोध भारतीय क्रिएटिव यूनिटी ने उठाया वायरल डर को लेकर जागरूकता का बीड़ारेहड़ी—फड़ी वालों ने कब्जा कर लोगों के लिए की परेशानी खड़ी, ना मास्क— ना ही सोशल डिस्टेंसिंगभाजपाइयों द्वारा कोविड नियमों की अवेहलना करने पर ग्रह मंत्रायल से की शिकायतस्वतंत्रता दिवस पर देखो अपना देश वेबिनार श्रृंखला के अंतर्गत पांच वेबिनारों का आयोजनजिन विक्रेताओं के पास पहचान पत्र और विक्रय प्रमाणपत्र नहीं, उन्हें पीएम स्वनिधि योजना में शामिल करने हेतु अनुशंसा पत्र मॉड्यूल लॉन्चजो पढ़ेगा वो लिखेगा, जो लिखेगा वो बचेगा
कविताएँ

अहसास रखना

R.L.Goyal | February 02, 2017 04:15 PM

फूलों की आस बांधे बैठे हो

तो

दामन में कांटों के लिए भी

जगह बना कर रखना

फूलों को रौंदने की 

मन में घर कर जाए

तो

कांटों की चुभन का

भी अहसास रखना

आकाश में उड़ने की चाहत रखने वालो

एक गुजारिश है

एक पांव

धरा पर भी जमाए रखना

क्योंकि

आकाश शिव का प्रतिनिधितत्व है

और

धरा मॉं गोरजां का

दोनों का संतुलन

हर हाल में बनाए रखना

मॉं

गोरजां ने ही बचाया है

सदैव हमें

शिव के प्रकोप से

वही रूष्ठ हुई तो

कौन?

बचा सकेगा हमें

उसे रूष्ठ करने के

दोष से

बचना है

यदि

शिव के क्रोध से

तो

सुगमता बनाए रखना

शालीनता काे ओढ़े रखना

व्यक्तित्व में दया

अंहिसा काे जागृत रखना

सृष्टि के नियम

सदां—सदां

याद रखना

वो

जब

बिगड़ती है

तो

तबाही ही तबाही मचाती है

और

दरख्ताें तक की जड़ें

भी

ऊखाड़ती है

मोतियों से सजाना है

गर आशियाना

ताे

समुद्र के जलजले

काे भी स्वीकारे रखना

अपने लिए जीना

ताे

निशां है विष को

गैरों के लिए

छोड़ना

शिव की तरह

मंथा विष की जगह भी

अपने लिए बचाए रखना

अमृत पी कर इतराने वालो

संमुद्र मंथन का श्रम भी याद रखना

— रोशन

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें