ENGLISH HINDI Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
एन.आर.आई महिला से पैसे लेने के बावजूद दुकानें न देने पर धोखाधड़ी का मामला दर्जहरियाणा पुलिस ने मादक पदार्थों के तस्करों पर की नए सिरे से कार्रवाई , चार काबूमनोहर ने दूसरी पारी की शुरुआत की, चौटाला की मौजूदगी में उपायुक्तों से की मीटिंग साइकिल सवार 65 वर्षीय बुजुर्ग को ट्रक ने रौंदा, मौतबाल दिवस के अवसर पर नन्हें मुन्नों ने कार्यक्रम में खूबसूरत डांस प्रस्तुत किएअमृत कैंसर फाउंडेशन और एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और एजी ऑडिट पंजाब ने महिला स्टाफ़ के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्पकैन बायोसिस ने पराली से होने वाले प्रदुषण के समाधान के लिए पेश किया स्पीड कम्पोस्टरोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंह
कविताएँ

बीते लम्हे

February 10, 2017 01:16 PM

आज वो शख्स बहुत याद आए

जाे बन चुके है बीते लम्हाें के साए
सैक्टर 23 की वाे
यादें
एक साथ किए थे कई
वादे
आज वाे लम्हें बहुत याद आए
वक्त भी क्या—क्या गुल खिलाता है
मिटाता भी खुद ही है सब कुछ
और
फिर रह—रह कर
याद भी दिलाता है
ये यादें ब़ेजार करती हैं
हर वक्त उन का इंतजार करती हैं
जानते हुए भी
कि
बीते हुए लम्हें
कभी
वापिस नहीं आते
फिर भी न जाने
क्यों
ये दिल बैठा है आस लगाए।
—रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें