ENGLISH HINDI Tuesday, November 12, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादेंप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल हरियाणा पुलिस का ई-सिगरेट पर अंकुश लगाने के लिए विशेष अभियान शुरू
कविताएँ

विरह

April 14, 2017 03:58 PM

— शिखा शर्मा
विरह के अश्रु न बरस जाएं कहीं नयनों से
थाम लेना गालों पर गिरने से पहले
भीगी पलकें भी उतार देती है आँखों का काजल
स्याही का अंधेरा न छाए चेहरे पर
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सिमट गई हूं तेरे लबों के अल्फाजों तक
लफ्जों को सहेज रखा है दिल की किताब में
पन्ने पलटने से पहले
वादों से न कहीं मुकर जाना
बस! इतना ख्याल रखना तुम

प्रेम रस की मिठास में ऐसे हूं डूबी
तैरती कश्ती भटकती देह लगे
डूबी रहूं तुझ में मग्न होकर
चित उबने पर बीच मझधार मत छोड़ जाना
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सोलह श्रृंगार की दीवानी हूं इतनी
बागों की मेहंदी भी फीकी पड़े
हृदय की डाली पर खिला है प्रेम पुष्प
प्रेम का फूल कोई और मेरी डाली से न तोड़े
बस! इतना ख्याल रखना तुम

सांझ-सवेरे सांसे रटती है तेरी नाम की तस्वीह
रेशमी धागे में पिरोया अनमोल मोती जैसा तूं
बांधे रखना इस अटूट बंधन में
डोर टूटने से पहले तेरी बांहों का हार मिले
बस! इतना ख्याल रखना तुम

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें