ENGLISH HINDI Wednesday, November 13, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
एन.आर.आई महिला से पैसे लेने के बावजूद दुकानें न देने पर धोखाधड़ी का मामला दर्जहरियाणा पुलिस ने मादक पदार्थों के तस्करों पर की नए सिरे से कार्रवाई , चार काबूमनोहर ने दूसरी पारी की शुरुआत की, चौटाला की मौजूदगी में उपायुक्तों से की मीटिंग साइकिल सवार 65 वर्षीय बुजुर्ग को ट्रक ने रौंदा, मौतबाल दिवस के अवसर पर नन्हें मुन्नों ने कार्यक्रम में खूबसूरत डांस प्रस्तुत किएअमृत कैंसर फाउंडेशन और एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और एजी ऑडिट पंजाब ने महिला स्टाफ़ के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्पकैन बायोसिस ने पराली से होने वाले प्रदुषण के समाधान के लिए पेश किया स्पीड कम्पोस्टरोजाना एक हज़ार बार "धन गुरु नानक" लिख रहें हैं मंजीत शाह सिंह
कविताएँ

फलसफा-ए-जिन्दगी

May 18, 2017 02:49 PM

रिश्तों को हमने बिठाया था

अपनी कश्ती में,
और
फिर कश्ती का बोझ कह कर,
हमें ही उतारा गया...
जिंदगी तो बे—वफा है
फिर भी
उसी का गीत गाया गया।
सांसे हैं पल—पल घट रही
फिर भी
जन्मदिन मना कर
उसी का जश्न मनाया गया
जिसने भेजा है धरा पर
उसका गुणगान पलभर भी नहीं
बस!
चका चौंध रोशनियों का
बखान सुनाया गया।
मौत महबूब है
मगर
उसको सदा भुलाया गया।

— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें