ENGLISH HINDI Wednesday, September 18, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंजीनियर कॉलेज पन्नीवाला को बंद करने के सरकारी फरमान के विरोध में प्रदर्शनजनहित की बजाए स्वहित की सोच रखने वालों को नकारे: कांडाप्लास्टिक बैन के तहत डेराबस्सी में छापेमारीपहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार बदहाल कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्ण का रथ भी गड्ढे में फंस जाएगा, मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुस्से से बचें : कुमारी सैलजा ज़ीरकपुर भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्म दिवस धूमधाम से मनाया मेंटेनेंस वर्क के चलते बुधवार को ढकोली सब स्टेशन क्षेत्र में सुबह 9 से शाम 5 बजे तक नहीं रहेगी बिजलीअधिकारी निष्पक्ष रहने के साथ-साथ निष्पक्ष दिखें भी: उपायुक्त
कविताएँ

बच्चा हो गया हूं

May 29, 2017 10:48 PM

मैं बच्चा सा हो गया हूं

जबसे
बच्चे बड़े हो गए हैं
अपने फैंसले खुद से
करने लग गए हैं
अब करने लग गया हूं खुद से बातें
जबसे यौवन के दिन बीत गए है
उड़ रहा हूं सूखे पत्तों की मानिंद
मुसाफिर बनकर
इस सफ़र से तंग हो गया हूं
हवा के रुख में उलझकर
बेसफ़र, बेखबर सा हो गया हूं
बिन वजह जाग उठता हूं रातों को
बे—मोल हो गए जज्बातों को
अखरता है अब ये रूखापन
तन्हा सी है जिंदगी
बस! जरा थकने लग गया हूं
यूं तो की होगी हमने हजारों बातें
बातों में छिपी वो मधुर मुलाकातें
दर्द ऐसा चुभा सीने में
अब मैं लिखने भी लग गया हूं
बचपन में थे सच्चे शहंशाह
मां-बाप का साथ जब से छूटा
तब से गरीब सा जिया गया हूं
झूठी शहंशाही रास नहीं आती
फकीरी के आलम में खो गया हूं
नंगे पैर गरीब के कहीं
घायल न हो जाएं
यही सोच कर कांच के टुकड़े
उठाता जा रहा हूं
— रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें