ENGLISH HINDI Tuesday, December 07, 2021
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
गुरप्रीत मूर ने अपना नया गाना "ओस टाइम" किया रिलीजसंयुक्त कर्मचारी मोर्चा ,यू.टी एवं एम.सी.,चंडीगढ ने जी. एमएसएच, डायरेक्टर हैल्थ आफिस के सामने किया रोष प्रदर्शनबागी हो रहे एकजुट, बिगाड़ रहे सियासी पार्टियों के समीकरण मलेरकोटला में हुई गौ हत्या को लेकर एसएसपी ने की हिन्दू संगठनों सी बैठक, SIT का किया गठनसाईं बाबा का 26वां स्वरूप स्थापना दिवस 6 दिसम्बर को मनाया जायेगा : अली ब्रदर्स करेंगे बाबा का गुणगानझुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चों को शिक्षित करने के लिए ओपन आईज फाउंडेशन ने बनाई दूसरी एजुकेशन हटपंजाब-हरियाणा डान्स स्पोर्ट्स चैम्पियनशिप आयोजितपवन बंसल ने मेरे साथ विश्वासघात किया : शशिशंकर तिवारी
संपादकीय

क्या है पारिवारिक ,सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक महत्व ?हरियाली तीज 26 और नाग पंचमी 27 जुलाई को

July 23, 2017 07:31 AM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिषविद्, चंडीगढ़, 98156 19620

तीज वास्तव में यह एक ऐसा पर्व है जिसमें करवा चैथ जैसा श्रंृगार का वातावरण है, महिला मुक्ति सा एहसास है, राखी एवं भाई दूज जैसा पारिवारिक संगम है ,करवा चैथ जैसा समर्पण है, मालपुओं व घेवर से दीवाली जैसी खुशबू है, होली सी उमंग है, प्रकृति की पूर्ण अनुकंपा है।
श्रावणी शुक्ल मधुस्त्रवा ,हरियाली या सिंधारा तीज 26 जुलाई , को पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र और बुधवार को पड़ रही है जो इस बार अत्यंत शुभ है। जिसे श्रावणी तीज भी कहा जाता है। इस बार तृतीया , 25 जुलाई की प्रातः10 बजे आरंभ हो जाएगी तथा 26 जुलाई , की प्रातः 8 बजे तक रहेगी।

इस दिन सुहागिनें मेंहदी लगाकर झूलों पर सावन का आनंद मनाती हैं। प्रकृति धरती पर चारों ओर हरियाली की चादर बिछा देती है और मन म्यूर हो उठता है। इसी लिए हाथों पर हरी मेंहदी लगाना प्रकृति से जुड़ने की अनुभूति है जो सुख समद्धि का प्रतीक है। इसके बाद वही मेंहदी लाल हो उठती है जो सुहाग, हर्षोल्लास एवं सौंदर्य का प्रतिनिधित्व करता है।

 

ऐसी मान्यता है कि मां पार्वती ने 107 जन्म लिए । कठोर तप के बाद 108 वें जन्म पर उन्हें भगवान शिव ने पत्नी के रुप में स्वीकार किया। तभी से इस व्रत का चलन हुआ। इस दिन जो सुहागन महिलाएं, 16 श्रृंगार करके, भगवान शिव एवं पार्वती की पूजा करती हैं, उनके सुहाग की रक्षा होती है।
इस दिन सुहागिनें मेंहदी लगाकर झूलों पर सावन का आनंद मनाती हैं। प्रकृति धरती पर चारों ओर हरियाली की चादर बिछा देती है और मन म्यूर हो उठता है। इसी लिए हाथों पर हरी मेंहदी लगाना प्रकृति से जुड़ने की अनुभूति है जो सुख समद्धि का प्रतीक है। इसके बाद वही मेंहदी लाल हो उठती है जो सुहाग, हर्षोल्लास एवं सौंदर्य का प्रतिनिधित्व करता है।
जिस लड़की के ब्याह के बाद पहला सावन आता है, उसे ससुराल में नहीं रखा जाता । इसका कारण यह भी था कि नवविवाहिता अपने मां बाप से ससुराल में आ रही कठिनाइयों, खटटे् मीठे अनुभवों को सखी सहेलियों के साथ बांट सके और मन हल्का करने के अलावा कठिनाईयों का समाधान भी खोजा जा सके। इसी लिए नवविवाहित पुत्री की ससुराल से सिंधारा आता है। और ऐसी ही समग्री का आदान प्रदान किया जाता है ताकि संबंध और मधुर हों और रिष्तेदारी प्रगाढ़ हो । इसमें उसके लिए साड़ियां, सौंदर्य प्रसाधन, सुहाग की चूड़ियां व संबंधित सामान के अलावा उसके भाई बहनों के लिए आयु के अनुसार कपड़े , मिष्ठान तथा उसकी आवश्यकतानुसार गीफट भेजे जाते हैं। आज जब छोटी छोटी बातों के कारण तलाक तक की नोबत आ जाती है तो वर्तमान युग में तीज का त्योहार मात्र औपचारिकता निभाने की बजाए उसकी भावना और दिल से मनाना अधिक सार्थक होगा।
पूजन विधि
यों तो तीज का त्योहार तीन दिन मनाया जाता है परंतु समयाभाव के कारण इसे एक दिन ही मनाना रह गया है क्योंकि इसके साथ साथ आगे पीछे कई अन्य पर्व भी चल रहे होते हैं। जैसे इस बार 27 जुलाई को नागपंचमी व्रत पड़ रहा है।
तीज से एक दिन पहले मेंहदी लगा ली जाती है। तीज के दिन सुबह स्नानादि करके श्रृंगार करके , नए वस्त्र व आभूषण धारण करके गौरी की पूजा करती हैं। इसके लिए मिटट्ी या अन्य धातु से बनी शिवजी, पार्वती व गणेश जी की मूर्ति रख कर उन्हें वस्त्रादि पहना कर रोली, सिंदूर, अक्षत आदि से पूजन करती हैं। इसके बाद आठ पूरी, छ पूओं से भोग लगाती हैं।फिर यह बायना जिसमें चूड़ियां, श्रंृगार का सामान व साड़ी, मिठाई , दक्षिणा या षगुन राषि इत्यादि अपनी सास, जेठानी, या ननद को देते हुए चरण स्पर्ष करती हैं। इसके बाद पारिवारिक भोजन किया जाता है। सामूहिक रुप से झूला झूलना,तीज मिलन, गीत संगीत, जलपान आदि किया जाता है। कुल मिला कर यह पारिवारिक मिलन का सुअवसर होता है।
इस दिन तीज पर तीन चीजें तजने का भी विधान है।
1. पति से छल कपट
2. झूठ - दुव्र्यवहार
3. पर निन्दा
तीज पर ही गौरा विरहाग्रि में तपकर शिव से मिली थी। ये तीन सूत्र सुखी पारिवारिक जीवन के आधार स्तंभ हैं जो वर्तमान आधुनिक समय में और भी प्रासंगिक हो जाते हैं।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और संपादकीय ख़बरें