ENGLISH HINDI Saturday, January 25, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द लास्ट बेंचर्स "और अमृत कैंसर फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया मैमोग्राफी, डेकसा और डेंटल जांच शिविर26 को वाईस ऑफ़ इंडिया नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन पर विशाल पद यात्रा कैंसर की चपेट में गांव बडबर, 6 से अधिक लोगों की हो चुकी मौतवाल्मीकि समाज ने नगर निगम कमिश्नर और पूर्व मेयर राजेश कालिया का पुतला फूंकाअवैध माइनिंग के खिलाफ हरकत में आया प्रशासन, मुबारिकपुर घग्गर नदी पर बनाए अवैध पुल को तोड़ागणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयकर विभाग ने लगाया रक्तदान शिविर, 108 रक्त यूनिट एकत्रितजुडो चैंपियनशिप में आर्यन ने जीता गोल्ड, प्रिंस ने रजत व अंजू ने कांस्य हासिल कियापंजाब की सर्वदलीय बैठक के बयान का कोई औचित्य नहीं: मुख्यमंत्री
कविताएँ

बिखरे परिवेश

July 27, 2017 11:50 AM

रेगिस्तान भी हरे हो जाते हैं
जब साथ अपने खड़े हो जाते हैं
मुंह मोड़ लेते हैं अपने तब
हरे—भरे खेत—खलिहान भी सूख कर बंजर हो जाते हैं।
हो कोई जो भी गिले—शिकवे
वे मिल बैठ कर निपटाए जाते हैं
चंद मेरे लोग तो ऐसे हैं कि
उलाहनों के पिटारे भर-भर के लाते हैं
हालातों के मंजर को कर दरकिनार
सहयोग भी ना देकर
सहानुभूति जताकर इतराते हैं
क्या कहूं अब टूटते परिवेशों में
पलते इन होनहारों के बारे
लाज-हया को दरकिनार कर
न जाने अपनी कौन सी महानता दर्शाते हैं
अब अपने ही अपनों को
दुनियां के सामने नीचा दिखाते हैं
प्रकृति का शाश्वत नियम है
हो मंजर या नजारे कुछ भी
आखिर बदल ही जाते हैं
मृत्यु तो तय हो जाती है
जन्म के साथ ही
बचे जीवन के पल तो
कभी हंसाते कभी रूलाते हैं
तो क्यूं व्यर्थ ही आरोप—प्रत्यारोप के
ढेरों को सजाते हैं।
तुम कुछ करो न करो ये तुम्हारी रज़ा
मेरे हाथ स्वयं ही सहयोग को आतुर हो जाते हैं
रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें