ENGLISH HINDI Wednesday, September 18, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
इंजीनियर कॉलेज पन्नीवाला को बंद करने के सरकारी फरमान के विरोध में प्रदर्शनजनहित की बजाए स्वहित की सोच रखने वालों को नकारे: कांडाप्लास्टिक बैन के तहत डेराबस्सी में छापेमारीपहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार बदहाल कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्ण का रथ भी गड्ढे में फंस जाएगा, मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुस्से से बचें : कुमारी सैलजा ज़ीरकपुर भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्म दिवस धूमधाम से मनाया मेंटेनेंस वर्क के चलते बुधवार को ढकोली सब स्टेशन क्षेत्र में सुबह 9 से शाम 5 बजे तक नहीं रहेगी बिजलीअधिकारी निष्पक्ष रहने के साथ-साथ निष्पक्ष दिखें भी: उपायुक्त
कविताएँ

बिखरे परिवेश

July 27, 2017 11:50 AM

रेगिस्तान भी हरे हो जाते हैं
जब साथ अपने खड़े हो जाते हैं
मुंह मोड़ लेते हैं अपने तब
हरे—भरे खेत—खलिहान भी सूख कर बंजर हो जाते हैं।
हो कोई जो भी गिले—शिकवे
वे मिल बैठ कर निपटाए जाते हैं
चंद मेरे लोग तो ऐसे हैं कि
उलाहनों के पिटारे भर-भर के लाते हैं
हालातों के मंजर को कर दरकिनार
सहयोग भी ना देकर
सहानुभूति जताकर इतराते हैं
क्या कहूं अब टूटते परिवेशों में
पलते इन होनहारों के बारे
लाज-हया को दरकिनार कर
न जाने अपनी कौन सी महानता दर्शाते हैं
अब अपने ही अपनों को
दुनियां के सामने नीचा दिखाते हैं
प्रकृति का शाश्वत नियम है
हो मंजर या नजारे कुछ भी
आखिर बदल ही जाते हैं
मृत्यु तो तय हो जाती है
जन्म के साथ ही
बचे जीवन के पल तो
कभी हंसाते कभी रूलाते हैं
तो क्यूं व्यर्थ ही आरोप—प्रत्यारोप के
ढेरों को सजाते हैं।
तुम कुछ करो न करो ये तुम्हारी रज़ा
मेरे हाथ स्वयं ही सहयोग को आतुर हो जाते हैं
रोशन

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें