ENGLISH HINDI Sunday, July 21, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स विश्व धरोहर संपदा घोषित

July 01, 2018 03:19 PM

मुंबई, फेस2न्यूज:
एक अन्य ऐतिहासिक उपलब्धि के रूप में भारत के ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ को यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित किया गया। यह निर्णय बहरीन के मनामा में यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 42वें सत्र में लिया गया। जैसीकि विश्व धरोहर समिति ने अनुशंसा की, भारत ने इंसेबल का नया नाम ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ स्वीकार कर लिया।
भारत मानदंड (2) एवं (4) के तहत, जैसाकि यूनेस्को के संचालनगत दिशानिर्देशों में निर्धारित किया गया है, ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल‘ को विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित करवाने में सफल रहा है।
इससे मुंबई सिटी अहमदाबाद के बाद भारत में ऐसा दूसरा शहर बन गया है जो यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित है।
यह इंसेम्बल दो वास्तुशिल्पीय शैलियों, 19वीं सदी की विक्टोरियन संरचनाओं के संग्रह एवं समुद्र तट के साथ 20वीं सदी के आर्ट डेको भवनों से निर्मित्त है।
यह इंसेम्बल मुख्य रूप से 19वीं सदी के विक्टोरियन गोथिक पुनर्जागरण के भवनों एवं 20वीं सदी के आरंभ की आर्ट डेको शैली के वास्तुशिल्प से निर्मित्त है जिसके मध्य में ओवल मैदान है।
इसके अतिरिक्त, देश के 42 स्थल विश्व धरोहर की प्रायोगिक सूची में हैं और संस्कृति मंत्रालय प्रत्येक वर्ष यूनेस्को को नामांकन के लिए एक संपत्ति की अनुशंसा करता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
एनआरआई की लंदन की मेम से दूसरी शादी का मामला: भिवानी की नीरजा ने जीती पहली जंग, जमीन की करवा दी नीलामी बढ़ रहे हैं डाइबिटिक फुट व लकवा के रोगी भारत और यूएई के बीच सेतू करेगा भविष्य का निर्माण प्रो. रविकांत डीएमए विशेष चिकित्सा रत्न अवार्ड से सम्मानित सरकार ने रोजगार नहीं घर-घर बेरोजगारी बढ़ाई: भगवंत मान सिद्धू अपना काम नहीं करना चाहता तो मैं क्या कर सकता हूं: कैप्टन पानी के संकट से निपटने के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में सर्वदलीय मीटिंग का सुझाव बढ़ती उम्र के साथ कम्पन की बीमारियां आम एम्स में दो दिवसीय नेशनल मूवमेंट डिस्ऑर्डर्स काॅन्क्लेव आज से चिंताजनक: तेजी से बढ़ रहा है महिलाओं में ब्रेस्ट एवं गर्भाश्य ग्रीवा कैंसर: डा. राजेश्वर