ENGLISH HINDI Wednesday, September 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स विश्व धरोहर संपदा घोषित

July 01, 2018 03:19 PM

मुंबई, फेस2न्यूज:
एक अन्य ऐतिहासिक उपलब्धि के रूप में भारत के ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ को यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित किया गया। यह निर्णय बहरीन के मनामा में यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 42वें सत्र में लिया गया। जैसीकि विश्व धरोहर समिति ने अनुशंसा की, भारत ने इंसेबल का नया नाम ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल्स‘ स्वीकार कर लिया।
भारत मानदंड (2) एवं (4) के तहत, जैसाकि यूनेस्को के संचालनगत दिशानिर्देशों में निर्धारित किया गया है, ‘मुंबई के विक्टोरियन गोथिक एवं आर्ट डेको इंसेबल‘ को विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित करवाने में सफल रहा है।
इससे मुंबई सिटी अहमदाबाद के बाद भारत में ऐसा दूसरा शहर बन गया है जो यूनेस्को की विश्व धरोहर संपदा की सूची में अंकित है।
यह इंसेम्बल दो वास्तुशिल्पीय शैलियों, 19वीं सदी की विक्टोरियन संरचनाओं के संग्रह एवं समुद्र तट के साथ 20वीं सदी के आर्ट डेको भवनों से निर्मित्त है।
यह इंसेम्बल मुख्य रूप से 19वीं सदी के विक्टोरियन गोथिक पुनर्जागरण के भवनों एवं 20वीं सदी के आरंभ की आर्ट डेको शैली के वास्तुशिल्प से निर्मित्त है जिसके मध्य में ओवल मैदान है।
इसके अतिरिक्त, देश के 42 स्थल विश्व धरोहर की प्रायोगिक सूची में हैं और संस्कृति मंत्रालय प्रत्येक वर्ष यूनेस्को को नामांकन के लिए एक संपत्ति की अनुशंसा करता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
उत्तरी आंचलिक परिषद की 29वीं बैठक 20 सितंबर को चण्डीगढ़ में कंप्यूटर तकनीकी से नई दवाओं की खोज सराहनीय: प्रो. कांत पहाड़ों पर चढ़ने, नियमित सफर करने वाले हो सकते हैं किन बीमारियों के शिकार डॉ नीलम महेंद्र नारी शक्ति सम्मान से सम्मानित अज्ञात वाहन की टक्कर से घायल या मौत, सोलेटियम स्कीम के तहत पायें मुआवजा सही दवाएं ही लिखें डॉक्टर: पद्मश्री प्रो. कांत 'इंजीनियर्स, आन्तरिक इंजीनियरिंग पर भी ध्यान दें' पुलिस कमांडो विंग में भरे जाएंगे 23 सब इंस्पेक्टर्स के पुरुष पद हिन्दी दिवस : विदेशियों को हिन्दी सिखाने की अनूठी पहल एम्स ऋषिकेश के निदेशक ने जन्मदिन श्रमिकों के बच्चों के बीच मनाया