ENGLISH HINDI Wednesday, October 23, 2019
Follow us on
 
एस्ट्रोलॉजी

कैसा रहेगा 2019 देश के लिए ?

December 21, 2018 09:27 AM

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिर्विद्, चंडीगढ़, 9815619620
2019 एक नजर में
*2019 के चुनावों में एक नए गठबंधन से भाजपा ही सरकार बनाएगी।
* मोदी दूसरी बार प्रधान मंत्री बनेंगे।
* महागठबन्धन असफल कोशिश सिद्ध होगी।
* कांग्रेस की सीटों में वृद्धि होगी।
*प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट््री की संभावनाएं प्रबल रहेंगी।
*न्यायपालिका से अविश्वसनीय, अविस्मरणीय ,अप्रत्याशित निर्णय होंगे।
*लंबित मामलों के फैसले शनि के प्रभाव से इस साल शीघ्र होंगे और दोषियों का सजा मिलेगी।
*तीन प्रसिद्ध राजनेताओं और 5 फिल्मी सितारों का शोक सहना पड़ सकता है।
*राम मंदिर , सत्ता और विपक्ष के मध्य बहस का विषय बना रहेगा।

पूरे विश्व की निगाहें देश में होने वाले लोकसभा चुनावों पर टिकी हैं कि कोैन बनेगा पी.एम और केंद्र में कांग्रेस पार्टी आएगी या भाजपा ? राम मंदिर बनेगा या नहीं ? ऐसे कितने ही ज्वलंत विषय हैं जिन पर एक मजदूर से लेकर मंत्री तक की नजरें टिकी हुई हैं। राजनीतिक विवेचन, एक्जिट पोल या एक साधारण आदमी का आकलन इस विषय में देश की हवा पर आधारित होता है परंतु भारतीय ज्योतिष जो वेदों का एक महत्वपूर्ण अंग है, उसका आधार देश तथा व्यक्ति विशेष के ग्रह, दशा, गोचर तथा कई गणनाओं आदि होता है। यहां हम 2019 में होने वाले घटनाक्रम का आकलन , शुद्ध रुप से ज्योतिषीय दृष्टि से कर रहे हैं।

*2019 के चुनावों में एक नए गठबंधन से भाजपा ही सरकार बनाएगी।* मोदी दूसरी बार प्रधान मंत्री बनेंगे।* महागठबन्धन असफल कोशिश सिद्ध होगी।* कांग्रेस की सीटों में वृद्धि होगी।*प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट््री की संभावनाएं प्रबल रहेंगी।*न्यायपालिका से अविश्वसनीय, अविस्मरणीय ,अप्रत्याशित निर्णय होंगे। *लंबित मामलों के फैसले शनि के प्रभाव से इस साल शीघ्र होंगे और दोषियों का सजा मिलेगी।*तीन प्रसिद्ध राजनेताओं और 5 फिल्मी सितारों का शोक सहना पड़ सकता है।*राम मंदिर , सत्ता और विपक्ष के मध्य बहस का विषय बना रहेगा।


5 का पंच
ज्योतिषीय दृष्टि से नव वर्ष का शुभारंभ इस वर्ष 5 संयोगों से हो रहा है। पहली जनवरी को सफला एकादशी व्रत रहेगा और त्रिपुष्कर योग भी होगा। । मकर संक्रांति 14 जनवरी, अमावस्या का स्नान 21 को , संकट चौथ 24 को पडे़ंगे। यही नहीं इस साल ग्रहण भी 5 पड़ रहे हैं।

3 अंक वालों के लिए 2019 विशेष शुभ रहेगा।
अंकशास्त्र के अनुसार 2019 का कुल योग 3 बनता है जिसका स्वामी गुरु है जो सुख , समृद्धि व ज्ञान का कारक है। जिनका जन्म 3, 12,21,30 तारीखों में हुआ है, या जिनकी जन्म तिथि का योग 3 बनता है, या गुरुवार को हुए हैं, उनके लिए यह साल उन्नतिकारक रहेगा। 3 अंक का स्वामी गुरु है जो 2019 में वृश्चिक राशि के बाद अपनी उच्च राशि में आकर 3 अंक वालों को और साहसी, धनवान, ज्ञानवान , धर्म परायण तथा सम्मानजनक बनाएगा। गुरु की दो राशियों धनु व मीन वालों के लिए भी यह साल प्रगतिदायक रहेगा। जब जब वर्ष का योग 3,6 या 9 होगा भारत के लिए क्रंातिकारक रहेगा। 1947 जिसका योग 3 है, या 1965, देश में एक महान परिवर्तन लाया। 2019 भी इसी प्रकार का एक बहुत बड़ा सामाजिक, राजनैतिक, धार्मिक बदलाव लाएगा। वर्ष का आरंभ भी मंगलवार अर्थात हनुमान जी के शुभ दिन से हो रहा है। यह साल मंगल के प्रभाव के कारण गत वर्ष की अपेक्षा कई दृष्टियों से गर्म रहेगा।

ज्योतिषीय विश्लेषण

पहली जनवरी ,2019 को मंगलवार , सूर्य- शनि के योग तथा वृश्चिक राशि में नव वर्ष का आरंभ हो रहा है। यदि 5 अप्रैल को आरंभ होने वाले परिधावी नामक ,नव संवत 2076 के अनुसार देखें तो दो विपरीत ग्रह , राजा शनि तथा मंत्री सूर्य हैं। बीच बीच में सभी ग्रह राहु- केतु के मध्य आ जाने से कालसर्प योग भी बना हुआ है। मंगलवारी संक्राति, मास में 5 मंगलवार, 5 ग्रहण ,वर्ष का आरंभ मंगलवार को, सूर्य - शनि का समसप्तक योग, कुछ राज्यों में सत्ता परिवर्तन, हिंसक घटनाएं, अग्निकांड, बमकांड, अराजकता, युद्धमयी वातावरण इंगित करते हैं।
भारत की कुंडली , 15 अगस्त , 1947 रात्रि, 12 बजे, मोदी जी की 17 सितंबर,1950, महसाना तथा प्रधान मंत्री पद के दावेदार राहुल गांधी की 19 जून, 1970, दिल्ली, कांग्रेस पार्टी की 22 नवंबर,1969, बंगलौर, भाजपा की 6 अप्रैल 1980, दिल्ली तथा अन्य कई ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर यहां भविष्यवाणी की जा रही है।
2019 के लोकसभा चुनाव में परिणाम आश्चर्यजनक एवं अप्रत्याशित ही होंगे। कई राज्यों में भाजपा गठबंधन फीका रहेगा परंतु बंगाल, असम, कर्नाटक, गुजरात व पूर्वी राज्यों में वोट प्रतिशत बढ़ेगा। केंद्र में कुल मिला कर गठबंधन सरकार ही बनेगी जिसमें कई नए घटक शामिल हो सकते हैं। यह नव निर्मित गठबंधन सरकार हो सकती है परंतु ग्रहयोग के अनुसार नेतृत्व मोदी ही करेंगे।
कुल मिला कर 2019 में भारत विश्वपटल पर छाएगा। 2020 तक विश्व गुरु बनने का सपना पूरा होगा। टेक्नोलॉजी, विज्ञान, दूर संचार, परिवहन, सैन्य शक्ति, प्रक्षेपात्रों आदि क्षेत्रों में उन्नति होगी। तीन प्रसिद्ध राजनेताओं और 5 फिल्मी सितारों का शोक सहना पड़ सकता है। बैंकीय व्यवस्था में सुधार होगा। किसानों ओैर राम मंदिर का मामला अधिक तूल पकड़ेगा।
राम मंदिर - जब शनि मार्च 2020 में मकर राशि में ढाई साल के लिए आएगा तभी राम मंदिर का निर्माण संभव होगा और वह अवधि 2021 होगी।
2019 में नव संवत 2076 के अनुसार राजा शनि तथा मंत्री सूर्य होंगे जो एक दूसरे के परस्पर शत्रु ग्रह हैं। इस ग्रह - गठबन्धन से जनता में तनाव बढेगा परंतु न्याय पालिका सशक्त रहेगी। न्यायालयों द्वारा ऐतिहासिक और अप्रत्याशित फैसलों के लिए देश को तैयार रहना होगा। शनि न्यायाधीश हैं अतः 2019 में घोटालों के राजाओं को सजा मिलेगी तथा गुरु घंटालों पर शिकंजा और कसेगा तथा कई सालों से लंबित मुकदमों के फैसले होंगे। सर्वोच्च न्यायालय के कई अहम फैसले समूचे राष्ट्र् एवं जनसाधारण को प्रभावित कर सकते हैं। सूर्य - शनि के विरोधी चरित्र के कारण न्यायपालिका सरकार पर हावी रहेगी। देश में उपद्रव, हिंसा, सांप्रदायिक झगडे़े बढ़ेंगे । सीमा पर एक बार फिर सर्जिकल स्ट्र्ाइक टाईप आप्रेशन होगा। भारत वेैश्विक व्यापार में आगे बढ़ेगा। किसान आंदोलन जोर पकड़ेगा। मी टू का बुखार अप्रैल के बाद उतर जाएगा। उत्तरी भारत विशेषतः उत्तराखंड में कई बार भूकंप आने के योग बन रहे हैं अतः आपदा प्रबंधन को अधिक मजबूत बनाना आवश्यक है।
क्रूर ग्रहों की अधिकता के कारण भारत , पाकिस्तान तथा एशियाई राष्ट्र्ों में अशान्त वातावरण रहेगा।आर्थिक क्षेत्रों में अस्थिरता, समाज में हिंसा, आवेग के कारण साम्प्रदायिक घटनाएं होती रहेंगी। महागठबन्धन में नए समीकरण बनेंगे। आरोप- प्रत्यारोप जारी रहेंगे।
‘मोदी हटाओ -भाजपा भगाओ ’ के नारे विफल रहेंगे तथा विपक्षी पार्टियों का ‘ महागठबंन्धन ’ कुल मिला कर आपसी समन्वय न होने के कारण ‘ बैक टू स्केयर ’ हो जाएगा। सत्तारुढ़ एवं विपक्षी दल जनता से पैसा बटोरने की फिराक में रहेंगे। समाज का निम्न एवं उच्च वर्ग सरकारी नीतियों से लाभान्वित होगा परंतु मध्यम वर्ग भाजपा शासन में और पिसेगा।
कालसर्प योग के कारण चुनावों में दोनों मुख्य दलों की हालत पतली रहेगी। शनि महाराज कुंभ मेले , राम मंदिर निर्माण तथा धार्मिक आयोजनों को गति प्रदान करेंगे। मंदिर सत्ता - विपक्ष के मध्य , ‘टग ऑफ वार’ बना रहेगा।
रिजर्व बैंक तथा वित्त मंत्रालय की कुछ कमजोर नीतियों के कारण डालर के आगे हमारे रुपये को शर्मनाक स्थिति का मुंह देखना पड़ सकता है।गैस , पेट्र्ोल, डीजल, बिजली, दैनिक खाद्य वस्तुएं, आम आदमी का बजट हिला देंगे। सार्वजनिक एवं निजी बैंकों के लिए 2019 अधिक अच्छा नहीं रहेगा। इनका पूंजी आधार बढ़ाने के उद्ेश्य से कई नई नीतियां लाई जाएंगी परंतु बढ़ते बैंक शुल्कों औेर घटती बैंकीय सेवाओं से जनता क्षुब्ध रहेगी। बजट में वित मंत्रालय कुछ नए प्रयोग करेगा और जनता लुटेगी।
कृषि क्षेत्र का काफी हिस्सा बिल्डर्स लूट लेंगे जिससे कृषि उत्पादन में कमी आएगी। किसान आन्दोलन चलते रहेगें औेर कुछ नए नेता उभरते रहेंगे जो सरकार की गले की फांस बनेंगे। विश्वविद्यालयों में अराजकता और बढ़ेगी तथा संाप्रदायिकता रंग ओैर कढ़ेगा।
ग्रहण और भूकंप
इस साल 5 ग्रहण लगेंगे। सूर्य ग्रहण - 5/6 जनवरी , चंद्र ग्रहण- 21 जनवरी ,सूर्य ग्रहण- 2/3 जुलाई, चंद्र ग्रहण- 16/17 जुलाई तथा सूर्य ग्रहण-26 दिसंबर । भारत में केवल अंतिूम दो ग्रहण ही दिखेंगे। साल में 5 ग्रहण अधिक अच्छे नहीं माने जाते। लोकभविष्य के अनुसार इन ग्रहणों का प्रभाव भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदा में परिलक्षित होता है। 2019 में अफगानिस्तान , चीन, कश्मीर व उत्तराखंड का कुछ भाग इसकी चपेट में आ सकता है।

नए साल पर करें खरीदारी ,लाएं सुख समृद्धि और करें धन वृद्धि
नव वर्ष का अनमोल टिप
यदि नए साल ,पहली जनवरी या नए विक्रमी संवत , इस साल -6 अप्रैल , पर बैंक में नया खाता खोला जाए या पुराने खाते में धन जमा कराया जाए तो धन में निरंतर वृद्धि होती है।इस दिन किया गया कोई भी नया निवेश कई गुणा बढ़ जाता है। आप नई बीमा पालिसी, म्युचुअल फंड , सोने आदि में पहले दिन धन लगा सकते हैं। इसके अलावा बैंक या घर के लॉकर में, लाल या पीले कपड़े में 12 साबुत बादाम बांध कर रख दिए जाएं तो भी आभूषणों में वृद्धि होती रहती है और उसमें कभी कमी नहीं आती।यह काफी समय से प्रमाणित प्रयोग हैं जो भारतीय परंपरा , आस्था एवं ज्योतिष का एक भाग हैं। इस दिन लोन एकाउंट में पैसा लौटाएं और किसी को उधार न दें न किसी से लें। फिर देखिए आपके यहां बरकत कैसे नहीं होती !

राजनेताओं का भविष्य
श्री मोदी जी जिनका जन्म 17 सितंबर ,1950 को हुआ है, पहले से और अधिक सशक्त होंगे तथा कर प्रणाली में कई परिवर्तन करेंगे। जैसा कि हमने 2013 में मोदी सरकार बनने से पहले ही भविष्यवाणी की है कि वे 10 साल तक प्रधान मंत्री रहेंगे । अगला चुनाव उन्हीं के नाम रहेगा। यह बात नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी से भी मेल खाती है। इस साल मोदी नए विचारों से ओतप्रोत रहेगे और कई प्रकार के नए आर्थिक व सामाजिक प्रयोग करेंगे। वर्तमान प्रधान मंत्री की कुंडली के अनुसार उनकी साढ़ेसाती के साथ 6 माचर्, 2019 तक चंद्र- बुध की दशा है जिसके कारण 5 राज्यों में उनका नेतृत्व क्षीण रहा। 22 अप्रैल से गुरु भाग्य को उच्च दृष्टि से देखेगा ओर उन्हें पुनः उच्च पद देगा। संक्षेप में कहें तो मोदी 2019 में पुनः प्रधान मंत्री बनेंगे और विषम परिस्थ्तियों में भी ,भारत की वैश्विक छवि तथा अपनी आभा को और निखारेंगे।

श्रीमती सोनिया गांधी जिनका जन्म 9 दिसंबर 1946 को इटली में हुआ है, 2019 का वर्ष उनके लिए सामान्य रहेगा । वस्तुतः उनका राजनीतिक ग्राफ ढलान पर रहेगा परंतु कहीं न कहीं वे राहुल की सहायता के लिए आगे आती रहेंगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से उन्हें पेट संबंधी परेशानी हो सकती है। वे विश्रामावस्था में जा सकती हैं।

श्री राहुल गांधी ,का जन्म 19 जून 1970 में हुआ। जैसे ही गुरु सितंबर 2017 में तुला राशि में आए , इन्हें उच्च पद प्राप्त हो गया और कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया। लोकसभा चुनावों में ये अपनी छवि और निखार पाएंगे। राहुल गांधी की भी साढ़ेसाती चल रही है परंतु शनि नीच राशि में होने के कारण अभी उनका प्रधानमंत्री बनना संदिग्ध रहेगा हालांकि 9 अप्रैल के बाद उनकी छवि ओैर निखरेगी। कांग्रेस पार्टी की कुंडली में शनि लग्नस्थ है परंतु अन्य ग्रह योगों के अनुसार कुछ नए गठबंधन बनने तथा कई राज्यों में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद, यह पार्टी केंद्र में सत्ता प्राप्त नहीें कर पाएगी।
श्री अरुण जेतली, 28 दिसंबर 1952, आर्थिक सुधारों और बैेंकिंग प्रणाली को और सुदृढ़ बना पाने में सक्षम रहेंगे और 2019 में उनके मंत्रालय बदलने की कोई संभावना नहीं है। सेहत के प्रति विशेष ध्यान रखना होगा।
श्री राजनाथ सिंह , जन्म 12 फरवरी, 1950, की भी साढ़सती चल रही है और ये 2020 तक काफी प्रभावशाली रहेंगे।
श्री अमित शाह का जन्म 22 अक्तूबर ,1964 है और इनकी दशा 2019 से 2020 के मध्य सेहत के लिए खराब रह सकती है। राजनीतिक तौर पर 2019 का लोकसभा चुनाव इनके नेतृत्व में कुछ कमजोर रहेगा फिर भी केंन्द्र में सरकार भाजपा की ही लौटकर आएगी। कांग्रेस कुछ मजबूत होगी । भाजपा कुछ राज्यों में कमजोर पड़ेगी और कहीं इसे गठबंधन का सहारा लेना पड़ सकता है।
राज्यों का भविष्य
हरियाणा  
राज्य की प्रभावी राशि मीन के अनुसार ,सरकार को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा तथा राज्य में कई आन्दोलन होने की संभावना है जिसके कारण जनता एक बार फिर परेशान हो सकती है। 5 मई,1954 को जन्मे मनोहर लाल खटटर हरियाणा के सक्रिय विकास में आगे बढं़ेगे । सरकार अपना कार्यकाल पूरा कर लेगी। परंतु अन्य पार्टियां भी अपना प्रभाव बढ़ाने में कामयाब रहेंगी। मंत्रिमंडल में फेरबदल होगा और कई नए चेहरे सामने आएंगे। बार बार विभागीय परिवर्तनों से प्रशासकीय वर्ग नाराज हो सकता है। हरियाणा में लोकसभा चुनावों में भाजपा 2014 की तरह अपना प्रभाव नहीं दिखा सकेगी। कांग्रेस व इनेलो या कुछ जपपा जैसी पार्टियां अपना प्रभाव बढ़ा लेंगी। सत्तारुढ़ पार्टी में नेतृत्व तो यही रहेगा परंतु मंत्रीमंडल में समन्वय का अभाव रहेगा जिसके कारण जनछवि खराब होगी।
हिमाचल
6 जनवरी 1965 को जन्मे, जय राम ठाकुर ने 27 दिसंबर को राज्य के 13 वें मुख्य मंत्री के तौर पर शपथ ली थी ,और नई सरकार का गठन हुआ । हिमाचल की प्रभाव राशि भी मीन है। यह वर्ष हिमाचल के लिए परिवर्तन का समय रहेगा और चहुंमुखी विकास होगा। प्रदेश में वर्षा के कारण यातायात संबंधी परेशानियां बढ़ेगी। भूस्खल्न, भूकंप की आशंका से ंइंकार नहीं किया जा सकता। सत्ता पक्ष को विरोधियों की आलोचना शिकार बार बार होना पड़ेगा तथा हिमाचल की जनता वर्तमान सरकार की कारगुजारी से असंतुष्ट दिखेगी। राजनीतिक गतिरोध बढ़ सकता है।
पंजाब
इस प्रदेश की राशि कन्या होने से सरकार को वित्तीय प्रबन्धन की ओर अधिक ध्यान देना होगा। किसान, व्यापारी, श्रमिक व साधारण जनता परेशान रहेगी जबकि नशे तथा असामाजिक गतिविधियों पर नियंत्रण नहीं रह पाएगा। सीमा पर तस्करी व घुसपैठ पर अंकुश कम रहेगा। 11 मार्च 1942 को जन्मे मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य अक्तूबर के बाद खराब रह सकता है। मंत्रिमंडल में मामूली फेरबदल की संभावना बनेगी। पंजाब के मत्रिमंडल में किसी न किसी कारण अंतर्विरोध चलता रहेगा। वर्तमान मुख्यमंत्री को अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखना होगा। विद्युत आपूर्ति, बढ़ते कर, फैलता ड्र्ग व्यापार, आत्म हत्याएं, लूट खसूट, विदेश में बसे पंजाबियों की बढ़ती समस्याएं , समाचारों की सुर्खियां बनी रहेंगी। लोकसभा चुनावों में अकाली दल से कांटे की टक्कर रहेगी। एक सहयोगी के कारण कई बार असमंजस की स्थिति बनेगी।
चंडीगढ़
इस नगर का जन्म 1 नवंबर 1966 और राशि मेष होने तथा वास्तु के अनुरुप होने से इसका विकास चलता रहेगा। 2019 में पुलिस व प्रशासन में व्यापक परिवर्तन आएगा। क्राईम ग्राफ में वृद्धि होगी। यातायात की समस्या नया रुप लेगी। टैक्स बढ़ने से जनता परेशान रहेगी। नगर में सांस्कृतिक गतिविधियों में वृद्धि होगी तथा कोई चंडीगढ़ वासी विश्व में देश का नाम रोशन करेगा।
दिल्ली
दिल्ली में भाजपा लौट सकती है और कांग्रेस का प्रभाव भी बढ़ेगा। 2019 में कुछ नई समस्याएं उभरंेगी। यातायात, दूसरे राज्यों से अधिक संख्या में प्रवासियों का आना, प्रदूषण, कानून व्यवस्था का चरमराना , नई बीमारियों का उभरना मुख्य बिन्दु रहेंगे।
- मदन गुप्ता सपाटू, 196 सैक्टर 20ए, चंडीगढ़

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और एस्ट्रोलॉजी ख़बरें
दीवाली के पंच पर्व, दिवाली पर कब करें लक्ष्मी पूजा? दिवाली पर लक्ष्मी पूजा की विधि संतान की मंगलकामना के लिए अहोई अष्टमी का व्रत 21 अक्टूबर को 30 साल बाद शरद पूर्णिमा पर बेहद दुर्लभ योग : 13 अक्टूबर, रविवार को मनाई जाएगी 17 अक्तूबर को करवा चौथ में ग्रहों का कोेई संशय नहीं देशभर से 11 से जुटेंगे नामी ज्योतिषी और आयुर्वेदाचार्य, जो बताएंगे भविष्य और नाड़ी देख कर सेहत 6 अक्तूबर श्री दुर्गा अष्टमी पर व्रत रखने व कन्या पूजन का समय 29 सितंबर से आरंभ होने वाले शारदीय नवरात्र इस बार पूरेे 9 दिन लक्ष्य ज्योतिष संस्थान के निशुल्क ज्योतिष कैंप में लोगों ने कुंडली दिखा जाना भविष्य श्राद्ध पक्ष. 13 सितंबर से 28 सितंबर तक, श्राद्ध एक दिन कम होगा,क्यों करें श्राद्ध ? दो से 12 सितंबर तक मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शन