ENGLISH HINDI Tuesday, November 12, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादेंप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल हरियाणा पुलिस का ई-सिगरेट पर अंकुश लगाने के लिए विशेष अभियान शुरू
मनोरंजन

सामाजिक धारणा और मनोवैज्ञानिक रिस्ते दर्शाती फिल्म है चगल

January 30, 2019 08:00 PM
चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री
चगल-सामाजिक धारणा और मनोवैज्ञानिक रिस्ते दर्शाती फिल्म है-चगल-  मशहूर कहानीकार गुरबचन सिंह भुल्लर द्वारा लिखी व भगवंत सिंह कंग द्वारा निर्देशित है। बलजीत सिंह इसमें मुख्य भूमिका में उनका कहना है कि वह हमेशा रीयल जमीन से जुडुे किरदार करते हैं ।
पंजाबी फिल्म -चगल-के यूट्यूब प्रीमियर के संबंध मे आज चंडीगढ़ में एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। पंजाबी सिनेमा के प्रचार, प्रसार में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रयासरत निर्माता, पेशकर्ता साबी सांझ की देख रेख व फोक फिल्म स्टूडियो के बैनर तले रिलीज की जा रही इस फिल्म की सह निर्माता मनदीप सिद्धू, हरमीत भुल्लर, सहित निर्माता जस संधू व हसन्रपीत सिद्धू तथा वीडियो एडिटर नवजोत सिंह हैं।
पंजाबी फिल्म उद्यौग को अर्थपूर्ण सिनेमों में आगे बढ़ाने की पूर्ण स्मरथा रखती इस फिल्म में थिएटर जगत के मंझे हुए कलाकारों बलजीत सिंह, अमन भोगल व चन्नी निरमाण ने अपनी कला का प्रदर्शन किया है। इनके अलावा इस फिल्म में कई और कलाकार भी अहम भूमिकाओं में नजर आएंगे।
काबिलेजिक्र है कि फोक फिल्म स्टूडियो द्वारा पंजाबी साहित क्षेत्र में विलक्षण पहचान रखने वाले कहानीकार गुरबचन सिंह भुल्लर की कहानियों -दीवे वांग बलदी अख- तथा -तोरी दी वेल- पर पहले ही फिल्में बनाई जा चुकी हैं। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए निर्देशक भगवंत सिंह कंग ने बताया कि उन द्वारा हमेशा अच्छी व पंजाबी की शान को बढ़ाने वाली फिल्मों की ही पहल दी गई है, जिसके मद्देनजर ही पंजाबी के प्रसिद्ध कहानीकारों की बेहतरीन कहानियों पर उन द्वारा बतौर निर्देशक बनाई गई लघू फिल्मों को दर्शकों का भरपूर समर्थन मिल रहा है।
उन्होंने कहा, यह खुशी की बात है कि मां बोली सिनेमा आज ग्लोबल स्तर पर नए कीर्तिमान स्थापित करता जा रहा है और फार्मूला से हटकर बनाई गई अलग विषय की फिल्में चाहे वे लघू फिल्में ही क्यों न हों, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान कायम कर रही हैं, जिनके जरिए अनेक नए व प्रतिभावान चेहरों को भी बेहतर प्लेटफार्म मिल रहा है। उन्होंने कहा कि हमेशा की तरह आगे भी उनकी कोशिश ऐसी ही बेहतरीन व अर्थपूर्ण फिल्में बनाने की रहेगी।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और मनोरंजन ख़बरें
साडा राम कांशी राम गीत के वीडियो का पोस्टर रिलीज सुरक्षा कारणों से गुरदास मान का शो किया रद, सुनंदा और परमिश वर्मा के खिलाफ थाने में शिकायत अमोल पाराशर को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला मॉडलिंग प्रतियोगिता में सिरसा की डॉ० दीक्षा ने पाया तीसरा स्थान चेलेंजिग रोल करना पसन्द हैं :नेहा मलिक दिल की डॉक्टर निहारिका कैटरीना की तरह दर्शकों के दिल पे करना चाहती है राज हरियाणा को फिल्म निर्माण का केंद्र बनाना चाहते हैं सतीश कौशिक रोमांचक रोमांस से भरपूर है फिल्म सुर्खी बिंदी बालीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना बने ड्रीम गर्ल चण्डीगढ़ एन्क्लेव सोसाइटी की मिस मल्लिका बनी गृहलक्ष्मी तीज क्वीन