ENGLISH HINDI Wednesday, August 12, 2020
Follow us on
 
पंजाब

गतका और सिक्ख शस्त्र कला को निजी स्वामित्व के तौर पर रजिस्टर्ड करवाना सरासर गलत :ढींढसा

March 19, 2019 10:09 AM

श्री अकाल तख्त साहिब को इस धार्मिक मुद्दे पर दख़ल देने के लिए कहा

चंडीगढ़ : राज्यसभा सदस्य, अकाली नेता व विश्व गतका फेडरेशन (रजि़.) के चेयरमैन स. सुखदेव सिंह ढींडसा दिल्ली की एक कंपनी द्वारा सिक्ख शस्त्र कला और गत्के के नाम को ट्रेड मार्क कानून के अंतर्गत रजिस्टर्ड (पेटैंट) करवाने की कठोर निंदा की है.उन्होंने कहा कि गतका और शस्त्र विद्या गुरू साहिबान द्वारा सिक्खों को बख्शी हुई बहुमूल्य रहमत है और पुरातन सिक्ख इतिहास और विरासत के साथ जुड़ी हुई समुची कौम की गौरवमयी और पुरातन खेल है जिसका मालिक कोई भी नहीं बन सकता और न ही कोई इसको रजिस्टर्ड या पेटैंट करवा सकता है।

यहां एक बयान में विश्व गतका फेडरेशन के चेयरमैन स. सुखदेव सिंह ढींडसा ने हैरानी प्रकट करते हुये कहा कि कंपनी कानून के अंतर्गत रजिस्टर्ड एक निजी फर्म द्वारा गतका और सिक्ख शस्त्र कला के नामों को ट्रेड मार्क कानून के अंतर्गत पेटैंट करवाना समझ से परे है क्योंकि सिक्खी और सिक्ख इतिहास के साथ भद्दा मज़ाक है। ऐसे व्यक्ति का यह कदम सिक्ख धरोहर पर कब्ज़ा करने के बराबर है जोकि मन्दभागी बात है और कोई भी सिक्ख इसको सहन नहीं कर सकता।

ढींडसा कहा कि सिक्ख शस्त्र कला का गुरू इतिहास, गुरूबानी और सिक्ख सभ्याचार के साथ सम्बन्ध होने के कारण श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को भी इस धार्मिक मुद्दे पर दख़ल देकर इन दोनों ट्रेड मार्कों के स्वामित्व को तुरंत रद्द करवाना चाहिए. उन्होंने कहा कि श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा ऐसी व्यवस्था कायम की जाये कि भविष्य में भी कोई व्यक्ति सिक्ख धरोहर पर ऐसा कब्ज़ा करने या उसे बेचने या उसके द्वारा पैसा कमाने की छूट किसी को भी न दी जाये।

इसी दौरान स. सुखदेव सिंह ढींडसा ने यह भी कहा कि दिल्ली में मार्च महीने इसी निजी फर्म द्वारा करवाई जा रही ‘विश्व गतका लीग’ के साथ विश्व गतका फेडरेशन का कोई सम्बन्ध नहीं और न ही इस गतका लीग को विश्व गतका फेडरेशन द्वाराकोई मान्यता दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि स्थापित खेल कानूनों और नियमों के अनुसार किसी भी स्तर का राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय टूर्नामैंट सिफऱ् उसखेल की संबंधित विश्व खेल फेडरेशन या राष्ट्रीय खेल फेडरेशन की निगरानी और नेतृत्व अधीन ही करवाया जा सकताहै और केंद्र सरकार द्वारा लागू किये गये नेशनल स्पोर्टस कोड और भारतीय ओलम्पिक चार्टर भी इस संबंधी स्पष्ट है।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
जन्माष्टमी की रात कफ्र्यू में ढील सरकारी स्कूलों में दाखि़ले के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट की बन्दिश ख़त्म करने की हिदायत कोविड के मद्देनजऱ 4000 तक और कैदी रिहा किये जाएंगे: रंधावा ‘ऐजूकेशन हब्ब’ के तौर पर विकसित होगा मोहाली, यूनिवर्सिटी की स्थापना के लिए ‘लैटर ऑफ इनटैंट’ जारी सेना के गुम हुए जवान सतविंदर कुतबा के परिवार को अभी भी वापस आने की उम्मीद शहीदों को याद करना मतलब युवा पीढ़ी को जागरूक करना रेहड़ी—फड़ी वालों ने कब्जा कर लोगों के लिए की परेशानी खड़ी, ना मास्क— ना ही सोशल डिस्टेंसिंग सीचेवाल मॉडल की तर्ज पर 15 गांवों की नुहार बदलने का लक्ष्य मेडीकल अधिकारियों के 323 पदों के लिए इंटरव्यू द्वारा की जायेगी भर्ती पुलिस द्वारा कार्यवाही, 400 किलो लाहन, पाँच किश्तियां बरामद