ENGLISH HINDI Friday, September 25, 2020
Follow us on
 
हिमाचल प्रदेश

मैं उल्लू हूं पर इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं

May 14, 2019 06:40 PM

शिमला, (विजयेन्दर शर्मा) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर ने कहा कि मीडिया मुझे बेवकूफ समझती है। मैं उल्लू हूं पर इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं। मैं षड्यंत्र का शिकार हुआ। लोकसभा चुनाव में भाजपा हारने वाली है। आगामी 23 मई को राजनीतिक दौर में बदलाव आएगा और कांग्रेस आगे बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि मेरे 7 दिसंबर, 2017 को दिए बयान के एक शब्द के साथ एक और शब्द जोड़कर मीडिया में बार-बार दिखाते रहे। जबकि पूरे बयान को कभी नहीं दिखाया गया।
कोई झूठ बार-बार बोला जाए तो सच समझा जाने लगता है। उन्होंने कहा कि मैं मीडिया और षड्यंत्र का शिकार हुआ और आज मुझे एआईसीसी से किसी भी प्रकार का बयान मीडिया में देने से रोका गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मेरे बयान पर सफाई दे दी है और अब मुझे इस पर कोई सफाई नहीं देनी है। पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर ने मंगलवार को शिमला स्थित पंजाब सरकार के सर्किट हाउस में पहले तो बात करने साफ मना कर दिया और कहा कि मैं पहले भी मीडिया के षड्यंत्र का शिकार हुआ है।
जब उनसे पूछा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के अन्य नेता बढ़िया होटलों में ठहरे हैं और आप सर्किट हाउस में क्यों ठहरे हैं? उन्होंने कहा कि मैं निजी दौर पर आया हूं और इस कारण पंजाब सरकार के सर्किट हाउस में ठहरा हूं।
चार साल की उम्र में सबसे पहले शिमला आया था और अब यह शहर काफी बदल गया है। राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर खुश किस्मत हैं, शिमला के बीच में रह रहे हैं। अय्यर ने मीडिया पर भड़कते हुए कहा कि मुझे बर्बाद किया है और षड्यंत्र का शिकार हुआ और मुझे कांग्रेस से निष्कासित किया गया। मुझे एक दिन अपनी बात रखने का मौका जरूर मिलेगा। उन्होंने कहा कि जब मैं छह साल का था तो पंडित जवाहर लाल नेहरू के संपर्क में आया था।
उस दौर की अच्छी राजनीति से वर्तमान की राजनीति से तुलना नहीं की जा सकती। स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में पंडित नेहरू ने पहले का कह दिया था कि एक दिन यह युवक जरूर प्रधानमंत्री बनेगा। उस समय जनसंघ के कुल चार सांसद चुने गए थे।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
छात्रवृति योजनाओं की ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30 नवम्बर साईकलिंग को बनायें स्वस्थ जीवन का हिस्सा आपदा स्थिति में त्वरित राहत एवं बचाव कार्यों से किया जा सकता है जानमाल की क्षति को कम ग्रामीण विकास कार्यों की रफतार बढ़ाने पर दें जोर: एडीसी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आई, हो रही है अब फसली नुकसान की भरपाई खांसी, बुखार, जुकाम जैसे लक्षण वाले व्यक्ति हेल्पलाईन नम्बर 104 या 1077 पर करें सम्पर्क 12 रूटों पर रात्रि बस सेवा आरम्भ की जाएंगी ट्रूनाट और रैपिड एंटीजेन टेस्ट तकनीक कोविड-19 की लड़ाई में बनी गेम चेंजर: सीएमओ कोविड-19 मरीजों का ईलाज कर रहे चिकित्सकों व पैरा-मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा भी सुनिश्चित होः मुख्यमंत्री आवश्यक वस्तुओं के परचून विक्रय मूल्य किए निर्धारित