ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
आल कांटरैैक्चुअल कर्मचारी संघ ने सांसद किरण खेर, चंडीगढ़ प्रशासन और नगर निगम के खिलाफ निकाला कैंडल मार्च और किया रोष प्रदर्शनयूपी और मध्यप्रदेश से भुक्की लाकर पंजाब में बेचने वाले तीन तस्कर डेराबस्सी में काब, रिमांड पर भेजेदीवाली के पंच पर्व, दिवाली पर कब करें लक्ष्मी पूजा? दिवाली पर लक्ष्मी पूजा की विधिमिशन तंदुरुस्त को ठेंगा दिखा थाने के बाहर छंटाई के नाम पर काटे हरे-भरे पेड़हरियाणा में करीब 65 प्रतिशत मतदानजीरकपुर में लोग पटाखे फोड़ने को तैयार, कहीं आग लगी तो बुझाएगा कौन? तेज रफ्तार कार ने थ्री व्हीलर को मारी टक्कर, 2 घायलई-रिक्शा, बैटरी चोरी करने के आरोप में एक काबू
राष्ट्रीय

वर्कशॉप ऑन लिमफोमा में दी रक्त रोगों की जानकारी

June 08, 2019 10:45 PM

ऋषिकेश, (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में वर्कशॉप ऑन लिमफोमा का आयोजन किया गया। जिसमें विशेषज्ञ चिकित्सकों ने रक्त में पाए जाने वाले लिमफोमा कैंसर के विषय पर नवीनतम डेवलपमेंट, शोधों, परीक्षण व चिकित्सा पर व्याख्यानमाला प्रस्तुत की। एम्स ऋषिकेश के कैंसर चिकित्सा रुधिर विज्ञान विभाग के तत्वावधान में शनिवार को मिनी ऑडिटोरियम में वर्कशॉप ऑफ लिमफोमा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अपने संदेश में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि रक्त से जुड़े लिमफोमा कैंसर के बाबत नवीनतम शोधों, कैंसर की जांच पड़ताल व उपचार विषय पर जानकारियों को साझा करना जरुरी है। जिससे रोगियों को समुचित उपचार मिल सके। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि उत्तराखंड व समीपवर्ती क्षेत्रों से एम्स संस्थान में लिमफोमा से जुड़े कई मरीज आ रहे हैं, इनमें बच्चे व वयस्क शामिल हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे मरीजों को संस्थान की ओर से आधुनिक चिकित्सा के माध्यम से 50 से 90 फीसदी ग्रसित लोगों को रोगमुक्त किया जा रहा है। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने बताया कि अस्पताल में आने वाले मरीज विभिन्न प्रकार के लिमफोमा से ग्रस्त पाए जा रहे हैं। बताया कि ऐसे रोगी उत्तराखंड ही नहीं बल्कि उत्तरप्रदेश, दिल्ली, हिमाचल आदि स्थानों से ऋषिकेश एम्स में उपचार कराने को आ रहे हैं। कार्यशाला में टाटा मैमोरियल हॉस्पिटल मुंबई के प्रो. गौरव नरूला और प्रो. सुमित गुजराल ने व्याख्यान में रक्त से जुड़े लिमफोमा कैंसर के लक्षण, पहचान व परीक्षण प्रणाली व उपचार से संबंधित विस्तृत जानकारी दी। कार्यशाला में विभिन्न मेडिकल संस्थानों से आए करीब 70 चिकित्सकों ने प्रतिभाग किया। इनमें एम्स के अलावा हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट, दून अस्पताल, टाटा मैमोरियल हॉस्पिटल मुंबई, डीएमसी हॉस्पिटल लुधियाना आदि के प्रतिनिधि शामिल थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये