ENGLISH HINDI Tuesday, November 12, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
अज्ञात बुजुर्ग का शव मिलाहोटल भी अवैध, एसटीपी भी नहीं, कौन दे रहा लोगों की सेहत से खिलवाड़ की इजाजतमंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जीपूर्वांचल वेलफेयर एसोसिएशन ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकटोत्सव के उपलक्ष्य में छठ पूजा स्थल पर दीपमालासामूहिक विवाह समारोह: राष्ट्रीय हिन्दू शक्ति संगठन ने वैवाहिक जोड़ों को जीवन यापन का समान किया भेंटकरतारपुर साहिब से लौटे इन्फोटेक चेयरमैन एसएमएस संधू ने साझा की यात्रा की सुनहरी यादेंप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन मेंबर रचना गुप्ता की गलोबल इन्वैस्टर मीट में मौजूदगी से मचा बवाल हरियाणा पुलिस का ई-सिगरेट पर अंकुश लगाने के लिए विशेष अभियान शुरू
राष्ट्रीय

भारतीय भाषाओं को अधिक सशक्त बनाने पर बल

June 14, 2019 07:01 AM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने समीक्षा बैठकों के क्रम को आगे बढ़ाते हुए मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले केंद्रीय भाषायी संस्थानों के प्रमुखों के साथ समीक्षा बैठक की। डॉ. 'निशंक' ने संस्कृत, हिंदी, उर्दू, सिन्धी, तमिल सहित भारतीय भाषाओं के लिए समर्पित संस्थानों को अधिक सशक्त बनाने पर बल दिया।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारतीय भाषाओं को सशक्त करना हमारा लक्ष्य है इसके लिए रिक्त पदों को शीघ्रातिशीघ्र भरना हमारी प्राथमिकता होना चाहिए। मंत्री ने निर्देश दिया कि मंत्रालय के अधिकारियों के साथ केंद्रीय भाषायी संस्थानों के प्रमुखों की लगातार समीक्षा बैठक होती रहनी चाहिए जिससे भारतीय भाषाओं के विकास को लगातार गति मिल सके।
डॉ. 'निशंक' ने कहा कि संस्कृत शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अधिक से अधिक प्रशिक्षित संस्कृत अध्यापकों की संख्या को बढ़ावा देने का लक्ष्य होना चाहिए ताकि संस्कृत भाषा को नया आयाम मिल सके। इसके माध्यम से हम दुनिया तक संस्कृत को पंहुचा सकते हैं। डॉ. निशंक ने संस्कृत पर विशेष बल देते हुए कहा कि संस्कृत संस्थानों को अपने आस पास कम से कम दो गांवों को संस्कृत भाषी बनाने का लक्ष्य रखना चाहिये।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारतीय भाषाओं के विकास के बारे में नए तरीके से सोचने की आवश्यकता है। भारतीय भाषाओं मे नए शोध की आवश्यकता है साथ ही साथ इन्हें वैज्ञानिक दृष्टि प्रदान किये जाने की भी आवश्यकता है जिससे ये भाषाएँ राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय जगत में अपनी पहचान बना सके। डॉ. 'निशंक' ने कहा कि भारतीय भाषाओं के सहित्य को एक दूसरी भाषा में अनुवाद होना चाहिए ताकि सभी को श्रेष्ठ साहित्य उपलब्ध हो सके और राज्यों में आपसी तालमेल स्थापित हो सके।
केंद्रीय मंत्री ने सुझाव दिया कि हिंदी प्रचारिणी सभाओं और स्थानीय भाषाओं के बीच में बेहतर समन्वय से सभी भारतीय भाषाओं का विकास सुनिश्चित किया जा सकता है।
मंत्री ने आने वाले वर्षों में एक भाषा भवन के निर्माण का लक्ष्य रखा जिसमें सभी भारतीय भाषाओं को संवर्धित करने वाले विभागों को एक साथ लाया जायेगा जिससे सभी भारतीय भाषाओं में बेहतर समन्वय स्थापित किया जा सकेगा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
सड़क दुर्घटना में पौड़ी गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत समेत तीन घायल सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ साधु संतों ने की बैठक अमेज़न फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के लिए 10 नवम्बर को दिल्ली में व्यापारियों की राष्ट्रीय बैठक आरसीईपी को अपनाने के केंद्र के निर्णय का सीआईआई ने किया समर्थन इस्‍पात मंत्री ने निवेशकों को भारत के विकास क्रम में भागीदार बनने का न्‍यौता दिया नराकास पंचकूला द्वारा स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता आयोजित ईपीएफओ पेंशन न्यूनतम 7500 रूपये करने की मांग तेज झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के कार्यक्रम की घोषणा वॉट्सऐप में जल्द शुरू होगा पेमेंट की खास सर्विस: सीईओ ज़करबर्ग राष्ट्रपति करेंगे 2 से 4 नवम्बर तक सिक्किम और मेघालय का दौरा