ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
आल कांटरैैक्चुअल कर्मचारी संघ ने सांसद किरण खेर, चंडीगढ़ प्रशासन और नगर निगम के खिलाफ निकाला कैंडल मार्च और किया रोष प्रदर्शनयूपी और मध्यप्रदेश से भुक्की लाकर पंजाब में बेचने वाले तीन तस्कर डेराबस्सी में काब, रिमांड पर भेजेदीवाली के पंच पर्व, दिवाली पर कब करें लक्ष्मी पूजा? दिवाली पर लक्ष्मी पूजा की विधिमिशन तंदुरुस्त को ठेंगा दिखा थाने के बाहर छंटाई के नाम पर काटे हरे-भरे पेड़हरियाणा में करीब 65 प्रतिशत मतदानजीरकपुर में लोग पटाखे फोड़ने को तैयार, कहीं आग लगी तो बुझाएगा कौन? तेज रफ्तार कार ने थ्री व्हीलर को मारी टक्कर, 2 घायलई-रिक्शा, बैटरी चोरी करने के आरोप में एक काबू
राष्ट्रीय

बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के बिना अच्छे समाज का निर्माण कठिन: प्रो. रविकांत

June 18, 2019 11:50 AM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि बिना बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के बेहतर समाज का निर्माण मुश्किल है, लिहाजा यह विषय प्राथमिकता में होना आवश्यक है। कार्यशाला में बाल रोग विभाग, नियोनेटोलॉजी विभाग के जूनियर चिकित्सक व नर्सिंग अधिकारियों ने प्रतिभाग किया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि संस्थान की ओर से नियोनेटोलॉजी विभाग को आधुनिकतम सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, जिससे मरीजों को बेहतर उपचार मिल सके। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थागत स्तर पर भविष्य में भी इसकी गुणवत्ता में सुधार की हरसंभव कोशिश की जाएगी। उन्होंने गुणवत्ता सुधार को लेकर संस्थान के नियोनेटोलॉजी विभाग के प्रयासों की सराहना की। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान रोगियों को वर्ल्ड क्लास स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है और इसको लेकर सततरूप से प्रयास किए जा रहे हैं,जिससे रोगियों को संस्थान में समुचित उपचार मिल सके और उन्हें इसके लिए प्रदेश से बाहर नहीं जाना पड़े। विभागाध्यक्ष प्रोफेसर श्रीपर्णा बासू की देखरेख में आयोजित कार्यशाला में नियोनेटोलॉजी विभाग के अकादमिक चिकित्सक डा. शांतनु शुभम ने गुणवत्ता सुधार की अवधारणाओं से अवगत कराया और गुणवत्ता सुधार के दो चरणों परिवर्तन का विकास और परीक्षण तथा निरंतर सुधार पर चर्चा की। विभाग की अकादमिक चिकित्सक डा. जया उपाध्याय ने गुणवत्ता सुधार के अन्य दो चरणों समस्या की पहचान, टीम का गठन और उद्देश्य व्यक्तव्य लिखना तथा समस्या का विश्लेषण और देखभाल की गुणवत्ता को मापना विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने अपनी गुणवत्ता सुधार परियोजना विकासात्मक सहायक देखभाल के अनुभव साझा किए, जिसे उन्होंने पूरा किया। विभाग की नर्सिंग अधिकारी गायत्री ने एनआईसीयू में चल रहे गुणवत्ता सुधार परियोजनाओं के साथ अनुभव साझा किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये