ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
आल कांटरैैक्चुअल कर्मचारी संघ ने सांसद किरण खेर, चंडीगढ़ प्रशासन और नगर निगम के खिलाफ निकाला कैंडल मार्च और किया रोष प्रदर्शनयूपी और मध्यप्रदेश से भुक्की लाकर पंजाब में बेचने वाले तीन तस्कर डेराबस्सी में काब, रिमांड पर भेजेदीवाली के पंच पर्व, दिवाली पर कब करें लक्ष्मी पूजा? दिवाली पर लक्ष्मी पूजा की विधिमिशन तंदुरुस्त को ठेंगा दिखा थाने के बाहर छंटाई के नाम पर काटे हरे-भरे पेड़हरियाणा में करीब 65 प्रतिशत मतदानजीरकपुर में लोग पटाखे फोड़ने को तैयार, कहीं आग लगी तो बुझाएगा कौन? तेज रफ्तार कार ने थ्री व्हीलर को मारी टक्कर, 2 घायलई-रिक्शा, बैटरी चोरी करने के आरोप में एक काबू
राष्ट्रीय

बांग्लादेश और दक्षिण कोरिया के चैनल दूरदर्शन फ्री डिश पर

June 19, 2019 09:17 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
भारत-बांग्लादेश संबंधों को व्यापक प्रोत्साहन देते हुए भारत सरकार ने बांग्लादेश टीवी के स्वामित्व वाले चैनल बीटीवी वर्ल्ड को दूरदर्शन फ्री डिश पर दिखाने का फैसला किया है। इससे यह चैनल हमारे देश में दर्शकों को दूरदर्शन पर उपलब्ध हो सकेगा। साथ ही डी.डी.इंडिया बांग्लादेश को उपलब्ध कराया जाएगा, ताकि वहां की जनता उसे देख सके। यह व्यवस्था प्रसार भारती और बांग्लादेश टीवी (बीटीवी) के बीच 07 मई को हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन का परिणाम है। बीटीवी चैनल में पूर्वी भारत के दर्शकों की विशेष दिलचस्पी होगी। यह निर्णय दोनों देशों के संबंधों को सशक्त बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है और दोनों देशों की सरकारों द्वारा पहले लिए गए बंग-बंधु शेख मुजीबुर्रहमान पर फिल्म के सह-निर्माण के निर्णय का अनुगमन है। इस फिल्म का निर्देशन विख्यात फिल्म निर्देशक/निर्माता श्री श्याम बेनेगल करेंगे।
सरकार ने दक्षिण कोरिया सरकार के अंग्रेजी भाषी 24x7 चैनल केबीएस वर्ल्ड को भारतीय दर्शकों के लिए डीडी फ्री डिश पर उपलब्ध कराने के प्रसार भारती के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है। साथ ही कोरिया के लोग भी अपने देश में बैठे बैठे डी.डी.इंडिया के कार्यक्रम देख सकेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये