ENGLISH HINDI Friday, December 06, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

श़िपिग में महिलाओँ की संख्या बढ़ाने को लेकर सीफेरर डे का आयोजन

June 25, 2019 09:43 PM

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री।
‘मैं लिंग समानता वाले बोर्ड पर हूं’ के कैंपेन के साथ चंडीगढ़ में सीफेरर डे का आयोजन किया गया। इसका आयोजन मर्चेंट नेवी आफिसर्स एसोसिएशन (एमएनओए) द्वारा कंपनी आफ मास्टर मेरिनर्स आफ इंडिया, फ्लीट शिप मैनेजमेंट (कैरावेल ग्रुप) ) और चंडीगढ़ याचिंग एसोसिएशन के सहयोग से किया गया।

यह आयोजन लेक स्पोर्ट्स कांप्लेक्स सेक्टर-1 चंडीगढ़ में किया गया। इस मौके पर मेजर जनरल रामबीर सिंह मान, वीएसएम, एडीजी एनसीसी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे जबकि इस मौके पर गेस्ट आफ आनर वाइस एडमिरल एच.एस. मल्ही (सेवानिवृत्त) एवीएसएम, वीएसएम रहे। इस मौके पर चीफ अफसर सिमरन मान ने भी महिलाओं को मर्चेंट नेवी ज्वाइन करने की प्रेरणा दी।

विश्व समुद्री दिवस की इस साल की थीम 'समुद्री समुदाय में महिलाओं का सशक्तीकरण रही।‘ डे ऑफ द सीफेरर’ के मौके पर मैं लिंग समानता वाले बोर्ड पर हूं अभियान चलाया गया। एमएनओए के अध्यक्ष, बलबीर सिंह मंगत ने कहा कि शिपिंग कंपनियों को महिलाओं को मौका देना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाओँ के द्वार खोले जाने चाहिए। इसके साथ ही समुद्री जहाजों पर काम करने वाली महिलाएं सभी विशेषज्ञताओं में मिल जाती हैं। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (आईएमओ) द्वारा समुद्री महिला कार्मिकों को कम उपयोगी और अल्पविकसित संसाधन के रूप में लिया जाता है । उन्होंने कहा कि यदि महिलाओं को शामिल किया जाये, तो जहाजों पर चालक दल के सदस्यों की कमी को दूर किया जा सकता है।

मर्चेंट नेवी में महिलाएं आसानी से लीड कर सकती हैं। एमएनओए के महासचिव, अजीत सिंह ने कहा कि अब मैरीटाइम ला की सबसे ज्यादा आवश्यकता है। इससे महिलाओँ में यौन उत्पीडऩ केस कम होगा। इसके साथ ही महिलओं के प्रति अवधारणा बदलने की आवश्यकता है। सीएमएमआई (चंडीगढ़ चैप्टर) के अध्यक्ष, कैप्टन मोहन सिंह जज ने कहा, 2 प्रतिशत महिलाओं में, लगभग 94 प्रतिशत क्रूज शिप्स पर हैं और वे यात्रियों का प्रबंधन करती हैं।

' महिला सीफेरर ग्लोबल मैनपावर का 39.3 फीसदी हैं। यह संख्या जल्द ही बढ़ाया जाना चाहिए। फ्लीट शिप मैनेजमेंट (कैरावेल ग्रुप) के कैप्टन के जे एस सुजलाना ने कहा, 'यौन उत्पीडऩ का भय महिलाओं को इस करियर में आने से हतोत्साहित करता है। पुराने जमाने के विचार और महिलाओं के नाविक के रूप में रोजगार को लेकर सामाजिक धारणाएं निर्मूल हैं। पुरुष केंद्रित माहौल में प्रवेश करने के लिए जबरदस्त मानसिक शक्ति, धैर्य और इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है, जो मुझे लगता है कि आज की महिलाओं के पास है। इस समारोह के दौरान समुद्री एसाइनमेंट से जुड़ी महिलाओं ने प्रतिभागिता की। इसका उद्देश्य युवा लड़कियों को समुद्री एसाइनमेंट से जोडऩा रहा।

इनमें बताया गया कि किस प्रकार से महिलाएं अपना कैरियर इस दिशा में बना सकती हैं। इस मौके पर कई मैरीटाइम कैरियर एवेन्यू के बारे में चर्चा की गई।इस मौके पर चंडीगढ़ विंग की तीस महिला कैडेट भी मोजूद रहीं। इस मौके पर कैप्टन पी बिष्ट भी मौजूद रहे। उन्होंने सभी का उत्साह वर्धन किया। ग्लोबल शिपिंग इस वर्ष यह दिन और भी अधिक महत्व रखता है, क्योंकि यह दुनिया भर के सात समुद्रों में भारतीय समुद्री शिपिंग के 100 साल पूरे होने का अवसर है। भारत का एसएस लॉयल्टी शिप पहली बार 1919 में समुद्र में रवाना किया गया था।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
बढ़ती हुई रेप एवं हत्याओं की वारदातों के विरोध में जोरदार धरना-प्रदर्शन किया युवाओं ने स्ट्रीट वेंडिंग एक्ट के खिलाफ एकजुट हुए वेंडर्स: नगर निगम के खिलाफ मुंह पर काला कपड़ा बांध किया साइलेंट प्रोटेस्ट संघर्ष विकास सभा ने डॉ. प्रियंका रेड्डी को श्रद्धांजलि दी : आरोपियों को जल्द फांसी देने की मांग भी की गांव दडुआ में हाईटेंशन तारों को हटाने का काम शुरू, सांसद किरण खेर का धन्यवाद किया धर्मेंद्र सैनी ने हैदराबाद काण्ड : चण्डीगढ़ शिव सेना द्वारा श्रद्धांजलि सभा का आयोजन रैन बसेरों का जल्द प्रबंध करने के लिए प्रशासक को पत्र लिखा युवा कांग्रेस ने 42660 रूपये के डिजिटल भुगतान पर 535 रुपया का बैंक चार्ज, पेयूमनी एवं खालसा कॉलेज चंडीगढ़ को 10 हजार रूपये का जुर्माना राज्यपाल ने क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय की राजभाषा पत्रिका ‘‘हिन्दी गौरव‘‘ के तृतीय अंक का किया विमोचन वायु प्रदूषण को किया जा सकता है नियंत्रित: स्टार्टअप इंडिया प्रोजेक्ट के तहत दो युवा दोस्तों ने किया इसे इज़ाद पुनर्वास कॉलोनी में मकानों क़े आगे पानी भरने से बना तालाब