ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

काले धन पर सभी देशों के बीच सूचना का स्वत: सुगम आदान प्रदान हो: उपराष्ट्रपति

July 02, 2019 10:15 AM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने विश्व समुदाय से अपील की कि वह काले धन पर देशों के बीच सूचना के स्वत: आदान प्रदान को सुगम बनाने तथा आर्थिक भगोड़ों के शीघ्र प्रत्यार्पण को आसान बनाने के लिए, साथ आयें।
नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आयोजित इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंटस आफ इंडिया के प्लेटिनम जुबिली समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने देश में कारपोरेट भ्रष्टाचार के संदर्भ में चार्टर्ड अकाउंटेंटों की बढ़ती भूमिका पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि देश चार्टर्ड अकाउंटेंटों से न केवल भ्रष्टाचार की जांच कर उन्हें रिपोर्ट करने की अपेक्षा रखता है बल्कि भविष्य में भी ऐसे भ्रष्टाचार की रोकथाम के उपाय सुझाने की उम्मीद करता है।
उन्होंने चार्टर्ड अकाउंटेंट समुदाय से अपील की कि वे अपने मध्य से भी भ्रष्ट लोगों को चिन्हित कर अलग-थलग करें और उनके खिलाफ कार्यवाही भी करें। उपराष्ट्रपति ने आशा जताई कि चार्टर्ड अकाउंटेंट इंस्टीट्यूट तथा उसके सदस्य देश की अपेक्षाओं तथा उच्च नैतिक मानदंडों पर खरे उतरेंगे।
सरकार द्वारा किये जा रहे आर्थिक सुधारों की चर्चा करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि इससे देश में उद्यमिता को बढ़ावा मिलेगा और व्यवसाय के नये अवसर खुलेंगे। इस संदर्भ में उन्होंने ICAI जैसी संस्थाओं से अपेक्षा की कि वे आर्थिक उदारीकरण को सफल बनाने के लिए, व्यावसायिक नैतिकता के मानदंडों का स्वयं भी पालन करें तथा उद्यमियों द्वारा भीव्यावसायिक नैतिकता के उल्लंघन को रोंके।
उन्होंने कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंसी अब मात्र आंकड़ों और खातों की समीक्षा तक ही सीमित नहीं है, अर्थव्यवस्था में परिवर्तन के साथ इस व्यवसाय की भूमिका और महत्वपूर्ण हुई है। उन्होंने कहा चार्टर्ड अकाउंटेंट ‘जनता के विश्वास’ और ‘अर्थव्यवस्था की चेतना’ के संरक्षक हैं।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये