ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

ब्लॉगर्स अलायंस के चंडीगढ़ चैप्टर की स्थापना

July 02, 2019 10:30 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
विश्व प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु, भिक्खु संघसेना, संस्थापक अध्यक्ष, महाबोधि इंटरनेशनल मेडिटेशन सेंटर, लेह-लद्दाख, ने सोशल मीडिया दिवस के अवसर पर ब्लॉगर्स एलायंस की त्रैमासिक पत्रिका 'ब्लॉगर व्लॉगर' का विमोचन किया। ब्लॉगर्स एलायंस ब्लॉगर, ब्लॉग लेखकों, स्टोरीटैलर्स एवं रचनाकारों का एक पंजीकृत एवं राष्ट्रीय स्तर का गैर-लाभकारी संघ है।  

चंडीगढ़ चैप्टर में कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल, पंजाब शामिल 


डॉ. अमित नागपाल, अध्यक्ष, ब्लॉगर्स एलायंस, ने कहा, 'ब्लॉगर व्लॉगर के प्रथम अंक में, भिक्खू संघसेना की जीवनगाथा और एक शीघ्र प्रकाश्य पुस्तक 'हीरोज अमांग्स्ट अस' का विवरण दिया गया है, जिसमें 32 ऐसे लोगों की कहानियां हैं, जो अपने जुनून को जी रहे हैं। भारत के प्रमुख शहरों में विभिन्न चैप्टर्स की स्थापना के बाद एलायंस के कुछ अंतर्राष्ट्रीय चैप्टर भी स्थापित किये जायेंगे।'
नरविजय यादव को ब्लॉगर्स एलायंस के चंडीगढ़ चैप्टर का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है, जो उत्तर भारत के अनेक राज्यों में गतिविधियों का संचालन करेंंगे, जिनमें हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड और यूटी चंडीगढ़ शामिल हैं।
ब्लॉगर व्लॉगर में ब्लॉगिंग संबंधी टिप्स, आगामी कार्यक्रम व कार्यशालाएं, ब्लॉगर्स की प्रेरक कहानियां आदि शामिल हैं। संघसेना ने ब्लॉगर्स एलायंस टीम को शुभकामनाएं दीं और सकारात्मक खबरों के कवरेज पर जोर दिया। उन्होंने कहा, 'मीडिया को ऐसे लोगों की प्रेरक कहानियों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है जो सामाजिक परिवर्तन के लिए काम कर रहे हैं और जलवायु परिवर्तन तथा ग्लेशियरों के पिघलने जैसी वैश्विक समस्याओं को उजागर कर रहे हैं।'
एपल के सह-संस्थापक स्टीव वोज्नियाक ने एक इंटरव्यू में कहा था कि भारतीयों में रचनात्मकता की कमी है। डॉ. अमित नागपाल ने इस बयान को एक चुनौती मानते हुए, समान विचारधारा के लोगों से बात की और दुनिया को भारतीय रचनात्मकता की झलक दिखाने के लिए ब्लॉगर्स एलायंस की स्थापना की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये