ENGLISH HINDI Friday, December 06, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

चंडीगढ़ नशों से मुक्त व बेहतर खेल सुविधा वाला शहर बनाने में गवर्नर बदनौर ने भरोसा जताया

July 05, 2019 09:02 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री।

पंजाब व हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में नौजवानों की शारीरिक व मानसिक तंदरूस्ती का विकास करके नशों से मुक्त बनाया जा सकता है। आज यहां यह विचार जोशी फाऊंडेशन के बैनर अधीन स्पोर्टस एसोसिएशनों, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी, योगा एसोसिएशनों तथा शिक्षा माहिरों के एक शिष्टमंडल ने गवर्नर पंजाब व प्रशासक चंडीगढ़ वी.पी. बदनौर के सम्मुख पेश किए।

शिष्टमंडल ने कहा कि शहर के मौजूदा खेल बुनियादी ढांचे में सुधार लाने तथा नौजवानों की ऊर्जा को सही दिशा में यकीनी बनाने के लिए इसकी बड़ी जरूरत है। साथ ही सरकारी विभागों द्वारा शहर के स्कूलों व कालेजों के नियमित पाठ्यक्रम में खेलों को लाजमी बनाने के लिए इसमें बेहतर तालमेल बनाना भी समय की जरूरत है।सिफारिशों में सुझाया गया था कि चंडीगढ़ में नौजवानों की शारीरिक व मानसिक तंदरूस्ती बेहतर करने के लिए शिक्षा संस्थानों में सुबह की प्रार्थना सभा दौरान 10 खेल अभ्यास या योगा के साथ जोडक़र किया जा सकता है। सभी विद्यार्थियों के लिए दाखिले या प्रमोशन के समय कम से कम एक खेल को चुनना अनिवार्य बनाना चाहिए।

हर शनिवार को खेल दिवस ऐलान किया जाना चाहिए तथा मासिक, इंटर मॉरल स्पोर्टस प्रतियोगिता अनिवार्य होनी चाहिए। खेलों की रिपोर्ट कार्ड वार्षिक रिपोर्ट कार्ड में पेश होनी चाहिए तथा सभी शिक्षा संस्थानों की वार्षिक स्पोर्टस ऑडिट रिपोर्ट जारी होनी चाहिए।

वार्षिक मैडीकल चैकअप व फिटनेस टेस्ट सहित शिक्षा संस्थाओं में जिम भी स्थापित किए जाने चाहिए। उस समय भी सी.बी.एस.ई के साथ संबंधित स्कूलों में पहली से 12वीं कक्षा के लिए लाजमी हेल्थ एंड फिजीकल एजूकेशन शिक्षा को सही ढंग से लागू करना चाहिए तथा शारीरिक शिक्षा पर ध्यान केंद्रीत करने के लिए समाजिक प्रोग्रामों को कायम रखने की भी जरूरत महसूस की गई थी।

स्कूल में एक माह में कम से कम एक बार ड्रगज के बारे स्किटस भी पेश करनी चाहिए, फिटनेस सेंटरों, गेम हाऊसों तथा कैमिस्टस आदि द्वारा बेचे जाते प्रोडक्टस के बुरे प्रभावों के बारे स्वास्थ्य माहिरों के विषय पर सेमीनार होने चाहिए। इसके अलावा विद्यार्थियों को प्रेरित करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी तथा होनहान विद्यार्थियों द्वारा लैक्चर तथा प्रेरणादायक प्रोग्रामों का आयोजन भी किया जाना चाहिए।

नशों की लत के बारे लक्षणों व पालन पोषण विषय पर जागरूकता पैदा करने के लिए कैंपस में माहिरों द्वारा छमाही सेमीनार तथा लैक्चर भी होने चाहिए।जोशी फाऊंडेशन के अध्यक्ष सौरभ जोशी ने कहा कि शिक्षा संस्थान एक वर्ष में करीब 190 दिन के लिए खुला होता है, इसलिए क्षेत्र में शारीरिक सरगर्मी को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार को हर सेक्टर, गांव तथा पुनर्वास कालोनियों में खेल व योगा अभ्यास के लिए निश्चित स्पेस निर्धारित करनी चाहिए। शिक्षा संस्थानों के खेल मैदान 2 बजे के बाद तथा छुट्टी वाले पूरे दिन खेलों के लिए प्रयोग की अनुमति दी जानी चाहिए।

म्यूंिसपल कार्पोरेशन के पार्क विद्याॢथयों तथा नौजवानों के लिए शाम को तथा सुबह को खेलने के लिए उपलब्ध करवाए जाने चाहिए। इसलिए पार्क के अनुसार खेल का चुनाव किया जाना चाहिए। साथ ही चंडीगढ़ म्यूसिंपल कार्पोरेशन के सभी सामुदायिक केंद्रों में बनावट अनुसार खेलों व योगा अभ्यास की अनुमति दी जानी चाहिए।सुबह व शाम को पार्कों तथा कम्यूनिटी सैंटरों में योगा क्लास का आयोजन होना चाहिए।

चंडीगढ़ खेल विभाग के पास इस समय चंडीगढ़ में 11 जगहों पर शानदार खेल सुविधाएं उपलब्ध हैं, इन जगहों को भी पड़ोसी क्षेत्रों में जोरदार ढंग से प्रयोग करना चाहिए। पंजाब यूनिवर्सिटी के पास भारतीय खेलों के कोच व सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं, कम से कम निकटवर्ती सेक्टरों के युवक यहां आ सकते हैं तथा शारीरिक गतिविधियां कर सकते हैं।

सेमीनारों, नुक्कड़ नाटक, पोस्टर प्रदर्शनकारी, फिल्में आदि द्वारा नशे के शुरूआती लक्षणों के बारे जागरूकता पैदा की जा सकती है। चंडीगढ़ प्रशासन तथा नगर निगम को यह काम दिया जाना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय खिलाडिय़ो को शामिल करके कम्यूनिटी सैंटरों में एंटी ड्रग सेमीनार आयोजित किए जा सकते हैं। एजूकेशन तथा स्पोर्टस डिपार्टमैंट के आपस में तालमेल की कमी भी है, जिसको बढ़ाना चाहिए। शिक्षा संस्थानों में खेल मैदानों की देख-रेख यकीनी बनानी चाहिए। शराब का प्रचलन बंद कर देना चाहिए, क्योंकि अल्कोहल का ज्यादा सेवन एक रोग होता है। प्रशासन को हर वित्तीय वर्ष दौरान शराब के ठेकों को कम करने के लिए प्रस्ताव पेश किया जाना चाहिए।खेल विभाग तथा सोशल सिक्योरिटी डिपार्टमैंट द्वारा विशेष तौर पर जोखिम वाले बच्चोंं की शिनाख्त करने के साथ-साथ योगा, ध्यान खेलों, पर्सनेलिटी डिवैल्पमैंट तथा अतिरिक्त कोचिंग क्लासों के माध्यम द्वारा ऐसे छोटे समूहों की स्थापना करना भी समय की जरूरत है।

जोशी फाऊंडेशन के चेयरमैन विनीत जोशी तथा सौरभ जोशी की अगुवाई में इस शिष्टमंडल में रंजन सेठी, उपाध्यक्ष चंडीगढ़ ओलपिंक एसोसिएशन, पीएसलांबा सचिव नैटबाल स्पोर्टस प्रमोशन एसोसिएशन, दीपक सचिव कियारिंग व कनोइंग एसोसिएशन आफ चंडीगढ़, डा. राजिन्द्र मान सचिव चंडीगढ़ बाक्सिंग एसोसिएशन, हरीश कक्कड़ सचिव चंडीगढ़ टेबल टैनिस एसोसिएशन, सुरिन्द्र महाजन सचिव चंडीगढ़ बैडमिंटन एसोसिएशन, रमेश हांडा सचिव मास्टर एथलेटिक एसोसिएशन, हरभूषण गुलाटी सचिव चंडीगढ़ खो-खो एसोसिएशन, नरेशन चंडीगढ़ टेबल टैनिस एसोसिएशन, अश्वनी कुमार सचिव चंडीगढ़ कराटे एसोसिएशन, चंडीगढ़ चैस एसोसिएशन के सचिव विपनेश भारद्वाज, राजिन्द्र शर्मा जिमनास्टिक इंटरनेशनल अंपायर, रमन आचार्य सचिव योगा एसोसिएशन, बीरबल वढेरा, चंडीगढ़ लॉयन टैनिस एसोसिशन, उमेश कुमार चंडीगढ़ वुशू एसोसिएशन, कृष्ण लाल जुडो, विक्रम सिंह चंडीगढ़ तीरअंदाजी एसोसिएशन, अर्जुन चंदेल राइफल शूटिंग, रमेश सिंह रावत चंडीगढ़ रोइंग एसोसिएशन, जयंत अत्रे कोषाध्यक्ष चंडीगढ़ रगबी फुटबाल एसोसिएशन, हरदीप सिंह मल्ली, इंटरनेशनल बॉडी बिल्डर, आस्कर बांसल अंतर्राष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी, आर्यनपाल सिंह इंटरनेशनल रोलर स्केटिंग, निधी रेहान ईशा फाऊंडेशन, मोना सेठी डायरेक्टर/प्रिंसीपल दि ब्रिटिश स्कूल, एससी गुप्ता उपाध्यक्ष जोशी फाऊंडेशन, उमेश घई श्रीश्री रवि शंकर, स्वतंत्र अवस्थी महासचिव जोशी फाऊंडेशन तथा डा. अक्षय आनंद प्रो. न्यूरोसाइंस रिसर्च लैब पीजीआई चंडीगढ़ आदि शामिल हुए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और चंडीगढ़ ख़बरें
बढ़ती हुई रेप एवं हत्याओं की वारदातों के विरोध में जोरदार धरना-प्रदर्शन किया युवाओं ने स्ट्रीट वेंडिंग एक्ट के खिलाफ एकजुट हुए वेंडर्स: नगर निगम के खिलाफ मुंह पर काला कपड़ा बांध किया साइलेंट प्रोटेस्ट संघर्ष विकास सभा ने डॉ. प्रियंका रेड्डी को श्रद्धांजलि दी : आरोपियों को जल्द फांसी देने की मांग भी की गांव दडुआ में हाईटेंशन तारों को हटाने का काम शुरू, सांसद किरण खेर का धन्यवाद किया धर्मेंद्र सैनी ने हैदराबाद काण्ड : चण्डीगढ़ शिव सेना द्वारा श्रद्धांजलि सभा का आयोजन रैन बसेरों का जल्द प्रबंध करने के लिए प्रशासक को पत्र लिखा युवा कांग्रेस ने 42660 रूपये के डिजिटल भुगतान पर 535 रुपया का बैंक चार्ज, पेयूमनी एवं खालसा कॉलेज चंडीगढ़ को 10 हजार रूपये का जुर्माना राज्यपाल ने क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय की राजभाषा पत्रिका ‘‘हिन्दी गौरव‘‘ के तृतीय अंक का किया विमोचन वायु प्रदूषण को किया जा सकता है नियंत्रित: स्टार्टअप इंडिया प्रोजेक्ट के तहत दो युवा दोस्तों ने किया इसे इज़ाद पुनर्वास कॉलोनी में मकानों क़े आगे पानी भरने से बना तालाब