ENGLISH HINDI Monday, December 09, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द स्काई मेंशन मैं पहुंचे करण औजला , लोगों का किया मनोरंजनसीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सिंगला की बर्खास्तगी को लेकर राज्यपाल को मिलेगा ‘आप’ का प्रतिनिधिमंडल - हरपाल सिंह चीमाअंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजीअविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्तहिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 9 दिसम्बर से तपोवन धर्मशाला में: डॉ राजीव बिंदलधर्मशाला में 10 दिसम्बर को लगेगा रक्तदान शिविरबिक्रम ठाकुर ने कलोहा में बाँटे 550 गैस कनेक्शन, कलोहा पंचायत में 35 सोलर लाईट और व्यायामशाला की घोषणा
राष्ट्रीय

अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण सम्मेलन में नरविजय यादव सम्मानित

July 08, 2019 08:48 PM

चंडीगढ़,सुनीता शास्त्री।

  बौद्ध गुरु भिक्खु संघसेना ने हिमालय के पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उल्लेखनीय योगदान हेतु वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरण कार्यकर्ता नरविजय यादव को सम्मानित किया लद्दाख के सर्वोच्च बौद्ध गुरु, भिक्खु संघसेना ने हिमालय के पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उल्लेखनीय योगदान के लिए, चंडीगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरण कार्यकर्ता नरविजय यादव को लेह में हाल ही में संपन्न एक अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण सम्मेलन में सम्मानित किया।

यादव, सेव दि हिमालय फाउंडेशन के चंडीगढ़ चैप्टर के महासचिव हैं और पिछले 30 वर्षों से मीडिया में अपना सक्रिय योगदान देते रहे हैं। भिक्खू संघसेना ने पर्यावरण सम्मेलन के प्रथम दिन अपने संबोधन में कहा, हिमालय के पर्यावरण का संरक्षण न सिर्फ इस वहां रहने वालों के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि यह संपूर्ण विश्व के लिए मायने रखता है, क्योंकि पूरी दुनिया में एक ही हिमालय है।

नरविजय यादव ने सेव दि हिमालय फाउंडेशन के चंडीगढ़ चैप्टर के महासचिव के तौर पर उल्लेखनीय योगदान दिया है, जिसके लिए हम सब उनके आभारी हैं। तीन दिन के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में, हिमालय के पर्यावरण एवं सांस्कृतिक धरोहरों के संरक्षण के अलावा, विश्व शांति एवं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती जैसे विषयों पर भी विस्तार से चर्चा की गयी।

सम्मेलन में भाग लेने के लिए देश-विदेश से अनेक विद्वान आये हुए थे, जिनमें नेपाल के एकमात्र अरबपति व्यवसायी एवं चौधरी ग्रुप के चेयरमैन श्री बिनोद चौधरी, जर्मन पर्यावरणविद् डॉ. सुजाने फॉन डे हाइडे, नासा अमेरिका के पूर्व वैज्ञानिक डॉ. नूर गिलानी, इसीमोड भूटान के डॉ. ताशी दोरजी, नव-नालंदा महाविहारा की प्रोफेसर रूबी कुमारी, कजाखस्तान के पूर्व राजदूत श्री फुंचोक स्तोबदन तथा इंडिया ग्लोबल पीस इनीशिएटिव, माउंट आबू की रीजनल डायरेक्टर, डॉ. बिनी सरीन आदि उल्लेखनीय हैं।

सम्मेलन की महत्ता इससे और बढ़ गयी कि इसमें थाईलैंड के वे 200 बौद्ध भिक्षु भी शरीक रहे, जिन्होंने धर्मशाला से लेह तक की एक माह की पदयात्रा पूरी की थी। यह चौथी वार्षिक पदयात्रा विश्व शांति का संदेश प्रसारित करने के उद्देश्य से आयोजित की गयी थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
अविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्त पॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ‘परीक्षा पे चर्चा’ संस्‍करण के लिए ‘लघु निबंध’ प्रतियोगिता की शुरुआत सामुदायिक प्रयास से सूखे की विभीषिका से मुक्त हो खुशहाल हुए लोग केजरीवाल सरकार का ऐलान: बिजली—पानी, मुफ्त यात्रा के बाद मुफ्त वाई—फाई धूम्रपान व धुएं से दूर रहकर क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज से बचाव:पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत सैनिक, किसी संत से कम नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती गंगा के तटों और ऋषिकेश की स्वच्छता हम सभी के हाथों में:त्रिवेेन्द्र सिंह रावत देशव्यापी 'भारत बचाओ रैली' के आयोजन को लेकर हरियाणा कांग्रेस के नेताओं ने दिल्ली में की मीटिंग राजधनी दिल्ली में राष्ट्रीय सिख पारम्परिक खेलों का आयोजन