ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

मरीजों व तीमारदारों के लिये बनेगी रसोई

July 09, 2019 06:09 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में भर्ती होने वाले मरीजों व उनके तीमारदारों के भोजन के प्रबंधन के लिए संस्थान की ओर से किचन का निर्माण शुरू हो गया है। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने निर्माणाधीन योजना का निरीक्षण किया और इंजीनियरिंग विभाग को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। गौरतलब है कि अब तक संस्थान में इसके लिए अस्थायी रसोई संचालित की जा रही था, जबकि तीमारदार कैंटीन में भोजन करते थे। निदेशक एम्स ने बताया कि फिलहाल संस्थान में भर्ती मरीजों के लिए कुछ कमरों में बने अस्थायी किचन में भोजन पकाने की व्यवस्था संचालित की जा रही थी। लिहाजा मरीजों व उनके तीमारदारों की सुविधा के लिए अब स्थायी कीचन योजना का निर्माण किया जा रहा है। प्रो.कांत ने बताया कि किचन का निर्माण भूमि की कमी के अभाव में संस्थान परिसर में निर्माणाधीन ऑटो वाक के नीचे खाली भूमि पर किया जा रहा है, जिससे उक्त खाली भूखंड को उपयोग में लाया जा सके। उन्होंने बताया कि किचन का निर्माण में लगभग छह माह का समय लग सकता है, इसके बाद किचन का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि फौरीतौर पर कीचन को फूड प्लाजा में शिफ्ट किया जाएगा। जहां से मरीजों के लिए भोजन बनाकर वार्डों में भेजा जाएगा। निरीक्षण के दौरान एम्स निदेशक ने कीचन का निर्माण प्रस्तावित स्थान से अधिक भूखंड पर करने के निर्देश दिए हैं,जिससे यहां पर मरीजों के तीमारदारों को भोजन में स्थानाभाव की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े। एम्स के अधिशासी अभियंता एनपी सिंह ने बताया कि इससे पूर्व कीचन का निर्माण 350 वर्गगज में प्रस्तावित था, निरीक्षण के दौरान निदेशक की ओर से इसका दायरा 200 वर्गगज बढ़ाने को कहा गया है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये