ENGLISH HINDI Friday, October 18, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

कैंसर रोगियों के इलाज को आगे आया एम्स

July 11, 2019 09:23 AM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में बृहस्पतिवार को प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी ओपीडी की साप्ताहिक क्लिनिक आयोजित की जाएगी। संस्थान में बीते सप्ताह से शुरू हुई प्रारंभिक कैंसर परीक्षण ओपीडी में रोगियों के परीक्षण व परामर्श के लिए विभिन्न विभागों के विशेषज्ञ चिकित्सकों को तैनात किया गया है। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि कैंसर के लगातार बढ़ते मरीजों के मद्देनजर संस्थान में प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक प्रत्येक सप्ताह बृहस्पतिवार को दोपहर दो से चार बजे तक नियमित रूप से संचालित की जाएगी। जिससे कैंसर की बीमारी को शुरुआती अवस्था में ही पहचान कर उपचार किया जा सके। एम्स निदेशक ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के वार्निंग सिग्नल के मद्देनजर संस्थान की ओर से लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी साप्ताहिक ओपीडी क्लिनिक बीते बृहस्पतिवार (चार जुलाई) से शुरू कर दी गई है।  

-कैंसर की बीमारी को शुरुआती अवस्था में ही पहचान कर उपचार किया जाएगा: एम्स निदेशक

उन्होंने बताया कि नार्थ इंडिया में एम्स दिल्ली के बाद ऋषिकेश एम्स में ही प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक (कैंसर निवारण क्लिनिक) संचालित की जा रही है। बताया कि इस क्लिनिक के जरिए हम मरीजों की जांच कर कैंसर को शुरुआती अवस्था अथवा कैंसर बनने से पहले पकड़ सकते हैं, जिसका शतप्रतिशत इलाज संभव है। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान द्वारा उपलब्ध कराई गई इस सुविधा का लाभ तभी संभव है, जब अधिकाधिक लोग इस बीमारी के प्रति जागरुक हों व इसके कारकों का त्याग करने के साथ ही अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। उन्होंने बताया कि प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक में मुहं के कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, गर्भाशय के कैंसर आदि की जांच की समुचित सुविधा उपलब्ध कराई गई है। साथ ही ओपीडी क्लिनिक के साथ ही इसमें तंबाकू निवारण क्लिनिक का संचालन भी किया जा रहा है। ओपीडी क्लिनिक में मेडिकल ओंकोलॉजी विभाग, विकिरण चिकित्सा, मनोरोग, महिला रोग और शल्य चिकित्सा विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सकों को भी मरीजों की जांच व उपचार के लिए तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि क्लिनिक रेडियो ओंकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर मनोज गुप्ता की देखरेख में संचालित की जा रही है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये