ENGLISH HINDI Monday, December 09, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द स्काई मेंशन मैं पहुंचे करण औजला , लोगों का किया मनोरंजनसीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सिंगला की बर्खास्तगी को लेकर राज्यपाल को मिलेगा ‘आप’ का प्रतिनिधिमंडल - हरपाल सिंह चीमाअंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजीअविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्तहिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 9 दिसम्बर से तपोवन धर्मशाला में: डॉ राजीव बिंदलधर्मशाला में 10 दिसम्बर को लगेगा रक्तदान शिविरबिक्रम ठाकुर ने कलोहा में बाँटे 550 गैस कनेक्शन, कलोहा पंचायत में 35 सोलर लाईट और व्यायामशाला की घोषणा
राष्ट्रीय

एम्स में हाई एटिट्यूड माउंटेन डिजीज मैनेजमेंट कोर्स जल्द शुरू

July 12, 2019 12:18 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बृहस्पतिवार को आईटीबीपी की दो दिवसीय वार्षिक सीएमई का बतौर मुख्य अतिथि विधिवत शुभारंभ किया। इस दौरान एम्स निदेशक प्रो. कांत ने कहा कि देश की प्रगति में सशस्त्र सेनाओं का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि आईटीबीपी सहित विभिन्न सशस्त्र सेनाओं की चिकित्सकीय सहायता के लिए एम्स संस्थान हमेशा प्रतिबद्धता के साथ तत्पर है।

-आईटीबीपी की वार्षिक सीएमई का एम्स निदेशक ने किया विधिवत शुभारंभ, 
सशस्त्र सेनाओं की चिकित्सा व चिकित्सा शिक्षा जैसी सहायता के लिए एम्स के द्वार हमेशा खुले 


देहरादून के सीमाद्वार मैदान में हुए कार्यक्रम में एम्स निदेशक ने बताया कि एम्स संस्थान द्वारा तैयार किए गए हाई एटिट्यूड माउंटेन डिजीज मैनेजमेंट से जुड़े विभिन्न प्रकार के पाठ्यक्रम की जानकारी दी और बताया कि संस्थान में इन कोर्सेज को जल्द शुरू किया जाएगा। सीएमई में जुटे विशेषज्ञ चिकित्सकों ने मेडिसिन के क्षेत्र में नित नये प्रयोगों व अनुसंधानों पर व्याख्यान दिए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने चिकित्सा व चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में परंपरागत तौर तरीकों से हटकर सोचने व कार्य करने की जरुरत बताई। उन्होंने बताया कि जिस व्यक्ति की जिस क्षेत्र में विशेषज्ञता हो, उसे उसी के हुनर के मुताबिक कार्य सौंपने से बेहतर परिणाम सामने आते हैं। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को अपने फील्ड में कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, तभी उसकी प्रगति संभव है और इसका लाभ समाज को भी मिलता है। उन्होंने चिकित्सा क्षेत्र में साफ्ट स्किल की जरुरत पर जोर दिया, बताया कि एक सफल चिकित्सक के लिए बीमारी के साथ साथ बीमार व्यक्ति से बातचीत का तौर तरीका भी आना चाहिए। एम्स निदेशक ने कहा कि सशस्त्र सैनिकों तत्परता से हमारी सीमाएं सुरक्षित हैं, इसीलिए हम प्रगति के नए सोपान स्थापित कर रहे हैं, उन्होंने कहा कि आईटीबीपी समेत सभी सशस्त्र सेनाओं की चिकित्सा व चिकित्सा शिक्षा जैसी सहायता के लिए एम्स संस्थान के द्वार हमेशा खुले हैं, ऐसी जरुरत पड़ने पर संस्थागत स्तर पर सेनाओं को हरसंभव सहायता प्रदान की जाएगी। इस अवसर पर एम्स के मधुमेह रोग विशेषज्ञ डा. रवि कांत ने लोगों में मधुमेह की बीमारी के लगातार बढ़ने के क्रम को चिंताजनक बताया, उन्होंने बताया कि बिना दवा के भी मधुमेह की बीमारी की रोकथाम की जा सकती है। उन्होंने मधुमेह रोग से संबंधित नई तकनीक की विस्तृत जानकारी दी। एम्स के ट्रामा सर्जरी विभाग के डा. मधुर उनियाल ने ट्रामा के क्षेत्र में एम्स ऋषिकेश के योगदान की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एम्स ट्रामा से जुड़े हर तरह के मरीजों के उपचार में पूरी तरह से सक्षम है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
अविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्त पॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ‘परीक्षा पे चर्चा’ संस्‍करण के लिए ‘लघु निबंध’ प्रतियोगिता की शुरुआत सामुदायिक प्रयास से सूखे की विभीषिका से मुक्त हो खुशहाल हुए लोग केजरीवाल सरकार का ऐलान: बिजली—पानी, मुफ्त यात्रा के बाद मुफ्त वाई—फाई धूम्रपान व धुएं से दूर रहकर क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज से बचाव:पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत सैनिक, किसी संत से कम नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती गंगा के तटों और ऋषिकेश की स्वच्छता हम सभी के हाथों में:त्रिवेेन्द्र सिंह रावत देशव्यापी 'भारत बचाओ रैली' के आयोजन को लेकर हरियाणा कांग्रेस के नेताओं ने दिल्ली में की मीटिंग राजधनी दिल्ली में राष्ट्रीय सिख पारम्परिक खेलों का आयोजन