ENGLISH HINDI Sunday, December 15, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
ग्रेट पेरेंट्स डे पर वेद धारा ग्लोबल स्कूल में दादा दादी की धूम‘स्पाईमास्टरज़ और साईबर इंटेलिजेंस इन वॅार एंड पीस’ विषय पर हुई चर्चा ने साईबर सुरक्षा के कई अछूते पक्षों पर प्रकाश डालाबालाकोट एक्शन पर रक्षा विशेषज्ञों द्वारा गंभीर विचार-चर्चाभवन निर्माण व निर्माण श्रमिकों की रजिस्ट्रेशन का समय 31 मार्च तक बढ़ाने के आदेशअफगानिस्तान में 18 साल से तालिबान के साथ लम्बी लड़ाई लड़ रहा अमरीका हार की कगार परपेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवायाशरीर के लिए जरूरी पौष्टिक तत्वों व कैलोरी की मात्रा कम नहीं होनी चाहिएआरटीआई में नगर परिषद् का अजीबोगरीब जवाब, हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब
पंजाब

स्वच्छ, सार्थक और लोक हितों की गायकी आज के समय की बड़ी ज़रूरत

July 16, 2019 01:13 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
अमरजीत गुरदासपुरी स्वच्छ, सार्थक और लोक हितों की गायकी का मुजस्समा है जिसकी गायकी की परंपरा को आगे चलाना समय की सबसे बड़ी ज़रूरत है। इस लोक गायक की जीवनी से आज की पीढ़ी के गायक सीख लेकर कला और सभ्याचार क्षेत्र को और समृद्ध बना सकते हैं। अमरजीत गुरदासपुरी द्वारा जो पंजाबी गायकी क्षेत्र में नवीन कदम उठाये, वह बहुत से लोगों का मार्गदर्शक भी बन रहे हैं। ‘यह बात पंजाब के सहकारिता और जेल संबंधी मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने पंजाब कला भवन में पंजाब संगीत नाटक अकादमी द्वारा ‘उडीकां सावन दियां संगीत और नाटक उत्सव’ के अधीन अपने समय के प्रसिद्ध गायक अमरजीत गुरदासपुरी को श्रोताओं के सम्मुख करवाए प्रोग्राम के दौरान संबोधित करते हुये कही।
रंधावा ने कहा कि गुरदासपुर जिले को मान है कि शिव बटालवी और अमरजीत गुरदासपुरी जैसे दो अनमोल हीरे साहित्य और कला क्षेत्र को दिए। उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए निजी ख़ुशी की बात है कि अमरजीत गुरदासपुरी के गाँव उदोंवाली में हमारी ज़मीन है और इस परिवार के साथ मेरी पुरानी सांझ है।’ उन्होंने कहा कि गंदली और लचर गायकी के दौर में अमरजीत गुरदासपुरी की गायकी ठंडी हवा का झौंका है जिस पर समूचे पंजाबियों को मान है। उन्होंने कहा कि आज के समय में गायकी, राजनीति आदि हर क्षेत्र में गिरावट आ रही है और इस समय में ऐसी पवित्र रूहों के कारण ही पंजाब की लोक गायकी बची हुई है।
रंधावा ने इस मौके पर अमरजीत गुरदासपुरी को सम्मानित किया और अपने ऐच्छिक कोटे में से पंजाब संगीत नाटक अकादमी को तीन लाख रुपए का अनुदान देने का ऐलान किया जिसमें से एक लाख रुपए विशेष तौर पर निन्दर घुगियानवी द्वारा अमरजीत गुरदासपुरी की जीवनी पर बनाई डाक्यूमैंटरी के निर्माण के लिए दिए जाएंगे। अमरजीत गुरदासपुरी श्रोतओं के रूबरू भी हुए और अपनी बुलंद आवाज़ में हीर की कली भी सुनाई।
इसी मौके पर निन्दर घुगियानवी द्वारा प्रो. गुरभजन गिल की प्रेरणा से अमरजीत गुरदासपुरी की गायकी और साथ-साथ उनके जीवन को दर्शाती बनाई गई 50 मिनट की डाक्यूमैंटरी भी दिखाई गई जिसकी श्रोतओं द्वारा बहुत सराहना की गई। अपने समय के प्रसिद्ध गायक गुरचरन सिंह बोपाराए, स्वर्न सिंह और युद्धवीर ने अपने प्रसिद्ध गीतों से श्रोताओं का भरपूर समर्थन मिला। इसी लड़ी में गायक गुरिन्दर गैरी ने जहां स्वर्गीय गीतकार इंद्रजीत हसनपुरी के गीत ‘जदों याद सज्जना वे तेरी आए’ और गायक पिंक शैंडी ने ‘दूल्हा भट्टी’ लोक गाथा गाकर अच्छा समां बांधा।
पंजाब संगीत नाटक अकादमी के सचिव प्रीतम रुपाल द्वारा प्रत्येक का धन्यवाद किया गया। डा. सुरिन्दर गिल, शमशेर संधू, नवदीप सिंह गिल और संजीवन सिंह द्वारा अमरजीत गुरदासपुरी के साथ जहां अपनी यादों को सांझा किया, वहीं उनके द्वारा उनकी सार्थक कला को भी सराहा गया। इस मौके पर पंजाब संगीत नाटक अकादमी द्वारा कैबिनेट मंत्री रंधावा और पंजाब कला परिषद के मीडिया कोआर्डीनेटर और लेखक निन्दर घुगियानवी को सम्मान देकर नवाजा गया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
‘स्पाईमास्टरज़ और साईबर इंटेलिजेंस इन वॅार एंड पीस’ विषय पर हुई चर्चा ने साईबर सुरक्षा के कई अछूते पक्षों पर प्रकाश डाला भवन निर्माण व निर्माण श्रमिकों की रजिस्ट्रेशन का समय 31 मार्च तक बढ़ाने के आदेश पेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवाया अरबों लूटने वाली कंपनी को फिर से डीएल/आरसी बनाने का ठेका, डॉ. कमल सोई ने किया खुलासा 112 नंबर दिलाएगा महिलाओं को हर किसी मुसीबत से निजात सीआईए स्टाफ के हत्थे चढ़े तीन अफीम तस्कर फ़ौज के शौर्य पर पंजाबी में लिखी दो पुस्तकों पर विचार-विमर्श रिश्वत लेता बी.डी.पी.ओ रंगे हाथों काबू नए वर्ष से सरकारी विभागों फाइली कामकाज सिर्फ ई-ऑफिस के द्वारा ही: कैप्टन मार्शल आर्ट पेशकारियों ने लूटा मिलिट्री लिटरेचर मेला