ENGLISH HINDI Sunday, December 15, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
ग्रेट पेरेंट्स डे पर वेद धारा ग्लोबल स्कूल में दादा दादी की धूम‘स्पाईमास्टरज़ और साईबर इंटेलिजेंस इन वॅार एंड पीस’ विषय पर हुई चर्चा ने साईबर सुरक्षा के कई अछूते पक्षों पर प्रकाश डालाबालाकोट एक्शन पर रक्षा विशेषज्ञों द्वारा गंभीर विचार-चर्चाभवन निर्माण व निर्माण श्रमिकों की रजिस्ट्रेशन का समय 31 मार्च तक बढ़ाने के आदेशअफगानिस्तान में 18 साल से तालिबान के साथ लम्बी लड़ाई लड़ रहा अमरीका हार की कगार परपेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवायाशरीर के लिए जरूरी पौष्टिक तत्वों व कैलोरी की मात्रा कम नहीं होनी चाहिएआरटीआई में नगर परिषद् का अजीबोगरीब जवाब, हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब
पंजाब

बरगाड़ी मुद्दे पर सुखबीर बादल मगरमच्छ के आंसु बहाना बंद करे: कैप्टन

July 17, 2019 09:36 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अकालीदल प्रधान सुखबीर बादल द्वारा बरगाड़ी मुद्दे पर मगरमच्छ के आंसू बहाने की खिल्ली उड़ाते हुए स्पष्ट किया कि उनकी सरकार बरगाड़ी घटना के साथ जुड़े मामले की तह तक जाने के लिए पूरी पैरवी करेगी।
बरगाड़ी मामले में सी.बी.आई. की क्लोजऱ रिपोर्ट को अकालीदल द्वारा चुनौती देने के फ़ैसले पर अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने सुखबीर बादल को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह इस मुद्दे पर चिंतित होने का बहाना करके लोगों को मूर्ख बनाने की कोशिश कर रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुखबीर बादल जो उस समय राज्य का उप-मुख्यमंत्री और गृह मंत्री था, ने इस मामले की जांच स्वयं करवाने की बजाय बरगाड़ी कांड से सम्बन्धित पहले तीन मामलों को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सी.बी.आई.) के पास भेज दिया। उन्होंने कहा कि अब जब सी.बी.आई. ने अपनी जांच मुकम्मल करके केस बंद करने की रिपोर्ट दायर कर दी तो सुखबीर बादल बोखला गया जिससे इस समूचे मामले में किसी स्तर पर साजि़श होने का संकेत मिलता है।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि अकाली दल सी.बी.आई. की रिपोर्ट को चुनौती देने के फ़ैसले को अदालत में कैसे स्पष्ट करेगा। उन्होंने सुखबीर पर बरसते हुए कहा कि वह इस संवेदनशील मुद्दे पर एक बार फिर राजनीति कर रहा है जो अकाली-भाजपा के शासन काल के दौरान इस मुद्दे पर निष्पक्ष और विस्तृत जांच को यकीनी बनाने की जि़म्मेदारी से भाग गया था।
मुख्यमंत्री ने सुखबीर को कहा कि वह यह बात न भूले कि यदि वह अब भी सी.बी.आई. की क्लोजऱ रिपोर्ट को चुनौती देना चाहता है तो केंद्र में एन.डी.ए. की सरकार है जिसमें अकाली दल भी हिस्सेदार है। उन्होंने अकाली दल के प्रधान को कहा कि वह तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर और गलत मुद्दे उठाकर लोगों की आंखों में धूल झौंकने की कोशिश बंद करे।
श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी और इसके बाद शांतमयी ढंग से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा गोली चलाने की घटनाओं में शामिल व्यक्तियों पर कानूनी कार्यवाही करने के वायदे को दोराते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार इस घटना के पर्दे के पीछे की समूची साजि़श का पर्दाफाश करने के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि शांतमयी माहौल को भंग करने की ऐसी घिनौनी कोशिशें करने वालों को कानून के शिकंजे से बचकर नहीं निकलने दिया जायेगा।
इसी दौरान मुख्यमंत्री ने राज्य के एडवोकेट जनरल अतुल नन्दा को इस मामले की तह तक जाने के लिए सभी कानूनी पक्ष जाँचने के लिए कहा।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
‘स्पाईमास्टरज़ और साईबर इंटेलिजेंस इन वॅार एंड पीस’ विषय पर हुई चर्चा ने साईबर सुरक्षा के कई अछूते पक्षों पर प्रकाश डाला भवन निर्माण व निर्माण श्रमिकों की रजिस्ट्रेशन का समय 31 मार्च तक बढ़ाने के आदेश पेडा ने बायोमास आधारित ऊर्जा प्लांटों पर बातचीत सैशन करवाया अरबों लूटने वाली कंपनी को फिर से डीएल/आरसी बनाने का ठेका, डॉ. कमल सोई ने किया खुलासा 112 नंबर दिलाएगा महिलाओं को हर किसी मुसीबत से निजात सीआईए स्टाफ के हत्थे चढ़े तीन अफीम तस्कर फ़ौज के शौर्य पर पंजाबी में लिखी दो पुस्तकों पर विचार-विमर्श रिश्वत लेता बी.डी.पी.ओ रंगे हाथों काबू नए वर्ष से सरकारी विभागों फाइली कामकाज सिर्फ ई-ऑफिस के द्वारा ही: कैप्टन मार्शल आर्ट पेशकारियों ने लूटा मिलिट्री लिटरेचर मेला