ENGLISH HINDI Sunday, August 18, 2019
Follow us on
धर्म

श्रावण अष्टमी नवरात्र मेलों की तैयारियों शुरू

July 20, 2019 06:09 PM

ज्वालामखी,(विजयेन्दर शर्मा) प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी में श्रावण अष्टमी नवरात्र मेले 01 अगस्त से 10 अगस्त तक आयोजित किये जाएंगे। यह जानकारी देते हुए सहायक आयुक्त मंदिर एवं एसडीएम ज्वालामुखी अंकुश शर्मा ने बताया कि मेले की तैयारियों को लेकर आज मंदिर न्यास के बैठक कक्ष में बैठक आयोजित की गई जिसमें ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष रमेश ध्वाला विशेष रूप से उपस्थित थे।
उन्होंने मेलों के दौरान साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था एवं स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित बनाने तथा मेलों के दौरान सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर अस्थाई शौचालयों की सुविधा उपलब्ध करवाने के सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये। उन्होंनेे सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पेयजल स्त्रोतों की साफ सफाई सुनिश्चित बनाने तथा सभी स्त्रोतों की क्लोरीफिकेशन के निर्देश दिए। उन्होंने लोगों से बाजार में बिकने वाले खुले में रखे खाद्य पदार्थों का सेवन न करने का आग्रह करते हुए कहा कि दूषित खाद्य पदार्थों के सेवन से कई बीमारियो के फैलने का अंदेशा बना रहता है।
उन्होंने कहा कि पुलिस, स्वास्थ्य, लोक निर्माण, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, गृह रक्षा, परिवहन, विद्युत, इत्यादि सम्बन्धित विभाग पर्यटकों एवं श्रद्धालुुओं को हर सम्भव सहायता एवं सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए तत्पर रहें। उन्होंने कहा कि मंदिर रोड़ पर ढ़ोल-नगाड़े पर पूर्ण प्रतिबन्ध रहेगा।
उन्होंने स्थानीय व बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि वह नवरात्रोें के दौरान स्थानीय प्रशासन, मंदिर समितियों व धार्मिक स्थलों के स्वयंसेवी श्रद्धालुओं को व्यवस्था बनाये रखने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में वाहनों में क्षमता से अधिक लोगों को न भरा जाये। यातायात नियमों का शक्ति से पालन करें ताकि दुर्धटनाओं तथा अनावश्यक जाम से बचा जा सके।
उन्होंने श्रद्धालुओं से अपने सामान तथा बच्चों को अकेले न छोडने का आग्रह करते हुए कहा कि किसी भी अनजान व्यक्ति पर भरोसा न करें तथा अपने खान-पान पर विशेष एतियात बरतें ताकि किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचा जा सके।
उन्होंने श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि मंदिर में दर्शन, पूजा अर्चना अथवा मंदिर परिक्रमा के समय धक्का-मुक्की न करें तथा श्रद्धापूर्वक पंक्तिबद्ध हो कर भक्ति भाव से दर्शन करते हुए व्यवस्था को सचारु बनाने में सहयोग दें। उन्होंने श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों को सचेत करते हुए कहा कि वह अपनी यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें तथा किसी भी प्रकार की कठिनाई के समय स्थानीय प्रशासन को सूचित करें। उन्होंने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए लंगर की व्यवस्था हेतू स्थान चिन्हित करने के निर्देश दिये।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और धर्म ख़बरें
व्यक्ति की सामाजिक व आध्यात्मिक प्रगति में सबसे बड़ी बाधा है अहंकार: शास्त्री जीवन में तीन सूत्र सत्संग, सेवा, सुमिरन अपनाएं: शास्त्री श्रीमद भागवत कथा सप्ताह ज्ञान यज्ञ लक्ष्मीनारायण मंदिर से.20 में शिव भक्तों का सैलाब उमड़ा सशक्त सोच ही समाज को परिवर्तन करेगी: कुलपति मदान आध्यात्मिक ज्ञान का प्रकाश करेगा युवाओं का मार्ग दर्शन गढ़वाल भवन में श्री सुंदरकांड पाठ-सामूहिक प्रार्थना श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर 8 रजिस्टर्ड, नई कमेटी घोषित जीवन में अच्छे संस्कारो का होना जरूरी : अतुल कृष्ण शास्त्री स्वामी अशीम देब गोविंद धाम सोसाइटी ने 32वां निर्जला एकादशी महाछबील उत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया