ENGLISH HINDI Monday, December 09, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द स्काई मेंशन मैं पहुंचे करण औजला , लोगों का किया मनोरंजनसीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सिंगला की बर्खास्तगी को लेकर राज्यपाल को मिलेगा ‘आप’ का प्रतिनिधिमंडल - हरपाल सिंह चीमाअंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव : 18 हजार विद्यार्थी, 18 अध्यायों के 18 श्लोकों के वैश्विक गीता पाठ की तरंगें गूंजीअविनाश राय खन्ना हरियाणा व गोवा के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चुनाव हेतू आब्र्जवर नियुक्तहिमाचल प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 9 दिसम्बर से तपोवन धर्मशाला में: डॉ राजीव बिंदलधर्मशाला में 10 दिसम्बर को लगेगा रक्तदान शिविरबिक्रम ठाकुर ने कलोहा में बाँटे 550 गैस कनेक्शन, कलोहा पंचायत में 35 सोलर लाईट और व्यायामशाला की घोषणा
पंजाब

राज्यपाल द्वारा भी सिद्धू का इस्तीफ़ा मंजूर

July 20, 2019 06:14 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और पंजाब के राज्यपाल वी.पी.एस बदनौर दोनों ने नवजोत सिंह सिद्धू का एक पंक्ति का इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया है जिससे वह औपचारिक तौर पर पंजाब मंत्रीमंडल से बाहर हो गए हैं।
मुख्यमंत्री द्वारा इस्तीफ़ा पत्र राज्यपाल को भेजे जाने से कुछ घंटों में ही उन्होंने इसे स्वीकार करके इसकी जानकारी दे दी है।
प्रवक्ता के अनुसार बिजली मंत्रालय फिलहाल मुख्यमंत्री के पास रहेगा। दिल्ली से वापस आने के बाद कैप्टन ने आज सुबह इस्तीफ़ा पत्र देखा और उन्होंने औपचारिक मंजूरी के लिए इसे बदनौर के पास भेज दिया।
इससे पहले मुख्यमंत्री ने दिल्ली में कहा था कि उनकी ग़ैर-हाजऱी में उनके चंडीगढ़ निवास स्थान पर पहुँचे इस्तीफे को वह जाकर देखेंगे और इस संबंधी फ़ैसला लेंगे । इस पत्र में सिद्धू ने एक पंक्ति में अपना इस्तीफ़ा दिया है और इसका कोई भी स्पष्टीकरण या विस्तार नहीं दिया।
सिद्धू ने 10 जून को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफ़ा भेजा था और इसके बाद तकरीबन एक महीने बाद उन्होंने इस संबंधी ट्वीट किया था । इसके बाद उन्होंने फिर से अपने ट्वीट में कहा था कि वह औपचारिक तौर पर अपना इस्तीफ़ा मुख्यमंत्री को भेज देंगे जिन्होंने लोकसभा चुनाव के बाद किये फेरबदल के हिस्से के तौर पर उनको बिजली मंत्रालय दिया था। आखिऱकार उन्होंने कैप्टन अमरिन्दर सिंह के सरकारी निवास पर अपना इस्तीफ़ा भेज दिया जबकि कैप्टन अमरिन्दर सिंह उस समय दिल्ली में थे।
गौरतलब है कि सिद्धू ने अपना नया विभाग लेने से इन्कार कर दिया था जिसको धान के चल रहे सीजन के दौरान खुद मुख्यमंत्री देख रहे थे । इस अहम समय में राज्य में बिजली की माँग बहुत ज़्यादा अधिक हो गई थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सीएम की सुरक्षा में सेंध से डेराबस्सी के बहुचर्चित कब्जा विवाद ने पकड़ा तूल: दूसरे पक्ष ने लगाया मुख्यमंत्री के आदेशों के उल्लंघन का आरोप सीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार। मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत की युवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंका पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी जीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा सूखे दरख्तों की कटाई या हरे वृक्षों पर कुल्हाड़ी सुखबीर बादल को भी राजोआना के साथ जेल में बिठाने पर ही होगा पंजाब का माहौल शांत: सिंगला निर्दोष स्कूल ने कैलेन्डर 2020 लांच किया दो दिवसीय पांचवीं वार्षिक कॉन्फ्रेंस मेडिकॉन-2019 आयोजित