ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
हिमाचल प्रदेश

वनों को रोजगार और आजीविका का साधन बनाने का प्रयास

July 22, 2019 08:06 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने कहा है कि जसवां-परागपुर विधानसभा क्षेत्र के सदवां में वनों को रोजगार और आजीविका का साधन बनाने का प्रयास किया जा रहा है। सरकार ने इस उद्देश्य से अनेक योजनाएं आरंभ की हैं। प्रदेश में वन समृद्धि जन समृद्धि योजना शुरू की गई है, इसके जरिये लोगों को जड़ी बूटी इकट्ठा करने, प्रसंस्करण और विपणन के प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान की तर्ज पर पौधारोपण को भी एक अभियान के तौर पर पूरे प्रदेश के अंदर आरंभ किया जाना समय की मांग है। उन्होंने कहा कि पौधारोपण करने का असली उद्देश्य तभी पूरा हो सकता है, जब पौधारोपण करने के उपरांत समय-समय पर पौधों की देख-रेख सुनिश्चित हो।
उद्योग मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पौधरोपण एवं उनके संरक्षण में समुदाय की भागीदारी तय बनाने के लिए प्रदेश में सामुदायिक वन संवर्धन योजना आरंभ की है। इस योजना के तहत युवक व महिला मंडलों को पौधरोपण के लिए भूखंड आवंटित किए जाएंगे। इसी प्रकार स्कूली बच्चों को वन संरक्षण के अभियान से जोड़ने के लिए विद्यार्थी वन मित्र योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत विद्यार्थियों को वनों के महत्व और पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक बनाना और उन्हें अधिक से अधिक पौधे लगाने के प्रति प्रेरित करना है। योजना के तहत स्कूलों को भी भूखंड आवंटित किए जाएंगे। आवंटित भूखंड में स्कूली बच्चे पौधारोपण कर साल भर उनकी देखभाल भी करेंगे। उन्होंने वन विभाग को सदवां में पौधारोपण के लिए अलग अलग स्थान चिन्हित करने के निर्देश दिये। उन्होंने सदवां में सड़क निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी महकमे को त्वरित रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए।
इससे पूर्व विक्रम ठाकुर ने सूहीं गांव में लोगों की समस्याओं को सुना। उन्होंने अधिकतर समस्याओं का मौके पर ही समाधान कर दिया तथा शेष समस्याओं के समाधान के लिए सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें