ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
चंडीगढ़

वरिष्ठ साहित्यकार व इतिहासकार केदारनाथ केदार को किया सम्मनित

August 03, 2019 08:26 PM

चंडीगढ, सुनीता शास्त्री।

भंडारी अदबी ट्रस्ट (रजि.) का सम्मान समारोह और त्रैभाषीय कवि दरबार आज गांधी स्मारक भवन,सैक्टर 16 के सभागार में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, के.के.शारदा, अध्यक्ष गांधी स्मारक निधि थे स्वागत डा.देवराज त्यागी ने किया। इस अवसर पर वयोवृद्ध साहित्यकार केदारनाथ केदार को उन के साहित्यक योगदान के सम्मानित किया गया।

केदार जी का परिचय देते हुए गणेश दत्त ने बताया कि वे हिंदी, पंजाबी व उर्दू के अतिरिक्त साहित्यकार हैं। उन की रचनाओं को प्रसिद्ध गायकों ने गाया हैं वरिष्ठ इतिहासकार डा.एम.एम.जुनेजा को भी इतिहास में योगदान के लिए सम्मानित किया गया उन का परिचय देते हुए प्रेम विज ने बताया कि जुनेजा जी ने 35 वर्षों मक इतिहास को शिला प्रदान की। उन की 15 पुस्तकों में से 10 पुस्तकें शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जीवन व दर्शन पर हैं।इस अवसर पर बोलते हुए के.के.शारदा ने कहा कि साहित्यकारों व अन्य महत्वपूर्ण लोगों का सम्मान एक अच्छी परंपरा है। इसे जारी रखा जाना चाहिए।

अशोक नादिर ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि ट्रस्ट की ओर से अभी तक सिरी राम अर्श, तरूण गुजराल, प्रेम विज, शम्स तबरेजी आदि को सम्मानित किया जा चुका है।इस अवसर पर त्रैभाषीय कवि सम्मेलन में चंडीग, पंचकुला व मोहाली के लगभग 30 कवियों ने भाग लिया। प्रतिभा माही, प्रज्ञा शारदा, सुशील हसरत, गुरदीप कौर गिल, आर.के.भगत, दीपक चनारथल, गुरदर्शन माही, नीलम त्रिखा, श्याम सिंह, शम्स तबरेजी, सविता गर्ग, निम्मी विशिष्ठ, अरूण बेताब, राजिन्दर रोजी, जतिंदर परवा, लक्ष्मी रूपल, नीरज रायेजादा ने कविताएं सुनाई।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताई एनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया स्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च किया डॉ. रमेश कुमार सेन हिमाचल गौरव अवार्ड से सम्मानित जनता व पीएम योजनाओं के बीच सीढ़ी बनने का कार्य कर रहे हैं:राजमणि चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन ने किरण खेर के सामने उठाया डॉग मिनेस का मुददा बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर पहली बार किन्नरों ने भी राष्ट्रध्वज लहराया धारा 370 निरस्त करना देश की एकता अखंडता के लिए समय की मांग थी, सिर्फ अस्थाई प्रावधान था : उपराष्ट्रपति वार्षिक शोध-पत्रिका 'परिशोध' वर्ष 2019 का लोकार्पण