ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
ताज़ा ख़बरें
कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताईएनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया ट्राईसिटी में घर बैठे राशन पंहुचायेगा जीवाला डॉट.इन ग्रॉसरी स्टोरस्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च कियाजीरकपुर के शिवालिक विहार में प्रधान के घर शॉर्ट सर्किट से लगी आग से लाखों का नुक्सानई फाइलिंग कभी भी कहीं भी, ई-रिटर्न भरने के दिए टिप्ससाइबर अपराध और कानूनी जागरूकता पर 3 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरूडेराबस्सी के सभी एटीएम पड़े हैं काफी समय से बंद
चंडीगढ़

सुषमा स्वराज सादगी और आम विचारधारा की धनी थी: संजय टंडन

August 07, 2019 09:45 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री।

भारतीय जनता पार्टी द्वारा वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की स्मृति में श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया जिसमें पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष संजय टंडन, संगठन महामंत्री दिनेश कुमार, उपाध्यक्ष रामबीर भट्टी, महापौर राजेश कालिया, महासचिव प्रेम कौशिक आदि ने भी श्रद्धासुमन अर्पित किये । इस कार्यक्रम में सभी लोगों ने नम आँखों से दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि देते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना भी की ।

संजय टंडन ने कहा कि सुषमा स्वराज जी सादगी और आम विचारधारा की धनी थी । वे सभी कार्यकर्तायों के साथ सहज भाव से मिलती थी और उनकी सादगी भरी जिंदगी से प्रभावित होकर उन्होंने लोगों के दिलों पर राज किया । आज हर कोई उनको चाहने वाला उनके साथ बिताये पलों को याद कर कर के अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहा है । इतना ही नहीं सुषमा जी ने पाकिस्तान को करार जवाब देने के लिए अन्तरराष्ट्रीय मंच पर उसको अलग थलग करने के लिए कई बार ललकार भी भरी । अपनी कूटनीति के माध्यम से पाकिस्तान की किरकिरी करवाई और अपना लोहा मनवाया ।

यह उनके प्रति स्नेह ही है कि विपक्षी दलों के नेता भी सुषमा जी की तारीफ किये बिना रह न सका । उनके आकस्मिक निधन से पार्टी को भारी नुक्सान हुआ है जिसकी क्षति पूर्ति नहीं की जा सकती अपनी भावभीनी श्रद़र्धान्जली अर्पित करते हुए प्रदेश संगठन महामंत्री दिनेश कुमार ने कहा कि सुषमा जी ने जो भी निर्णय लिए उनको कसौटी पर परखने के बाद लिए जिसके लिए देश विदेश में लोग उनको याद करते हैं ।

उनके पास जो भी गया वो खाली हाथ नहीं लौटता था । वे हर आम जन से मिलकर उनका हाल चाल जरूर पूछती थी । उन्होंने अपने नियमों को लेकर किसी के आगे सर नहीं झुकाया और जब भी मंत्री रही बड़ी निडरता से समय का डट कर मुकाबला किया और कठोर से कठोर निर्णय लेने के लिए में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी । ऐसे ऐसे ऐतिहासिक फैसले लिए जिसकीकोई तुलना नहीं है । ऐसे महान सख्शियत विरली होती हैं ।आज वे हमारे बीच नहीं हैं परन्तु उनकी सभी बातें जो उनके साथ लोगों ने साँझा की और उनको बतायी वो लोगों को भूली नही हैं न ही भूलेंगी ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताई एनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया स्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च किया डॉ. रमेश कुमार सेन हिमाचल गौरव अवार्ड से सम्मानित जनता व पीएम योजनाओं के बीच सीढ़ी बनने का कार्य कर रहे हैं:राजमणि चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन ने किरण खेर के सामने उठाया डॉग मिनेस का मुददा बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर पहली बार किन्नरों ने भी राष्ट्रध्वज लहराया धारा 370 निरस्त करना देश की एकता अखंडता के लिए समय की मांग थी, सिर्फ अस्थाई प्रावधान था : उपराष्ट्रपति वार्षिक शोध-पत्रिका 'परिशोध' वर्ष 2019 का लोकार्पण