ENGLISH HINDI Saturday, August 24, 2019
Follow us on
 
चंडीगढ़

आगे और लघु फिल्में बनायेंगे : गुरिंदर सिंह खालसा

August 07, 2019 09:54 PM

चंडीगढ़, सुनीता शास्त्री।

अपने जीवन में घटित सिख दस्तार की घटना पर आधारित एक लघु फिल्म लेकर गुरिंदर सिंह आज चंडीगढ़ में पत्रकारों से रूबरू हुए।यह उनकी पहली फिल्म है। अमेरिकी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सिख दस्तार घटना पर आधारित लघु फिल्म है जो नवंबर में भारत में  रिलीज की जाएगी।

गुरिंदर सिंह ने बताया कि इस घटना के बाद यूएसए में एयरपोर्ट पर होने वाली जाँच में सिखों को बड़ी राहत मिली। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए) आधारित सिख राजनीतिक कार्रवाई समिति (पीएसी) सक्रिय रूप से विदेशी भूमि पर सिख धर्म के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए काम कर रही है। गुरिंदर सिंह खालसा, भारतीय-अमेरिकी सिख कार्यकर्ता, उद्यमी, और परोपकारी, जिन्होंने धार्मिक स्वतंत्रता को पेश करने के लिए एक अलग मिसाल पेश की और उन्हें यूएसए की इंडियाना माइनॉरिटी बिजनेस मैगज़ीन द्वारा विविधता के चैंपियंस में चुने जाने के बाद जनवरी में प्रतिष्ठित 2019 रोजा पार्क्स ट्रेलब्लेजऱ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

गुरिंदर सिंह खालसा की इस घटना से प्रेरित होकर अमेरिका की 19 वर्षीय एक बहुत ही प्रतिभाशाली फिल्म निर्माता जेना रूइज़ ने एक शक्तिशाली और प्रेरणादायक फिल्म सिंह लिखी और निर्देशित की। इस लघु फिल्म में, गुरिंदर जो कि अपनी माँ के अंतिम दिनों में उन्हें मिलने के लिए जा रहे हैं, उन्हें अपने धार्मिक विश्वासों और उड़ान भरने के बीच का कठिन फैसला लेने बारे दर्शाया गया है।

यह पुरस्कार उनके अभियान के लिए दिया गया है, जिसमें यूएसए परिवहन सुरक्षा प्रशासन (टीएसए) को सिख समुदाय की दस्तार के प्रति अपनी हेडगियर नीति को बदलने के लिए मजबूर किया और साहस और करुणा का निरंतर प्रदर्शन किया। गुरिंदर ने कहा, मैं शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और अन्य सामाजिक संगठनों से आग्रह करता हूं कि वह आगे आकर अपने स्थापित संस्थानों में शॉर्ट फिल्म सिंह को जनता को दिखाएं। फिल्म नवंबर के महीने में प्रीमियर के लिए उपलब्ध होगी, जब पूरी दुनिया गुरु नानक जी की 550 वीं जयंती मनाएगी।

फिल्म अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संदेश देने के नजरिए के से अंग्रेजी भाषा में बनाई गई है, लेकिन पंजाब के लिए, हम पंजाबी भाषा में ही डबिंग कर रहे हैं ताकि भाषा एक बाधा न बने। यूएसए में, खालसा ने राष्ट्रव्यापी प्रयास शुरू किया कि उन्हें 2007 में एक उड़ान में सवार होने से मना कर दिया गया क्योंकि उन्होंने बफ़ेलो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर प्रत्येक सुरक्षा उपाय से सफलतापूर्वक गुजरने के बाद भी अपनी दस्तार उतारने से इनकार कर दिया था।

मानदंड के अनुसार, खालसा को अमेरिकी अधिकारियों ने सिख समुदाय की दस्तार के प्रति टीएसए नीति बदलने के लिए याचिका पर 25,000 हस्ताक्षर प्राप्त करने के लिए कहा था, लेकिन अपने अथक प्रयासों के कारण वह 67,000 हस्ताक्षर प्राप्त करने में सफल रहे और अमेरिकी कांग्रेस को सिख दस्तार के लिए नीति बदलने के लिए मजबूर किया। इसने पूरे समुदाय को एक राहत दी है क्योंकि अब टीएसए एजेंट नई नीति के अनुसार सिख पगड़ी नहीं छू सकते हैं यदि उन्होंने हवाई अड्डों पर सुरक्षा उपायों को सफलतापूर्वक बिना किसी अलार्म या ध्वनि के पारित किया है।

गुरिंदर की इस घटना से प्रेरित होकर अमेरिका की 19 वर्षीय एक बहुत ही प्रतिभाशाली फिल्म निर्माता जेना रूइज़ ने एक शक्तिशाली और प्रेरणादायक फिल्म सिंह लिखी और निर्देशित की। इस लघु फिल्म में, गुरिंदर जो कि अपनी माँ के अंतिम दिनों में उन्हें मिलने के लिए जा रहे हैं, उन्हें अपने धार्मिक विश्वासों और उड़ान भरने के बीच का कठिन फैसला लेने बारे दर्शाया गया है।

गत महीने, शॉर्ट फिल्म ‘सिंह ’ने कोवेलाइट इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में ‘द शॉर्ट ऑफ द ईयर’ का पुरस्कार जीता, जो कि बुट्टे, मोंटाना में होता है। अब गुरु नानक की 550 वीं जयंती समारोह के दौरान नवंबर 2019 में भारत में इसका प्रीमियर होना है।गुरिंदर सिंह खालसा ने बताया कि यह फिल्म मात्र 16 मिनट की है । यह उनकी पहली फिलम है आगे क्या योजना पर उन्होंने बताया कि वह आगे भी और शॉर्ट फिल्में बनायेंगे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और चंडीगढ़ ख़बरें
चंडीगढ़ को बाल श्रम मुक्त बनाना है: सहगल स्मार्ट ग्राहक बनें, कैरी बैग की कीमत वसूलने वाले स्टोर्स का करें बहिष्कार गांव दड़ुआ में गीले व सूखे कचरे को अलग करने की योजना शुरू कार्यशाला में मृदंगम वादक मननार काएल बालाजी ने दक्षिणी भारतीय ताल की बारीकियां बताई एनएच एम्प्लाइज यूनियन ने प्रशासन के खिलाफ स्वास्थ्य सेवायें बंदकर प्रदर्शन किया स्वास्थ्य और सौंदर्य प्रेमियों के लिए वेगनटिक सुपर फूड्स ने एल्मो-एल्मोंड बेवरेज लॉन्च किया डॉ. रमेश कुमार सेन हिमाचल गौरव अवार्ड से सम्मानित जनता व पीएम योजनाओं के बीच सीढ़ी बनने का कार्य कर रहे हैं:राजमणि चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन ने किरण खेर के सामने उठाया डॉग मिनेस का मुददा बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकिंग को आम लोगों पर केन्द्रित ऋणों के वितरण पर दिया जोर