ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
पंजाब

शिकायतों निवारण के लिए प्रभावशाली रूप-रेखा की तैयार, 45 दिनों में फ़ैसला अनिवार्य

August 09, 2019 06:55 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
शिकायत निवारण प्रक्रिया को आसान बनाने के मद्देनजऱ, श्री डी.पी.रैड्डी, चेयरमैन पंजाब राज्य खाद्य आयोग ने समूह अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास)-कम-जि़ला शिकायत निवारण अधिकारियों (डी.जी.आर.ओज.) को हिदायत की कि वह राष्ट्रीय खाद्यसुरक्षा एक्ट के अंतर्गत अनाज के वितरण सम्बन्धी मामलों में शिकायतकर्ताओं की शिकायतों के जल्दी और प्रभावशाली निपटारे को यकीनी बनाएं।
डी.जी.आर.ओज. के साथ वीडियो कॉन्फ्ऱेंस करते हुए पंजाब राज्य खाद्य आयोग के चेयरमैन ने उनको अपने दफ्तरों, राशन डिपूओं, स्कूलों, आंगणवाड़ी केन्द्रों, एस.डी.एम. दफ्तरों, तहसीलों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर शिकायत बॉक्स लगाने के निर्देश दिए। उनहोंने यह भी कहा कि शिकायतों को दूर करने के लिए तीन दिनों में कम से कम एक बार बॉक्स ज़रूर खोले जाएँ जिससे शिकायतों के निपटारों के लिए तुरंत कार्यवाही की जा सके। उन्होंने कहा कि डी.जी.आर.ओज को जि़ला प्रशासन की वेबसाइटों के अलावा अपने दफ्तरों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अपना दफ़्तरी पता, टैलिफ़ोन नंबर, ई -मेल और फैक्स नंबर दिखाना ज़रूरी है।
शिकायतों के निष्पक्ष और जल्दी निपटारे के लिए, श्री रैड्डी ने प्रभावशाली सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि हरेक शिकायत के लिए अलग फाइल पर विशेष नंबर लगाकर उसका निर्णय किया जाये और शिकायतकर्ता को शिकायत प्राप्त होने के एक दिन में लिखित रसीद या इलैक्ट्रॉनिक माध्यम के द्वारा तारीख और शिकायत नंबर समेत सूचित किया जाये।
पंजाब राज्य खाद्य आयोग के चेयरमैन ने कहा कि इसके बाद डी.जी.आर.ओज. की तरफ से शिकायतकर्ता और सम्बन्धित अधिकारियों को सुनवाई की निर्धारित तारीख़ संबंधी नोटिस जारी करने चाहिएं। निर्धारित तारीख़ को बयान और सबूत दर्ज करके अंतरिम आदेश (जिमनी आदेश) जारी करने चाहिएं। उन्होंने बताया कि शिकायतें मिलने के बाद 45 दिनों के अंदर-अंदर शिकायतों का फ़ैसला करना लाजि़मी है। अगर शिकायत के फ़ैसले में कोई देरी होती है तो देरी का कारण बताते हुए शिकायतकर्ता को एक अंतरिम जवाब भेजना ज़रूरी है। जिन शिकायतों के फ़ैसले में देरी होती है, उन सभी मामलों सम्बन्धी पंजाब राज्य खाद्य आयोग को जानकारी हेतु इसकी एक कॉपी भी भेजी जाये।
श्री रेड्डी ने कहा कि शिकायतकर्ता के पेश न होने की सूरत में डी.जी.आर.ओ. आदेश पास करके शिकायत को ख़ारिज कर सकता है। अगर दूसरा पक्ष गैरहाजिऱ होता है, तो डी.जी.आर.ओ. इस मामले की अपने स्तर पर जांच कर सकता है और शिकायत का फ़ैसला कर सकता है। जारी किये गए हुक्म की एक कॉपी शिकायतकर्ता और जानकारी हेतु पंजाब राज्य खाद्य आयोग को दी जायेगी। उन्होंने फ़ैसले और शिकायतों के निपटारे में देरी होने सम्बन्धी हर महीने की 7 तारीख तक पंजाब राज्य खाद्य आयोग को रिपोर्ट पेश करने की हिदायत की।
अंत में पंजाब राज्य खाद्य आयोग के चेयरमैन ने कहा कि एक बेहतर शिकायत निवारण विधि विकसित करना सभी के लिए लाभदायक है। बढिय़ा शिकायत निवारण प्रणाली के साथ लोगों का सिस्टम के प्रति विश्वास बढ़ेगा और इससे लोग महसूस करेंगे कि सरकार उनके प्रति हमदर्दी रखती है और दूसरी तरफ़, यह सरकार का छवि सुधारती है और विभिन्न नीतियों और प्रोग्रामों को निर्विघ्न लागू करने का रास्ता साफ करती है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और पंजाब ख़बरें
विधायक, डीसी व एसएसपी ने निहालेवाला में लोगों को बचाने के लिए संभाला मोर्चा सड़कों पर बने गड्ढे कर रहे हैं हादसो का इंतजार जीरकपुर के शिवालिक विहार में प्रधान के घर शॉर्ट सर्किट से लगी आग से लाखों का नुक्सान ई फाइलिंग कभी भी कहीं भी, ई-रिटर्न भरने के दिए टिप्स डेराबस्सी के सभी एटीएम पड़े हैं काफी समय से बंद 20 घंटों की बारिश से खुल जाती है 20 वर्षों के विकास की पोल: मान लौंगोवाल शहीदी दिवस के अवसर पर 20 अगस्त को जि़ला बरनाला और संगरूर में छुट्टी का ऐलान पंजाब का राष्ट्रीय खेल सम्मान में वर्चस्व नकली कीटनाशक, खाद बेचने वाले डीलर्ज के खि़लाफ़ बड़ी कार्रवाई बलटाना के लोगों ने हरमिलाप नगर-रायपुर कलां रेलवे क्रॉसिंग पर अंडरपास बनवाने में हो रही देरी को लेकर चंडीगढ़ प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन