ENGLISH HINDI Wednesday, August 21, 2019
Follow us on
राष्ट्रीय

एक के रक्तदान से बच सकती है दो लोगों की जान: प्रो. कांत

August 09, 2019 10:04 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश की ओर से हरिद्वार के सैक्टर चार सिडकुल स्थित गोदरेज एंड बोइस मैनिफैक्चरिंग कंपनी में स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में रक्तदान के लिए कार्यरत कार्मिकों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। इस अवसर पर 68 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। सिडकुल सैक्टर चार स्थित गोदरेज एंड बोइस मैचिफैक्चरिंग कंपनी में एम्स ऋषिकेश संस्थान के सहयोग से स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि 18 से 65 आयुवर्ग का हर स्वस्थ मनुष्य तीन महीने के समयांतराल में स्वैच्छिक रक्तदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति के रक्तदान से दो लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है। ऐसे में प्रत्येक स्वस्थ मनुष्य को दूसरों की सहायता के लिए आगे आकर रक्तदान की आवश्यकता है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि जिंदगी के संरक्षण के लिए दिए गए दान से बढ़कर जीवन में कोई दूसरा दान नहीं हो सकता। ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन ब्लड बैंक विभागाध्यक्ष डा. गीता नेगी ने बताया कि लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से एम्स के ब्लड बैंक के साथ ही संस्थान की ओर से राज्य के विभिन्न हिस्सों में प्रत्येक माह स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जागरुकता शिविर का उद्देश्य लोगों के सहयोग से जरूरतमंद लोगों को समय पर रक्त उपलब्ध कराकर अमूल्य जीवन को बचाना है। उन्होंने बताया कि रक्तदान शिविर में 90 से अधिक लोगों ने पंजीकरण किया, इनमें से परीक्षण के उपरांत 68 ने स्वैच्छिक रक्तदान किया। शिविर के आयोजन में डा. दाउद यूवी, डा.अंजू कुरूप, चिकित्सकीय सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश चंद्र, तकनीकि सहायक भानु प्रताप सिंह, विनोद थपलियाल,रीता, हिमांशु, दीपेंद्र नेगी आदि ने सहयोग किया ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें