ENGLISH HINDI Friday, December 06, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
फरएवर फ्रेंड्स संस्था ने उठाया नयागांव पशु क्रूरता का मुद्दापॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदसीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार।मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत कीयुवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंकापुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थीजीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारासूखे दरख्तों की कटाई या हरे वृक्षों पर कुल्हाड़ी
राष्ट्रीय

एक के रक्तदान से बच सकती है दो लोगों की जान: प्रो. कांत

August 09, 2019 10:04 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश की ओर से हरिद्वार के सैक्टर चार सिडकुल स्थित गोदरेज एंड बोइस मैनिफैक्चरिंग कंपनी में स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में रक्तदान के लिए कार्यरत कार्मिकों ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। इस अवसर पर 68 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। सिडकुल सैक्टर चार स्थित गोदरेज एंड बोइस मैचिफैक्चरिंग कंपनी में एम्स ऋषिकेश संस्थान के सहयोग से स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि 18 से 65 आयुवर्ग का हर स्वस्थ मनुष्य तीन महीने के समयांतराल में स्वैच्छिक रक्तदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति के रक्तदान से दो लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है। ऐसे में प्रत्येक स्वस्थ मनुष्य को दूसरों की सहायता के लिए आगे आकर रक्तदान की आवश्यकता है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि जिंदगी के संरक्षण के लिए दिए गए दान से बढ़कर जीवन में कोई दूसरा दान नहीं हो सकता। ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन ब्लड बैंक विभागाध्यक्ष डा. गीता नेगी ने बताया कि लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से एम्स के ब्लड बैंक के साथ ही संस्थान की ओर से राज्य के विभिन्न हिस्सों में प्रत्येक माह स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जागरुकता शिविर का उद्देश्य लोगों के सहयोग से जरूरतमंद लोगों को समय पर रक्त उपलब्ध कराकर अमूल्य जीवन को बचाना है। उन्होंने बताया कि रक्तदान शिविर में 90 से अधिक लोगों ने पंजीकरण किया, इनमें से परीक्षण के उपरांत 68 ने स्वैच्छिक रक्तदान किया। शिविर के आयोजन में डा. दाउद यूवी, डा.अंजू कुरूप, चिकित्सकीय सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश चंद्र, तकनीकि सहायक भानु प्रताप सिंह, विनोद थपलियाल,रीता, हिमांशु, दीपेंद्र नेगी आदि ने सहयोग किया ।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
पॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ‘परीक्षा पे चर्चा’ संस्‍करण के लिए ‘लघु निबंध’ प्रतियोगिता की शुरुआत सामुदायिक प्रयास से सूखे की विभीषिका से मुक्त हो खुशहाल हुए लोग केजरीवाल सरकार का ऐलान: बिजली—पानी, मुफ्त यात्रा के बाद मुफ्त वाई—फाई धूम्रपान व धुएं से दूर रहकर क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजिज से बचाव:पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत सैनिक, किसी संत से कम नहीं: स्वामी चिदानन्द सरस्वती गंगा के तटों और ऋषिकेश की स्वच्छता हम सभी के हाथों में:त्रिवेेन्द्र सिंह रावत देशव्यापी 'भारत बचाओ रैली' के आयोजन को लेकर हरियाणा कांग्रेस के नेताओं ने दिल्ली में की मीटिंग राजधनी दिल्ली में राष्ट्रीय सिख पारम्परिक खेलों का आयोजन झारखंड विधानसभा आम चुनाव, एक्जिट पोल पर पाबंदी