ENGLISH HINDI Sunday, December 08, 2019
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
जागरूक निवेशक को अधिक आर्थिक रिटर्न होगा :निशान श्रीवास्तवफरएवर फ्रेंड्स संस्था ने उठाया नयागांव पशु क्रूरता का मुद्दापॉस्को एक्ट के तहत होने वाली घटनाओं के दोषियों को दया याचिका के अधिकार से वंचित किया जाए: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदसीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार।मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत कीयुवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंकापुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थीजीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा
पंजाब

लापता हुई राशि मामले में 3 ए.एस.आई, 1 हैड कांस्टेबल बरखास्त

August 12, 2019 11:07 AM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
जालंधर में लापता हुई राशि के मामले में विशेष जांच टीम (एस.आई.टी.) की तरफ से पड़ताल के आधार पर पंजाब पुलिस ने तीन सहायक सब इंस्पेक्टरों और एक हैड कांस्टेबल को एफ.एम.जे. हाऊस, जालंधर से बरामद की गई राशि के गबन में शामिल होने के दोष में बरखास्त कर दिया गया है।
फादर एंथनी मैडरसरी की तरफ से लापता हुई राशि संबंधी पुलिस कमिश्नर जालंधर को दी गई शिकायत के बाद मामले की जांच के लिए एस.आई.टी. का गठन किया गया था।
पुलिस विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि तीन सहायक सब इंस्पेक्टरों जोगिन्द्र सिंह, राजप्रीत सिंह, दिलबाग सिंह और हैड कांस्टेबल मनजीत सिंह को 10 अगस्त को नौकरी से बखऱ्ास्त कर दिया गया था। खन्ना पुलिस के अन्य अधिकारियों की भूमिका की जांच जारी है और इस सम्बन्ध में विशेष जांच टीम की तरफ से रिपोर्ट जल्द ही सौंपी जाएगी।
1 अप्रैल 2019 को आईं मीडिया रिपोर्टों का नोटिस लेते हुए डी.जी.पी. ने समकालीन आई.जी.पी. /क्राईम प्रवीण के. सिन्हा के नेतृत्व वाली एस.आई.टी. का गठन किया, जिसमें पुलिस कमिश्नर जालंधर गुरप्रीत सिंह भुल्लर, एस.एस.पी. पटियाला मनदीप सिंह मैंबर और ए.आई.जी. स्टेट क्राइम राकेश कौशल मैंबर और जांच अधिकारी शामिल किये गए थे। विशेष जांच टीम ने लगातार जांच की और पूरे मामले को सुलझाने के लिए सबूत जुटाए और यह यकीनी बनाया कि सभी जुर्म में शामिल व्यक्तियों और साथ ही जिन्होंने किसी भी तरीके से सहायता की थी, को अदालत में पेश किया गया था, के विरुद्ध मुकद्मा चलाया जाये।
पड़ताल को जारी रखते हुए और थाना पंजाब स्टेट क्राइम, एस.ए.एस. नगर में एफ.आई.आर. नंबर 1 दर्ज की गई। प्रवक्ता ने खुलासा किया कि फादर एंथनी और एफ.एम.जे. हाऊस, जालंधर के साथ सम्बन्धित व्यक्तियों की तरफ से हवाला लेने -देने और सी.एस.आर. फंडों की रीसाइक्लिंग सम्बन्धी गुप्त जानकारी के आधार पर खन्ना पुलिस ने एक गुप्त ऑपरेशन शुरू किया। सादे कपड़े और वर्दी में शामिल पुलिस मुलाजिमों ने ऑपरेशन में हिस्सा लिया, जिस कारण 28 मार्च, 2019 को शाम साढ़े चार बजे जालंधर जि़ले के एफ.एम.जे. हाऊस, प्रतापपुरा से बड़ी रकम ज़ब्त कर ली गई।
बरामद की गई नकदी दो अलग-अलग गाड़ियों में खन्ना लाई गई थी। एक वाहन का इंचार्ज इंस्पेक्टर गुरदीप सिंह था, जो समकालीन समय जि़ला खन्ना के मलौद एस.एच.ओ. तैनात था। ज़ब्त की गई नकदी का दूसरा हिस्सा एक अन्य वाहन में था जिसमें एएसआई जोगिन्द्र सिंह नंबर 1131 /पीटीएल, एएसआई राजप्रीत सिंह नंबर 661 /पीटीएल और सुरिन्दर सिंह मौजूद थे।
सी.आई.ए. खन्ना में, आयकर विभाग और डायरैक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इनफोर्समैंट के अधिकारी भी फंडों के स्रोत की जांच करने के साथ-साथ बरामद की गई नकदी की गिनती में भी शामिल थे। बरामद की गई नकदी रुपए 9.66 करोड़ इनकम टैक्स अधिकारियों ने अच्छी तरह गिनने के उपरांत अपने कब्ज़े में ले ली थी।
आई.जी.पी. क्राइम की तरफ से पड़ताल में बताया गया कि इंस्पेक्टर गुरदीप सिंह द्वारा बरामद की गई सारी नकदी सुरक्षित ढंग से सीआईए, खन्ना लाई गई थी, तो दूसरी गाड़ी में बरामद की गई नकदी के एक बड़े हिस्से का उस कार में सवार तीन व्यक्तियों द्वारा गबन किया गया था। जब फादर एंथनी, एफ.एम.जे. हाऊस, जालंधर में छापेमारी की गई तो लापता हुई राशि संबंधी फादर एंथनी नकदी बारे सही जानकारी नहीं दे सके। फादर एंथनी ने 31 मार्च, 2019 को कमिशनर पुलिस जालंधर और आईजीपी, क्राइम, पंजाब के पास दर्ज बयान एक दूसरे के साथ मेल नहीं खाते थे।
एसआईटी ने सारे मामले की पड़ताल की और जांच को तीन हिस्सों में बँटा - पुलिस अधिकारियों द्वारा नकदी के दुरुपयोग की जांच और इसकी रिकवरी बारे पड़ताल जब छापा मारा गया तो एफ.एम.जे., हाऊस, जालंधर में बीच वाले आदमी (दलाल); और समूची कार्यवाही में खन्ना पुलिस के अधिकारी के चाल-चलने की जांच जारी है।
पुलिस अधिकारियों द्वारा नकदी के गलत प्रयोग और इसकी बरामदगी बारे जांच के बारे में प्रवक्ता ने बताया कि जांच का यह हिस्सा एसआईटी ने बड़े स्तर पर पूरा कर लिया है। केस दर्ज होने के बाद दोषी सुरिन्दर सिंह को 17 अप्रैल, 2019 को गिरफ़्तार कर लिया गया था। उसकी पूछताछ के आधार पर एएसआई दिलबाग सिंह, जिसने ग़ैर -कानूनी नकदी लेजाने के लिए अपनी गाड़ी मुहैया करवा कर दूसरे मुलजिम की सहायता की थी, को 24 अप्रैल, 2019 को गिरफ़्तार किया गया था। दूसरे दो मुख्य मुलजिम, जैसे कि एएसआई जोगिन्द्र सिंह नंबर 1131 /पीटीएल, एएसआई राजप्रीत सिंह नंबर 661 /पीटीएल 07 अप्रैल, 2019 को गायब हो गए थे और गिरफ़्तारी से बच रहे थे। एस.आई.टी. द्वारा पता लगा कि वह गिरफ़्तारी से बचने की कोशिश करते हुए नेपाल, दिल्ली, गाजियाबाद, आदि की यात्रा कर चुके हैं। एसआईटी ने इन दोनों मुलजिमों का पता लगाने के लिए नवीनतम जांच तकनीकों का प्रयोग किया और 30 अप्रैल, 2019 को फोर्ट कोची के एक विशेष होटल में उनको रोकने में सफलता हासिल की। केरला पुलिस की मदद से, दोनों दोषियों को 30 अप्रैल को कोची में गिरफ़्तार किया गया, 2019 और आईजीपी, क्राइम, पंजाब के नेतृत्व वाली टीम ने दोनों मुलजिमों को 1 मई, 2019 को कोची से गिरफ़्तार किया था।
4.57 करोड़ रुपए की कुल रिकवरी में से 2.36 करोड़ रुपए एएसआई राजप्रीत सिंह से और एएसआई जोगिन्द्र सिंह से 2.21 करोड़ रुपए बरामद किये गए।
एफ.एम.जे. के सौदों की वित्तीय जांच के अनुसार, कुल रकम रुपए के 5.70 करोड़, जबकि एस.आई.टी. द्वारा अब तक 4.57 करोड़ रुपए कुल रिकवरी की गई है। हालाँकि, फादर एंथनी एसआईटी को अपने द्वारा दावा की गई कुल रकम की मौजूदगी के सम्बन्ध में पक्का प्रमाण नहीं दे सकेे हैं और शुरू में उसने दावा भी किया था कि लापता हुई रकम रुपए 6.66 करोड़ है। जांच का यह पहलू अभी भी जारी है और वित्तीय जांच से जुड़ा हुआ है।
एफएमजे हाऊस, जालंधर के डिलिंग की जांच, विशेष तौर पर सीएसआर फंडों की रीसाइक्लिंग के दोषों और एफएमजे, हाऊस में मिडल मैन (दलालों) की हाजिऱी बारे छापा मारा गया है। एसआईटी और सीएसआर, फंडों की रीसाइक्लिंग के नाजायज कारोबार में शामिल ज़्यादातर व्यक्तियों की जांच कर चुकी है। हालाँकि, इसमें शामिल बिचौलियों ने अब तक एसआईटी के सम्मन के पालन से इन्कार किया है और एसआईटी पालना लागू करने के लिए और ज्यादा ज़बरदस्त तरीकों का प्रयोग करने का इरादा रखती है। इनकम टैक्स अधिकारियों की तरफ से भी इस मामले की जांच की जा रही है और एसआईटी की तरफ से की जा रही जांच आईटी अधिकारियों द्वारा एकत्रित किये गए सबूतों को भी ध्यान में रखेगी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
सीएमओ दफ़्तर का इंस्पेक्टर और वाहन चालक रिश्वत लेते रंगे हाथ काबू, मिलीभगत में शामिल डीएचओ फरार। मोहाली को विश्व का पहला स्टार्टअप केंद्र बनाने की वकालत की युवक को अज्ञात लोगों ने अगवा कर अधमरा कर रेलवे लाइनों के फैंका पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी जीएम के आगमन के चलते दुल्हन की तरह सजा रेलवे स्टेशन पेश कर रहा मेट्रो स्टेशन का नजारा सूखे दरख्तों की कटाई या हरे वृक्षों पर कुल्हाड़ी सुखबीर बादल को भी राजोआना के साथ जेल में बिठाने पर ही होगा पंजाब का माहौल शांत: सिंगला निर्दोष स्कूल ने कैलेन्डर 2020 लांच किया दो दिवसीय पांचवीं वार्षिक कॉन्फ्रेंस मेडिकॉन-2019 आयोजित राजस्व विभाग में 1090 पटवारी भर्ती की मंजूरी