ENGLISH HINDI Wednesday, October 23, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

प्रो. रविकांत लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित

August 13, 2019 09:14 PM

ऋषिकेश(ओम रतूड़ी): अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान एम्स ‌ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत समेत कई हस्तियों को शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड-2019 से सम्मानित किया गया।
देहरादून में आयोजित सम्मान समारोह का बतौर मुख्यअतिथि राज्य विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल व उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने दीप प्रज्‍ज्वलित कर विधिवत शुभारंभ किया। समारोह में न्यूज चैनल की ओर से शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए विभिन्न शिक्षण संस्‍थानों को सम्मानित किया गया। इस दौरान मुख्यअतिथि विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद व उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डा. रावत ने संस्‍था की ओर से एम्स निदेशक प्रो. कांत को मेडिकल साइंस के क्षेत्र में उत्कृष्‍ट योगदान व उत्तराखंड में शिक्षा व चिकित्सा क्षेत्र में सतत कार्यों के लिए एचएनएन एजुकेशन एक्सीलेंस अवार्डस-2019 से सम्मानित किया। कार्यक्रम में निदेशक ने बताया कि संस्‍थान में मरीजों को विश्वस्तरीय स्वास्‍थ्य सुविधाएं उपलब्‍ध कराई जा रही हैं, प्रयास है कि उत्तराखंड व समीपवर्ती राज्यों के मरीजों को उपचार के लिए राज्य से बाहर नहीं जाना पड़े। उन्होंने बताया कि एम्स संस्‍थान में मरीजों के लिए अधिकतम चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाने के लिए संस्‍थागत स्तर पर सततरूप से प्रयास किए जा रहे हैं। प्रो. रवि कांत ने बताया कि एम्स में न्यूरोलॉजी, न्यूरो सर्जरी, यूरोलॉजी, गैस्ट्रो इंट्रोलॉजी,सर्जिकल ओंकोलॉजी,कॉर्डियोलॉजी, सीटीवीएस, नैफ्रोलॉजी, जीआई सर्जरी आदि समेत लगभग सभी सुपरस्पेशलिटी सुविधाएं मरीजों को उपलब्‍ध कराई गई हैं। कार्यक्रम में कई अन्य शिक्षण संस्‍थानों के प्रमुखों को भी सम्मानित किया गया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये