ENGLISH HINDI Monday, March 30, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
मेडीकल व अन्य सेवाओं हेतु पायलट प्रोजैक्ट— पुलिस एमरजैंसी सर्विसिज़ एप (पीईएसए) की शुरूआतकृषि विभाग द्वारा किसानों की सहायता के लिए कंट्रोल रूम स्थापितबन्दिशों के चलते सभी ज़रूरी वस्तुओं व सेवाओं की सप्लाई निरंतर यकीनी बनाने के लिए आदेशअधिकारित परचून विक्रेता को कंट्रोल्ड कीमतों पर चीनी देगा शूगरफैड: आलीवालकोविड-19 के विरुद्ध जंग तेज़, जीवन बचाओ उपकरणों के भंडार जुटाएप्रवासी मजदूरों की मूवमेंट के दृष्टिगत सभी अंतर्राज्यीय और अंतर-जिला सीमाएं सील करने के निर्देशपहल : ट्राईडेंट उद्योग समूह ने कर्मचारियों के खाते में डाले 25 करोड़ रुपए एडवांसउद्योग और भट्टों को सुरक्षित माहौल देने की शर्त पर प्रवासी मज़दूरों के साथ काम करने की अनुमति
राष्ट्रीय

उत्तराखंड: पर्यावरण मंत्रालय बनाने का फैसला

August 14, 2019 11:04 AM

देहरादून (ओम रतूड़ी) उत्तराखंड मंत्रिमंडल ने पर्यावरण मंत्रालय बनाने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में पर्यावरण निदेशालय गठित करने के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी गई। वन विभाग से अलग यह मंत्रालय पर्यावरण से संबंधित मामलों का निपटारा करेगा वहीं, पर्यावरण मंत्रालय के अस्तित्व में आने से विकास योजनाओं में पर्यावरण क्लियरेंस के मामले जल्द निपटाया जा सकेंगे। शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने बताया की कैबिनेट मीटिंग में आए 21 प्रस्तावों में 19 को मंजूरी दे दी गई। नए पर्यावरण मंत्रालय में 4 संस्थान होंगे। जिसमें नया निदेशालय का गठन होगा। इसका निदेशक अखिल भारतीय सेवा का अधिकारी होगा। वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के अधीन आने वाला प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, बायोडायवर्सिटी बोर्ड, स्टेट इनवायरमेंट इम्पेक्ट असेसमेंट अथारिटी और स्टेट इनवायरमेंट असेसमेंट कमेटी भी नए विभाग का हिस्सा होंगे। जिनमें पर्यावरण संरक्षण, एक्शन प्लान का क्रियान्वयन, संवेदनशील इको सिस्टम की पहचान जैसे कार्य जल्द हो सकेंगे।
कौशिक ने बताया कैबिनेट की बैठक में कई फैसले लिए गए, प्रदेश में शुगर मिल के गन्ना पेराई में किसानों को समय पर भुगतान नहीं करने से राज्य की शुगर मिलों की ओर 403 करोड़ का भुगतान लंबित है। सरकार ने निर्णय लिया है कि अब खांडसारी व पावर क्रशर इंडस्ट्री को बढ़ावा देने का फैसला लिया गया है। वहीं वर्ष 2019-20 के गन्ना पेराई सत्र में खांडसारी इकाइयों व पावर कृषि सेक्टर के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैं, जिससे अब चीनी मिल के 6 किलोमीटर की परिधि के बाद खांडसारी इकाई को लाइसेंस दिया जा सकेगा। चीनी मिल के सुरक्षित क्षेत्र से क्षेत्र में नया खांडसारी लाइसेंस दिए जाने पर प्रतिबंध हटा दिया गया है, पुराने लाइसेंस का भी नवीनीकरण किया जा सकता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति ने राशन, सब्ज़ियों दान की अपील की ऋषिकेश से दिल्ली आ रहे थे 14 जापानी के कोरोना टेस्ट नेगेटिव कोरोना लॉक डाउन में सूचना अधिकार कानून की अहमियत पुन: रामायण का प्रसारण 28 मार्च से कोरोना से निबटने हेतु सरकारी एवं गैर-सरकारी संस्थाओं, सामाजिक व धार्मिक संगठनों का सहयोग लें: राष्ट्रपति 104 वर्ष की उम्र में दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक संगठन ब्रह्माकुमारीज संस्था की प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी का देहावसान कोरोना लॉक डाउन: आमजन को मुसीबत, मुनाफाखोर देशप्रेम को ठेंगा दिखा कूट रहे चांदी कैट ने वित्त मंत्री की घोषणाओं को सराहा -ब्याज को पूरी तरह समाप्त करने का आग्रह किया घर.घर जाकर राशन सामग्री पहुंचा रही है विजय जिन्दल चैरिटेबल ट्रस्ट मौत से पहले नवांशहर का बलदेव कर गया फिल्लौर निवासी अपने ही परिवार के तीन अन्य सदस्यों सहित 18 को संक्रमित