ENGLISH HINDI Saturday, August 15, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
22 अगस्त ,शनिवार को मनाएं श्री गणेश जन्मोत्सव, रखें सिद्धि विनायक व्रत, न करें चंद्र दर्शनस्वतंत्रता दिवस पर ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन पंजाब: 9 कृषि-रसायनों की बिक्री पर पाबन्दीए.डी.जी.पी. वरिन्दर कुमार और अनीता पुंज को विलक्षण सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडलवाराणसी में वर्चुअल माध्यम से धनवंतरी चलंत अस्पताल का शुभारंभपूंजीगत खर्च पर सीपीएसई की तीसरी समीक्षा बैठकविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का पुलिस पदक और सराहनीय सेवाओं के लिए आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को पुलिस पदक से सम्मानितराष्ट्रपति ने सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों के कार्मिकों के लिए 84 वीरता पुरस्कारों और अन्य सम्मानों की मंजूरी दी
हिमाचल प्रदेश

आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती

August 18, 2019 09:25 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) बरसों पहले आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन जैसे महान वैज्ञानिकों ने भौतिकी में कुछ ऐतिहासिक नियमों का आविष्कार किया था। इन नियम और सिद्धांतों को हम आज तक पढ़ते आ रहे हैं। लेकिन हिमाचल प्रदेश से सम्बंध रखने वाले भारतीय वैज्ञानिक अजय शर्मा ने इसको चुनौती दी है। अजय शर्मा के मुताबिक न्यूटन का नियम वस्तु के आकार की अनदेखी करता है। यह नियम की महत्वपूर्ण खामी है।
न्यूटन के अनुसार वस्तु चाहे गोल, अर्ध गोलाकार त्रिभुज, लम्बी पाइप, शंकु, स्पाट या अनियमित आकार की हो, क्रिया और प्रतिक्रिया बराबर होनी चाहिए। वस्तु का आकार पूरी तरह बेमानी है, पर प्रयोगों में प्रतिक्रिया वस्तु के आकार पर निर्भर करती है। इसकी अंतिम मान्यता के लिए कुछ प्रयोगों की आवश्यकता है। आज तक न्यूटन के नियम को बिना कुछ महत्वपूर्ण प्रयोगों के ही सही माना जा रहा है। यह अवैज्ञानिक है। अजय शर्मा के अनुसार इन नये प्रयोगों से न्यूटन का नियम बदल जाएगा।
22 अगस्त 2018 की रिपोर्ट में अमेरिकन एसोसिएशन आफॅ फिजिक्स टीजर्ज के प्रेजीडेंट प्रोफैसर गौर्डन पी रामसे ने प्रयोगों को करने की सलाह दी है। 1 अगस्त, 2018 को प्रस्तुति के दौरान एक अमेरिकी प्रोफैसर ने कहा था कि यदि इन प्रयोगों द्वारा न्यूटन की खामी को सिद्ध कर दिया जाए तो भारत नोबेल प्राइज का हकदार होगा।

प्रयोगों के लिए सुविधाओं की दरकार:
पिछले करीब 36 सालों से विज्ञान के आईंस्टाइन, न्यूटन और आर्कि मिडीज के सिद्धांतों पर शोध कर रहे उप जिला शिक्षा अधिकारी अजय शर्मा की शोध को 2018 में इंडियन साइंस कांग्रेस ने फ़िजिकल साइंसिज की प्रोसीडिग्ज में प्रकाशित किया है। यदि 10 से 12 लाख के खर्च, लैब जैसी सुविधाएं और शोध उजागर करने के लिए सरकार की मदद मिली तो वह न्यूटन के सिद्धांत को दी गई अपनी चुनौती को साबित कर दिखाएंगे। अजय शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय साइंस एंड टैक्नोलॉली मंत्री डा० हर्षवर्धन, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, से आग्रह किया है कि वे प्रयोगों के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवायें।

 
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
नवोदय विद्यालय में ग्यारहवीं कक्षा में लेटरल एंट्री के लिए आवेदन आमंत्रित रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए ‘हिम हल्दी दूध’ का शुभारम्भ टी.जी.टी. टेट पास उम्मीदवार 25 अगस्त तक दर्ज करवायें भूतपूर्व सैनिकों के आश्रितों में अपना नाम आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा सहायिका के पद के साक्षात्कार 31 अगस्त को 12 व 13 अगस्त को बिजली आपूर्ति बाधित बगली फीडर में 14 अगस्त को बिजली बंद ‘एक जिला-एक उत्पाद’ की अवधारणा को लेकर बनाये जायेंगे कृषक उत्पादक संगठन हिमाचल ने ई-संजीवनी पोर्टल पर परामर्श पंजीकृत करने में तीसरा स्थान प्राप्त किया उचित मूल्य की दुकानों के लिये करें आवेदन हिमाचल: प्रदेशभर में रोपित होंगे 1 करोड़ 20 लाख पौधे: चौधरी