ENGLISH HINDI Saturday, January 18, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
द लास्ट बेंचर्स ने गरीब बच्चों के साथ धूमधाम से मनाया लोहड़ी का त्यौहार: बच्चों को बांटे गर्म वस्त्र, कम्बल और गिफ्ट्सविश्व हिंदू परिषद पंजाब की तरफ से पंजाब के माननीय राज्यपाल को दिया ज्ञापन1652 होमगार्ड जवानों की होगी भर्ती26 को राज्यपाल अंबाला में, मुख्यमंत्री जींद में फहराऐंगे राष्ट्रीय ध्वजसूद बने चंडीगढ़ भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष, टंडन बने राष्ट्रीय परिषद् के सदस्यदो तहसीलदारों के विरुद्ध रिश्वत का मामला दर्ज, एक गिरफ़्तारक्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं?बीएमटीसी की प्रबंध निदेशक ने चलाई वाल्वो बस, कहीं प्रशंसा तो कहीं आलोचना
हिमाचल प्रदेश

आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती

August 18, 2019 09:25 PM

धर्मशाला, (विजयेन्दर शर्मा) बरसों पहले आर्किमिडीज, न्यूटन और आइंस्टाइन जैसे महान वैज्ञानिकों ने भौतिकी में कुछ ऐतिहासिक नियमों का आविष्कार किया था। इन नियम और सिद्धांतों को हम आज तक पढ़ते आ रहे हैं। लेकिन हिमाचल प्रदेश से सम्बंध रखने वाले भारतीय वैज्ञानिक अजय शर्मा ने इसको चुनौती दी है। अजय शर्मा के मुताबिक न्यूटन का नियम वस्तु के आकार की अनदेखी करता है। यह नियम की महत्वपूर्ण खामी है।
न्यूटन के अनुसार वस्तु चाहे गोल, अर्ध गोलाकार त्रिभुज, लम्बी पाइप, शंकु, स्पाट या अनियमित आकार की हो, क्रिया और प्रतिक्रिया बराबर होनी चाहिए। वस्तु का आकार पूरी तरह बेमानी है, पर प्रयोगों में प्रतिक्रिया वस्तु के आकार पर निर्भर करती है। इसकी अंतिम मान्यता के लिए कुछ प्रयोगों की आवश्यकता है। आज तक न्यूटन के नियम को बिना कुछ महत्वपूर्ण प्रयोगों के ही सही माना जा रहा है। यह अवैज्ञानिक है। अजय शर्मा के अनुसार इन नये प्रयोगों से न्यूटन का नियम बदल जाएगा।
22 अगस्त 2018 की रिपोर्ट में अमेरिकन एसोसिएशन आफॅ फिजिक्स टीजर्ज के प्रेजीडेंट प्रोफैसर गौर्डन पी रामसे ने प्रयोगों को करने की सलाह दी है। 1 अगस्त, 2018 को प्रस्तुति के दौरान एक अमेरिकी प्रोफैसर ने कहा था कि यदि इन प्रयोगों द्वारा न्यूटन की खामी को सिद्ध कर दिया जाए तो भारत नोबेल प्राइज का हकदार होगा।

प्रयोगों के लिए सुविधाओं की दरकार:
पिछले करीब 36 सालों से विज्ञान के आईंस्टाइन, न्यूटन और आर्कि मिडीज के सिद्धांतों पर शोध कर रहे उप जिला शिक्षा अधिकारी अजय शर्मा की शोध को 2018 में इंडियन साइंस कांग्रेस ने फ़िजिकल साइंसिज की प्रोसीडिग्ज में प्रकाशित किया है। यदि 10 से 12 लाख के खर्च, लैब जैसी सुविधाएं और शोध उजागर करने के लिए सरकार की मदद मिली तो वह न्यूटन के सिद्धांत को दी गई अपनी चुनौती को साबित कर दिखाएंगे। अजय शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय साइंस एंड टैक्नोलॉली मंत्री डा० हर्षवर्धन, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, से आग्रह किया है कि वे प्रयोगों के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवायें।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हिमाचल प्रदेश ख़बरें
शोभा यात्रा से हुआ प्रागपुर राज्य स्तरीय लोहड़ी मेले का शुभारंभ मकर संक्रांति पर पर्यटन विभाग पकाएगा 1100 किलो खिचड़ी नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर प्रदेश स्तरीय जन जागरण अभियान 5 से नये साल के पहले दिन श्रद्धालुओं का तांता ज्वालामुखी में आरोह सांस्कृतिक समारोह का आयोजन एनजीओ-द लास्ट बेंचर्स और अमृत फाउंडेशन ने महिलाओं के लिए लगाया कैंसर अवेयरनेस एंड डिटेक्शन कैम्प पठन पाठन का तौर तरीका बदलना होगा: डिप्टी स्पीकर हंस राज कंपनी में रोजगार के लिए चयनित किया विद्यार्थियों में सामाजिक चेतना विकसित करें शिक्षक एवं अभिभावक: परमार ग्रेट पेरेंट्स डे पर वेद धारा ग्लोबल स्कूल में दादा दादी की धूम