ENGLISH HINDI Wednesday, February 19, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
हिन्दू महासभा और हिन्दू संगठनों के लिए फ़िल्म द हंड्रेड बक्स की होगी स्पेशल स्क्रीनिंगसरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरीडेराबस्सी— बरवाड़ा रोड पर एक फैक्ट्री में आग लगीपरमजीत कला, संस्कृति और खेल प्रकोष्ठ के अध्यक्ष नियुक्तश्रीसालासर बालाजी परिवार की मूर्तियो का विधिवत रूप से श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर-32 में प्राण प्रतिष्ठा कर स्थापित की गईनम्बरदारों का मानभत्ता 2000 रुपए करने का फैसलाफ़िल्म 'द हंड्रेड बक्स' की होगी स्पेशल स्क्रीनिंगआनुवांशिक सुधार व निवेश लागत घटाकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के प्रयास
हरियाणा

साइबर अपराध और कानूनी जागरूकता पर 3 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू

August 19, 2019 08:04 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
हरियाणा पुलिस अकादमी, मधुबन में साइबर अपराध और कानूनी जागरूकता पर न्याययिक अधिकारियों एवं लोक अभियोजकों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आरम्भ हुआ। इसे गृह मंत्रालय भारत सरकार के तत्वावधान में आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम के शुभारम्भ अवसर पर हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक (मानवाधिकर एवं लिटिगेशन) सुधीर चौधरी ने मुख्य अतिथि तथा हरियाणा अभियोजन विभाग के अतिरिक्त निदेशक शशिकांत शर्मा ने विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की। इसमें 11 न्याययिक अधिकारी तथा 10 लोक अभियोजक भाग ले रहे हैं।
डीजीपी चौधरी ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में साइबर अपराध अलग-अलग स्वरूपों में विस्तार कर रहा है। यह अपराधियों के लिए अधिकतम कमाई वाले अपराधों में से एक बनता जा रहा है। साइबर अपराधी एक कमरे या किसी कौने में बैठे और कभी-कभी तो चलते फिरते ही किसी को साइबर अपराध का शिकार बना लेते हैं। साइबर अपराध से निपटना आपराधिक न्याय प्रणाली के लिए एक चुनौती है जिसमें सफलता के लिए जरूरी है कि पुलिस, न्यायालय और अभियोजन अपने ज्ञान और कौशल को निरंतर उन्नत करता रहे। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि साइबर अपराध को लेकर यह प्रशिक्षण कार्यक्रम इस दिशा में उपयोगी सिद्ध होगा। उन्होंने प्रतिभागियों का आह्वान करते हुए कहा कि कुछ नया सीखने और आपसी विचार विमर्श के प्रत्येक अवसर का लाभ उठाने के लिए तैयार रहें, इससे कार्यकुशलता और समझ दोनों ही बढ़ती है।
अभियोजन विभाग के अतिरिक्त निदेशक शशिकांत शर्मा ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि कानून में समय के साथ बदलाव होते हैं इसलिए हमें अपनी जानकारी को निरंतर बढ़ाते रहना चाहिए। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के एक कथन का सहारा लेते हुए कहा कि साहस ज्ञान के परिणाम स्वरूप प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि ज्ञान से सृजनशीलता, सृजनशीलता से सही पथ और इससे साहस पैदा होता है। उन्होंने कहा कि ज्ञान और अहंम का कभी साथ नहीं हो सकता क्योंकि अहम् कुछ भी नया सीखने के विचार को मार देता है और व्यक्ति सोचने लगता है कि उसे तो सब पता है। जबकि ज्ञान सदैव और किसी भी उम्र व परिस्थिति में प्राप्त किया जा सकता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
महापुरुषों की जयंतियां उनके जीवन पर शिक्षाओं पर कार्यक्रम आयोजित करके मनाई जाए: मुख्यमंत्री फाइनेंस कंपनी का कर्मी बता वाहन चोरी की वारदातों को दिया अंजाम, पुलिस के हत्थे चढा पुलवामा हमले की बरसी पर राहुल गांधी का ट्वीट शर्मनाक: मलिक जनगणना: मकान सूचीकरण कार्य 1 मई से 15 जून तक किसानों की अनदेखी, एसवाईएल, बढ़ती बेरोजगारी, महिला सुरक्षा की अनदेखी: सैलजा दिव्यांग उद्यमियों की सफलता की कहानी बयां कर रहे हैं सूरजकुंड मेले के 12 स्टॉल 12 दिवसीय सरस मेले का आगाज पांच बदमाशों की गिरफ्तारी, लाखों रुपये व लूटी गई कार बरामद टिड्डी दल के आगमन के चलते अलर्ट जारी हरियाणा विधानसभा की जानकारी हेतु बनाया जाएगा सॉफ्टवेयर