ENGLISH HINDI Tuesday, February 18, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

राष्ट्रीय खेल पुरस्कार-2019 की घोषणा

August 21, 2019 02:19 PM

नई दिल्ली, फेस2न्यूज:
खेलों में उत्कृष्टता को मान्यता देने और पुरस्कृत करने के लिए राष्ट्रीय खेल पुरस्कार हर साल दिए जाते हैं। राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार चार वर्ष की अवधि के दौरान खेलों के क्षेत्र में सबसे शानदार और उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को दिया जाता है। अर्जुन पुरस्कार 4 वर्षों के दौरान लगातार उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए दिया जाता है। द्रोर्णाचार्य पुरस्कार प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता में पदक विजेता तैयार करने वाले कोच को प्रदान किया जाता है। खेलों के विकास में जीवन पर्यन्त योगदान देने के लिए ध्यानचंद पुरस्कार दिया जाता है। कॉरपोरेट संस्थाओं (निजी और सार्वजनिक क्षेत्र दोनों में) और उन व्यक्तियों को राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार दिया जाता है जिन्होंने खेलों के प्रोत्साहन और विकास के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। अंतर-विश्वविद्यालय प्रतियोगिताओं में कुल मिलाकर शीर्ष प्रदर्शन करने वाले विश्वविद्यालय को मौलाना अबुल कलाम आजाद (एमएकेए) ट्रॉफी प्रदान की जाती है।
इस वर्ष (2019) के पुरस्कारों के लिए बड़ी संख्या में नामांकन प्राप्त हुए, जिनपर पूर्व अर्जुन पुरस्कार विजेताओं, द्रोर्णाचार्य पुरस्कार विजेताओं, खेल पत्रकारों/विशेषज्ञों/कमंटेटरों और खेल प्रशंसकों की चयन समितियों द्वारा विचार किया गया। खेल पुरस्कार 2019 के लिए गठित चयन समिति के अध्यक्ष उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति मुकुंदकम शर्मा थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
यूटी जम्मू एंड कश्मीर स्मार्ट स्कूल स्थापित करने के लिए सबसे बेहतर स्थान जम्मू एंड कश्मीर इनवेस्टर्स समिट 2020 रोडशो बैंगलुरू से हुआ आरंभ राष्ट्रपति ने दादरा, नगर हवेली तथा दमन और दीव की विकास परियोजनाओं का शिलान्‍यास किया गैर मुस्लिम लोगों के साथ होती जादती से निजात दिलाता है सीएए: इंद्रेश कुमार फ्रॉस्ट इंटरनेशनल के बैंक धोखाधड़ी मामले पर सीबीआई कार्रवाई में देरी क्यों, चिराग मदान ने उठाए सवाल आठवें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिज्म का शुभारंभ दिल्ली वालों ने गजब कर दिया: केजरीवाल प्रजनन स्वास्थ्य सुरक्षा के बिना सतत विकास मुमकिन नहीं भारत सरकार ने तुरकिश रेडियो और टी.वी. एजेंसी के प्रोग्राम दिखाने पर लगाई पाबंदी पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के चयनित जिलों पर फोकस