ENGLISH HINDI Sunday, September 22, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

स्किल बेस्ड लाइफ सेविंग कोर्सेस अनिवार्य

August 22, 2019 07:48 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी) एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने दोहराया कि बिना एटीएलएस कोर्स के एम्स ऋषिकेश में अध्ययनरत किसी भी क्लिनिकल विषय के रेजिडेंट्स को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि ट्रामा के मरीजों को बेहतर सेवाएं देने के लिए सभी सर्जरी से जुड़े विभागों के जूनियर रेजिडेंट्स चिकित्सकों के लिए यह कोर्स पहले वर्ष में पहले छह महीने में करना आवश्यक है। वे एम्स ऋषिकेश में तीसरा एडवांस्ड ट्रामा लाइफ सपोर्ट एवं दूसरा एडवांस्ड ट्रामा केयर फॉर नर्सेस कोर्स शुरू होने पर सम्बोधित कर रहे थे। कोर्सों में कुल 32 चिकित्सक व नर्सेस को विशेषज्ञों द्वारा ट्रामा केयर पर स्पेशलिस्ट ट्रेनिंग दी जाएगी। प्रोफेसर कांत ने कहा कि एटीएलएस दुनियाभर में ट्रामा केयर प्रदान करने का मानदंड है। उन्होंने कहा कि एम्स ऋषिकेश इस तरह के स्किल बेस्ड लाइफ सेविंग कोर्सेस सभी चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ के लिए अनिवार्य करने के लिए प्रतिबद्ध है। ट्रामा के मरीजों को बेहतर सेवाएं देने के लिए सभी सर्जरी से जुड़े विभागों के जूनियर रेजिडेंट्स चिकित्सकों के लिए यह कोर्स पहले वर्ष में पहले छह महीने में करना आवश्यक है। प्रशिक्षण कार्यक्रम में दिल्ली एम्स से आए विख्यात ट्रामा एवं थोरेसिक सर्जन प्रो. बिपलब मिश्रा ने प्रशिक्षुओं के बीच ट्रामा से संबंधित अपने अनुभव साझा किए। साथ ही उन्होंने प्रशिक्षु प्रतिभागियों की विभिन्न शंकाओं का समाधान भी किया। इस कोर्स में ईएनटी विभाग के प्रो. सौरभ वार्ष्णेय, डा. मनु मल्होत्रा, जरनल सर्जरी के डा. फरहान उल हुदा, ट्रामा सर्जरी विभाग के डा. अमूल्य रतन व डा. मधुर उनियाल ने बतौर फैकल्टी अपनी सेवाएं दे रहे हैं। जबकि एडवांस्ड ट्रामा केयर फॉर नर्सेस प्रोग्राम के तहत नर्सिंग ऑफिसर्स की ट्रेनिंग के लिए एम्स नर्सिंग कॉलेज के प्राचार्य प्रो. सुरेश के. शर्मा,सीनियर नर्सिंग ऑफिसर महेश देवस्थले, एम्स दिल्ली की डा. सीमा सचदेवा एवं महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी, जयपुर की नर्सिंग इंचार्ज एवं एटीएलएस को-ऑर्डिनेटर एनिट जॉर्ज सेवाएं दे रही हैं। कोर्स में 16 डॉक्टर्स व 16 नर्सेस प्रतिभाग कर रहे हैं, जिनमें एम्स के 12 चिकित्सकों के अलावा हिमालयन हास्पिटल जौलीग्रांट, कोलकाता, दिल्ली के चिकित्सक भी हिस्सा ले रहे हैं। बताया गया कि कार्यशाला के तहत दो दिवसीय प्रशिक्षण के बाद अंतिम दिन प्रतिभागियों की लिखित परीक्षा होगी,जिसमें उत्तीर्ण होने के लिए विश्वस्तर का उच्च मापदंड 70 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और राष्ट्रीय ख़बरें
परमार्थ निकेतन में अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति दिवस पर विशेष प्रार्थना का आयोजन भारत के लोग पाक वासियों के हित के बारे में सोचते हैं भाषाओं का मेलजोल समाज के लिए जरूरी विश्व शांति दिवस पर मीडिया कर्मियों से किया शांति और सदभाव फैलाने का आहवान एम्स में तीन दिवसीय कंप्यूटर एडिड ड्रग्स डिजाइनिंग कार्यशाला संपन्न छात्र, शिक्षक अन्‍य भाषाएं सीखने के साथ ही मातृभाषा को भी पर्याप्‍त महत्‍व दें एसीसी नियुक्ति दिल्ली एयरपोर्ट पर पांच अफगान यात्री पकड़े, 15 करोड़ की हेरोइन के 370 कैप्सूल बरामद जीवन की सार्थकता है 'स्वार्थ से सर्वार्थ की यात्रा, परमार्थ की यात्रा' तीसरा विश्व हिमालय सम्मेलन अगले वर्ष नेपाल में