ENGLISH HINDI Sunday, February 23, 2020
Follow us on
 
पंजाब

बटाला पटाख़ा फैक्ट्री धमाके की घटना के मैजिस्ट्रेटी जांच के आदेश

September 05, 2019 07:52 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने बुधवार को बटाला में पटाख़ा फैक्ट्री में हुए ज़बरदस्त धमाके की घटना की मैजिस्ट्रेट जांच के हुक्म दिए हैं। इस दुखद घटना में 19 जानें चलीं गई जबकि 27 लोग ज़ख्मी हुए हैं।
ए.डी.सी. (बटाला) को इस दुखद घटना की जांच करने के लिए हुक्म किये गए हैं।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा को तुरंत घटनास्थल पर पहुँचने के निर्देश दिए हैं जिससे राहत और बचाव कार्यों के काम और तेज़ी से हो सकें।
मुख्यमंत्री ने इस घटना में मारे गए हरेक व्यक्ति के वारिस को 2 लाख रुपए एक्स ग्रेशिया अनुदान देने का ऐलान भी किया है। इसके अलावा अमृतसर मैडीकल कॉलेज के लिए रैफर किये हरेक गंभीर रूप से ज़ख्मी व्यक्ति को 50 हज़ार रुपए और मामूली रूप से ज़ख्मी व्यक्ति को 25 हज़ार रुपए देने का ऐलान किया है।
मुख्यमंत्री ने दुख के इन पलों में पीडि़तों को हर संभव मदद देने के लिए जि़ला गुरदासपुर के सिविल और पुलिस प्रशासन को कहा है। उन्होंने डिप्टी कमिश्नर गुरदासपुर को कहा है कि ज़ख्मियों को मुफ़्त में बेहतर इलाज मुहैया करवाना यकीनी बनाया जाये और एस.एस.पी. बटाला को कहा है कि एन.डी.आर.एफ. टीमों द्वारा किये जा रहे राहत कार्यों की वह ख़ुद देख-रेख करें।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और पंजाब ख़बरें
मूलभूत सुविधाएं न मिलने को लेकर शिवालिक निवासियों ने खोला कॉलोनाइजर के खिलाफ मोर्चा अवैध पुल व माईनिंग के खिलाफ विभाग ने दी पुलिस को शिकायत, पुलिस की जांच शुरु सर्वहितकारी विद्या मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम सम्पन्न जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे, करंट वाली तार लगाने व अलग ख़ुफिय़ा विंग सहित कई फ़ैसलों की मंजूरी सरकारी संस्थानों के साईन बोर्ड, सडक़ों के मील पत्थर पंजाबी में लिखे जाना अनिवार्य: बाजवा हाईकोर्ट के आदेशों पर 100 मीटर क्षेत्र में 13 गोदामों पर चला पीला पंजा उपभोक्ता फोर्म के स्टाफ को क्यों ज्वाइन नहीं करवा रही सरकार?: चीमा ‘आप’ विधायका रूबी ने उठाया असुरक्षित स्कूलों का मामला चोरों ने बंद घर में लाखों की नगदी व गहनों पर किया हाथ साफ सरकारी मेडीकल कॉलेज मोहाली का नाम बदलकर डॉ. बी.आर. अम्बेदकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल साइंसज़ रखने को मंज़ूरी