राष्ट्रीय

एम्स में बेसिक लाइफ सपोर्ट कोर्स बीएलएस शुरू

September 13, 2019 08:58 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी)

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश एम्स ऋषिकेश अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन इंटरनेशनल ट्रेनिंग सेंटर में शुक्रवार से सीमा डेंटल कॉलेज एंड हास्पिटल के फैकल्टी व स्टूडेंट्स का बेसिक लाइफ सपोर्ट कोर्स बीएलएस शुरू हो गया। तीन दिवसीय कार्यशाला का एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने विधिवत शुभारंभ किया। इस अवसर पर निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि बेसिक लाइफ सपोर्ट क्रिया न सिर्फ चिकित्सकों के लिए जरुरी है बल्कि वाहन चालक व सुरक्षाकर्मियों को भी बीएलएस की क्रिया आनी चाहिए।

निदेशक एम्स ने कहा कि बेसिक लाइफ सपोर्ट कोर्स स्कूलों में आठवीं कक्षा के बच्चों को नियमित ट्रेनिंग दी जानी चाहिए। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि नियमित अभ्यास से बच्चे परिवार के अन्य सदस्यों को भी इस क्रिया को लेकर जागरुक करेंगे, ऐसे में आपात स्थिति में वह किसी की जान बचा सकते हैं। इससे समाज में बदलाव लाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि ऋषिकेश एम्स संस्थान अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन का अनुबंधित इंटरनेशनल ट्रेनिंग सेंटर है, लिहाजा यहां न सिर्फ एम्स संस्थान के कर्मचारी एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को बीएलएस की ट्रेनिंग देनेके साथ ही अन्य संस्थानों से जुड़े लोग भी प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि इसी क्रम में सीमा डेंटल कॉलेज के फैकल्टी मेंबर्स व विद्यार्थियों को एम्स में बेसिक लाइफ सपोर्ट क्रिया का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन सर्टिफाइड बेसिक लाइफ सपोर्ट (बीएलएस) कोर्स के तहत प्रतिभागियों को कार्डियक अरेस्ट से ग्रस्त व्यक्ति का जीवन बचाने के लिए स्किल प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण कार्यशाला में ट्रेनिंग को-आूर्डिनेटर डा. प्रदीप अग्रवाल, डा. राजेश कुमार, डा. कनव जैन, डा. राकेश शर्मा, मलार कोडी, डा. पद्मानिधि अग्रवाल व अरुण वर्गिश ने प्रतिभागियों को जीवन को बचाने के लिए इस कोर्स का महत्व बताया। इस अवसर पर डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश, सीमा डेंटल कॉलेज के चेयरमैन डा. अमित गुप्ता, डीन डा. हिमांशु ऐरन आदि मौजूद थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये