ENGLISH HINDI Monday, October 21, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

एम्स ऋषिकेश के निदेशक ने जन्मदिन श्रमिकों के बच्चों के बीच मनाया

September 14, 2019 08:05 PM

ऋषिकेश (ओम रतूड़ी)

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने अपना जन्मदिन संस्थान की निर्माणाधीन योजनाओं में कार्यरत श्रमिकों के नन्हें- मुन्हें बच्चों के बीच सादगीपूर्वक मनाया। इस दौरान निदेशक प्रो. रवि कांत ने श्रमिकों के बच्चों को पाठ्य सामग्री, स्कूल बैग व खिलौने वितरित किए। जन्मदिन के मौके पर निदेशक एम्स ने परिसर में पौधरोपण कर पर्यावरण संवर्धन का संदेश दिया।

प्रो. रवि कांत ने श्रमिकों के बच्चों को पाठ्य सामग्री, स्कूल बैग व खिलौने वितरित किए। जन्मदिन के मौके पर निदेशक एम्स ने परिसर में पौधरोपण कर पर्यावरण संवर्धन का संदेश दिया

 इस अवसर पर एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने संस्थान में निर्माणाधीन प्रोजेक्ट्स में कार्यरत श्रमिकों को बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के लिए हरसंभव आर्थिक सहयोग देने की घोषणा की, जिससे गरीब पृष्ठभूमि से जुड़े बच्चे गुणवत्तापरक शिक्षा ग्रहण कर समाज की मुख्यधारा से जुड़ सकें। उधर, जन्मदिन के अवसर पर आयोजित सादे समारोह में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत को संस्थान के अधिकारियों व कर्मचारियों ने मुहं मीठा कराया व जन्मदिन की शुभकामनाएं दी, साथ ही पुष्पगुच्छ, उपहार भेंट किए और ईश्वर से उनकी दीर्घायु व सुख समृद्धि की मंगल कामनाएं की।

इस अवसर पर उप निदेशक (प्रशासन) अंशुमन गुप्ता, डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. ब्रह्मप्रकाश, प्रोफेसर बीना रवि, प्रो. सुरेखा किशोर, प्रो. ब्रिजेंद्र सिंह,डा. प्रशांत मनोहर पाटिल, डा. नम्रता गौर, डा. बलराम जीओमर, डा. केएस रवि, डा. अनुभा अग्रवाल, डा. प्रेरणा बब्बर,अधीक्षण अभियंता सुलेमान अहमद, ईई एमपी सिंह, जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल आदि मौजूद थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये