राष्ट्रीय

हिन्दी दिवस : विदेशियों को हिन्दी सिखाने की अनूठी पहल

September 14, 2019 08:20 PM

ऋषिकेश ( ओम रतूड़ी)

हिन्दी दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन में विदेशी सेवकों और सैलानियों को हिन्दी सिखाने के लिये हिन्दी की कक्षाओं का आयोजन किया जायेगा। हिन्दी सीखने के लिये कई विदेशियों ने अपनी रूचि दिखायी। परमार्थ निकेतन में विदेश से आने वाले पर्यटक हिन्दी सीखने और बोलने के लिये उत्सुक होते हैं उन्हें हिन्दी की कक्षायें प्रदान की जाये तो इससे हिन्दी का भी विस्तार होगा और विदेश से आने वाले लोगों को भाषा के प्रति जो असुविधा होती है, उसे भी कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

हिन्दी भाषा के विस्तार का लिया संकल्प,अन्तर्राष्ट्रीय एडवेंटिस्ट डेवलपमेंट रिलीफ एजेंसी के सदस्यों ने वाॅटर ब्लेसिंग सेरेमनी कर जल संरक्षण का संकल्प लिया

यह निर्णय,परमार्थ निकेतन में पहुंचे अन्तर्राष्ट्रीय एडवेंटिस्ट डेवलपमेंट रिलीफ एजेंसी, (एडीआरडी) के भारत में निदेशक वेस्टन डेविस और उनके दल के साथ वार्ता में लिया गया। यह संगठन विश्वास आधारित संगठन है जो भारत सहित विश्व के 130 से अधिक देशों में कार्य कर रहा है। वेस्टन डेविस के नेतृत्व में दल के सदस्यों ने परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष और ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलांयस के संस्थापक स्वामी चिदानन्द सरस्वती और जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती से मुलाकात की।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने वेस्टन डेविस से पर्यावरण, जल और वायु प्रदूषण के विषय में चर्चा करे हुये कहा कि इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस की थीम वायु प्रदूषण रखी गयी थी। वायु प्रदूषण किसी एक राष्ट्र की नहीं बल्कि वैश्विक समस्या है। उन्होने कहा कि जो वायु जीवन दायिनी है वह मानवीय गतिविधियों के कारण प्रदूषित होकर रोगों को उत्पन्न करने का कारक बन गयी है। वायु में 10 माइक्रोमीटर के बराबर या उससे छोटे व्यास वाले पर्टिकुलेट इतने छोटे होेेते है कि वे श्वास के माध्यम से मनुष्य के फेफडों में प्रवेश कर जाते है जिससे गंभीर स्वास्थ्य संबधीं समस्याएं उत्पन्न होती है। पीएम 2.5 काफी छोटे कण होते हैं। हमारे बाल का व्यास 70 माइक्रोमीटर होता है अब अंदाजा लगाया जा सकता है कि पीएम 2.5 कितना छोटा कण होता होगा जो सांस के साथ सीधे फेफड़ों में प्रवेश करता है। प्रदूषकों में विद्यमान पर्टिकुलेट मैटर्स जिनका आकार 0.001 से 500μm तक होता है ये वायु में विलय होकर मनुष्य के फेफड़ों और जल स्रोतों को भी प्रदूषित करते हैं, जिससे मनुष्य को अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

इन समस्याओं के प्रति लोगों को जागृत करने हेतु कार्य किया जा सकता है। उन्होने कहा कि परमार्थ निकेतन, जीवा और (एडीआरडी) दोनों मिलकर अनेक क्षेत्रों में कार्य कर सकते हैं।

वेस्टन डेविस में स्वामी चिदानंद के सुझाव पर स्वीकृति देते हुये कहा कि उनका संगठन इस पर जरूर विचार विमर्श करेंगा। उन्होने कहा कि हमारा उद्देश्य एक ही है अतः हम इस प्रकार संगठित होकर कार्य करेंगे तो इसके और भी अच्छे परिणाम प्राप्त किये जा सकते हैं।

हिन्दी दिवस पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि ’भारत की महान, विशाल, गौरवशाली सभ्यता और विरासत को सहेजने का कार्य हिन्दी ने ही किया है। हिन्दी भारतीय संस्कारों और संस्कृति से युक्त भाषा है। हिन्दी से जुड़ना अर्थात अपनी जड़ों से जुड़ना। आईये हिन्दी को जन मानस की भाषा बनाने से पहले हम अपने मानस में उसे प्रतिष्ठित करे।
आज राज्य भाषा हिन्दी के विस्तार हेतु स्वामी चिदानन्द ने गंगा आरती में सभी को संकल्प कराते हुये कहा कि हिन्दी दिल की भाषा है इसलिये ज्यादा-ज्यादा लोग हिन्दी में बोले तथा भावी पीढ़ी को भी हिन्दी से जोड़े।

उन्होने कहा कि अपनी-अपनी मातृभाषा बोले परन्तु हिन्दी हमारी राज्य भाषा है मेरा मानना है कि यह सब को आनी चाहिये हमें ऐसा प्रयास करना चाहिये। स्वामी चिदानन्द सरस्वती और डाॅ साध्वी भगवती सरस्वती के पावन सान्निध्य में वेस्टन डेविस, मिशेल डेविस, समर डेविस, टेलर जेम्सन बाॅन्ड, रिवेर डेविस, सिएरा डेविस, ईसाई बेल, शेल्डन मैक्सवेल, राइनी बेल, हेली डेविस और अन्य विदेशी पर्यटकों ने विश्व स्तर पर जल की आपूर्ति हेतु वाॅटर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न की।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये