ENGLISH HINDI Tuesday, June 02, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
"तथास्तु चैरिटेबल ट्रस्ट" ने जरूरतमंदों को दी हरसंभव मददट्राईसिटी चर्च एसोसिएशन ने कोरोना योद्धाओं को मदर टेरेसा अवार्ड से किया सम्मानितहरियाणा: व्यक्तिगत डिस्टेंसिंग की पालना के साथ सभी दुकानें 9 से सायं 7 बजे तक खोलने की स्वीकृतिमॉनसून ऋतु (जून–सितम्बर) की वर्षा दीर्घावधि औसत के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावनासमाजसेवी रविंद्र सिंह बिल्ला और टीम की तरफ से बाँटे जा रहे लंगर का हुआ समापन पंजाब में मैन मार्केट, सैलून, शराब की दुकानों, सपा आदि निर्धारित संचालन विधि की पालना के साथ आज से खुलेकांगड़ा में आए कोरोना पॉजिटिव आठ नए मामलेपीएनबी बैंक का ताला तोड़कर नकाबपोशों ने किया लूटने का प्रयास
राष्ट्रीय

अज्ञात वाहन की टक्कर से घायल या मौत, सोलेटियम स्कीम के तहत पायें मुआवजा

September 17, 2019 06:31 PM

चंडीगढ, संजय मिश्रा:
अज्ञात वाहन की टक्कर से घायल या मौत होने पर संबंधित व्यक्ति या परिवार को सोलेटियम स्कीम 1989 के तहत आर्थिक सहायता देने का प्रावधान है, लेकिन अधिकांश लोगों को इस स्कीम के बारे में पता ही नहीं है।
सोलेटियम फंड स्कीम जुलाई 1989 से देश भर में लागू है, जिसके तहत हिट एंड रन केस में घायल को 12 हजार 500 और मृत व्यक्ति के परिजनों को 25 हजार की सहायता देने का प्रावधान है।
पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने एक मामले का निपटारा करते हुए साफ़ किया है कि अगर सड़क दुर्घटना में वाहन पकड़ा जाता है तो मोटर वाहन अधिनियम की धारा 140 के तहत मौत एवं अपंग के लिए क्रमशः 50 हजार एवं 25 हजार दिए जाएंगे, लेकिन अगर वाहन नहीं पकड़ा गया है तो सेक्शन 161 के तहत मौत के लिए 25 हजार एवं अपंगता के लिए 12500 दिए जाएंगे।
लेकिन 22 मई 2018 को केंद्र सरकार ने एक गजट नोटिफिकेशन के द्वारा इस सहायता राशि को बढ़ा दिया है। अब सोलेटियम फंड स्कीम के अज्ञात वाहन से टक्कर में हुई मौत पर उसके परिजनों को 5 लाख रूपये मुआवजा दिया जाएगा। अगर दुर्घटनाग्रस्त ब्यक्ति अपंग हो जाता है तो 5 लाख रूपये को अपंगता की प्रतिशत के मुताबिक़ दिया जाएगा।
इस स्कीम के तहत तहसील स्तर पर दावा (सामान्य तौर पर एसडीएम स्तर का) किया जाता है। दावे की जांच सम्बंधित अधिकारी को एक महीने के अंदर करनी होती है और इसे दावा निष्पादन आयुक्त (जिला अधिकारी) के पास प्रस्तुत करना होता है। दावा निष्पादन अधिकारी प्रकरण का परीक्षण कर जिले की लीड बीमा कंपनी को सहायता राशि देने का निर्देश देता है। और फिर सम्बंधित बीमा कंपनी दावाकर्ता को उसके दावे का भुगतान चेक जारी करता है।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
मॉनसून ऋतु (जून–सितम्बर) की वर्षा दीर्घावधि औसत के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावना अनलॉक-1 के नाम से देश में 30 जून तक लॉकडाउन 5 लागू, क्या-क्या खुलेगा, किस पर रहेगी पाबंदी आखिर क्यों नहीं पीएमओ पीएम केयर फंड आरटीआई के दायरे में ? कितनी गहरी हैं सनातन संस्कृति की जड़ें कोरोना से युद्ध में रणनीति और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभाव सीआईपीईटी केंद्रों ने कोरोना से निपटने के लिए सुरक्षात्मक उपकरण के रूप में फेस शील्ड विकसित किया एन.एस.यू.आई. ने छात्रों को एक-बार छूट देकर उत्तीर्ण करने का किया आग्रह एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में