ENGLISH HINDI Tuesday, June 02, 2020
Follow us on
 
ताज़ा ख़बरें
हरियाणा: व्यक्तिगत डिस्टेंसिंग की पालना के साथ सभी दुकानें 9 से सायं 7 बजे तक खोलने की स्वीकृतिमॉनसून ऋतु (जून–सितम्बर) की वर्षा दीर्घावधि औसत के 96 से 104 प्रतिशत होने की संभावनासमाजसेवी रविंद्र सिंह बिल्ला और टीम की तरफ से बाँटे जा रहे लंगर का हुआ समापन पंजाब में मैन मार्केट, सैलून, शराब की दुकानों, सपा आदि निर्धारित संचालन विधि की पालना के साथ आज से खुलेकांगड़ा में आए कोरोना पॉजिटिव आठ नए मामलेपीएनबी बैंक का ताला तोड़कर नकाबपोशों ने किया लूटने का प्रयासकांग्रेसी मंत्रियों ने केंद्र द्वारा संघीय ढांचे का गला घोंटने पर बादलों को घेराकोरोना महामारी के बावजूद मानवता भलाई हेतु रक्तदान शिविर का आयोजन
हरियाणा

अध्यापकों पर लाठीचार्ज की कड़ी निंदा

September 18, 2019 07:01 PM

सिरसा, सतीश बांसल:
स्कूल लेक्चरर्स एसोसिएशन हरियाणा (सलाह) ने अपनी मांगों को लेकर पंचकूला में प्रदर्शन कर रहे कम्प्यूटर व करनाल में प्रदर्शन कर रहे अतिथि अध्यापकों पर किए गए लाठीचार्ज की कड़ी निंदा की है। सलाह के प्रदेश मीडिया प्रभारी गुरदीप सिंह सैनी, राज्य सहसचिव शमशेर शर्मा, जिला अध्यक्ष भूप सिंह सिहाग, जिला सचिव मान सिंह गोदारा, जिला उप्रधान नवीन सिंगला ने संयुक्त बयान में कहा कि समाज में स मान के नजरीये से देखे जाने वाले अध्यापक वर्ग के प्रति प्रदेश सरकार का ऐसा रवैया उचित नहीं है। प्रजातंत्रिक व्यवस्था में सभी को अपनी मांगों के लिए आवाज बुलंद करने का अधिकार है। लेकिन प्रदेश सरकार अध्यापकों की मांगों को तानाशाही के बल पर दबाना चाहती है। बता दें कि गत दिनों पूर्व पंचकूला में प्रदर्शन कर रहे कम्प्यूटर टीचरों पर बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज किया गया। इस दौरान महिला अध्यापकों को भी नहीं ब शा गया। गत दिवस करनाल में भी गेस्ट टीचरों के साथ ऐसा ही दुर्भाग्य पूर्ण व्यवहार किया गया। सैनी ने कहा कि सलाहअध्यापकों के साथ हुई ऐसी बर्बर कार्रवाई की कड़े शब्दों में निंदा करता है, वहीं इस मामले में दोषी पुलिस अधिकारियों पर उचित कार्रवाई की मांग करता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में जहां अध्यापकों की कमी के चलते शिक्षा व्यवस्था प्रभावित हो रही है, वहीं सरकार के नुमाइंदे शिक्षा व्यवस्था को कमजोर करने में लगे हुए हैं। गुरदीप सैनी ने कम्प्यूटर एवं गेस्ट टीचरों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को इस मसले पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। प्रदेश सरकार रोजगार देने के दावे तो करती है, लेकिन इन अध्यापकों के साथ हजारों परिवारों की रोजी-रोटी जुड़ी हुई है। यदि इन अध्यापकों को सरकार बाहर का रास्ता दिखाती है तो यह किसी मायने में सही नहीं होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने अध्यापकों को पक्का करने का वादा किया था, लेकिन वे भी अपने वादे से मुकर गए।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और हरियाणा ख़बरें
हरियाणा: व्यक्तिगत डिस्टेंसिंग की पालना के साथ सभी दुकानें 9 से सायं 7 बजे तक खोलने की स्वीकृति पत्रकारिता व्यक्ति और समाज के बीच एक सशक्त माध्यम: मुख्यमंत्री सैनिक की गर्भवती पत्नी कोरोना पॉजिटिव, अम्बाला के मिलिट्री अस्पताल में भर्ती चौकसी ब्यूरो ने दिया 7 राजपत्रित व 3 अराजपत्रित अधिकारियों के विरूद्ध जांच सीबीआई से करवाने का सुझाव एक आईएएस अधिकारी स्थानांत्रित टैक्सी, कैब एग्रीगेटर, मैक्सी कैब और ऑटो रिक्शा चलाने के दिशानिर्देश जारी विपक्ष को तसल्ली करवा देंगे: विज थोक एवं परचून विक्रेताओं की अनियमितताओं पर 763 चालान किये गये स्वास्थ्य से जुड़े तीन महत्वाकांक्षी कार्यक्रमों का शुभारंभ मजदूरों को अपने गृह राज्यों में पैदल न जाने देने के जिला उपायुक्तों को निर्देश