ENGLISH HINDI Tuesday, October 22, 2019
Follow us on
 
राष्ट्रीय

तीसरा विश्व हिमालय सम्मेलन अगले वर्ष नेपाल में

September 19, 2019 08:12 PM

चंडीगढ़, फेस2न्यूज:
सेव दि हिमालय फाउंडेशन का तीसरा अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन 2020 में नेपाल में होगा। इसकी तैयारी के लिए, एक उच्च-स्तरीय बैठक हाल ही में काठमांडू में संपन्न हुई। बैठक का आयोजन चौधरी फाउंडेशन, इकीमोड तथा हिमालएशिया संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। अंतर्राष्ट्रीय हिमालय सम्मेलन का उद्देश्य हिंदू कुश हिमालय में विज्ञान, व्यवसाय और समुदाय को आपस में जोडऩा होगा।
सेव दि हिमालय फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष, विख्यात बौद्ध गुरु, भिक्खु संघसेना, फाउंडेशन की प्रोजेक्ट मैनेजर फरिहा फातिमा तथा इसके कार्यकारी सदस्य कर्नल प्रकाश तिवारी ने बैठक में भाग लिया। इसमें विभिन्न हितधारकों और डब्ल्यूडब्ल्यूएफ नेपाल, इकिमोड, यूएनडीपी, यूनेस्को, संयुक्त राष्ट्र वैश्विक प्रभाव तथा विभिन्न यूरोपीय देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।
सेव दि हिमालय फाउंडेशन- चंडीगढ़ चैप्टर के महासचिव, नरविजय यादव ने कहा, 'हिमालय आज जलवायु परिवर्तन, सामाजिक-आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि, पर्यटन और आधुनिकीकरण के कारण अनेक संकटों का सामना कर रहा है। इसलिए, हिमालय क्षेत्र की रक्षा, संरक्षण और विकास पर अधिक ध्यान देना अत्यंत आवश्यक है। यह सभी लोगों की जिम्मेदारी है, चाहे उनकी जाति, धर्म और राष्ट्रीयता चाहे जो भी हो। '
फाउंडेशन के उद्देश्य से प्रभावित होकर, नेपाल के एकमात्र अरबपति श्री चौधरी ने 2020 में नेपाल में तीसरे सम्मेलन की मेजबानी करने में गहरी दिलचस्पी दिखायी थी। सम्मेलन के बारे में विचार-विमर्श करने और सभी हितधारकों को एक मंच पर लाने के लिए गोदावरी स्थित इकीमोड नॉलेज पार्क में पहली बैठक आयोजित की गयी थी।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
डीआरडीओ ने प्रौद्योगिकी हस्‍तातंरण से जुड़े 30 समझौते किये सुरक्षित और किफायती प्रौद्योगिकियों की दिशा में नवाचार उन्मूलन के लिए टीबी दर गिरना काफ़ी नहीं, गिरावट में तेज़ी अनिवार्य: नयी WHO रिपोर्ट बिना मानवाधिकार उल्लंघन के, व्यापार करे उद्योग: वैश्विक संधि की ओर प्रगति प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल चिकित्सकों व नर्सिंग कर्मचारियों का ट्रॉमा केयर में दक्ष होना नितांत आवश्यक कूड़ा मुक्त, कुरीति मुक्त भारत बने अनुभव व नवीनतम तकनीकि ज्ञान का लाभ मरीजों को मिले: प्रो. कांत जल संरक्षण पर कार्य करने की जरूरत हिमालयी क्षेत्रों में बड़े उद्योगों के बजाय लघु उद्योगों को महत्व दिया जाये