ENGLISH HINDI Monday, May 25, 2020
Follow us on
 
राष्ट्रीय

राजयोगा एजूकेशन एण्ड रीसर्च फाउण्डेशन के ग्राम विकास प्रभाग द्वारा समापन समारोह

September 22, 2019 08:18 PM

भिलाई, फेस2न्यूज:
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय एवं राजयोगा एजूकेशन एण्ड रीसर्च फाउण्डेशन के ग्राम विकास प्रभाग द्वारा सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ के गाँवों में 8 सितम्बर से 22 सितम्बर तक चलने वाले किसान सशक्तिकरण एवं नशामुक्ति अभियान भिलाई रथ का समापन समारोह सेक्टर-7 पीस ऑडिटोरियम में किया गया। जिसके अंतर्गत अभियान में शामिल सदस्यों का सम्मान किया। अभियान यात्रियों ने अपने अनुभवों को सुनाते हुए नशामुक्ती पर सुंदर प्रेरणादायी नाटक धर्मराज का दरबार प्रस्तुत किया।
इसके पश्चात् भिलाई सेवाकेन्द्रों की निदेशिका ब्रह्माकुमारी आशा ने स्वराज्य अधिकारी का अर्थ बताते हुए कहा कि जो स्वंय पर राज्य करते है उन्हें कभी प्रकृति परेशान नही कर सकती है पर वर्तमान में सभी स्वंय को छोडकर दूसरों पर राज्य करना चाहते है इसलिए तनाव बढऩे के साथ प्रकृति के पाँचों तत्व हलचल मचा रहे है। आपने कहा कि सदैव नियमों से चलों चाहे प्रकृति के चाहे यातायात के तो हमें कभी निराशा नही होगी। हमारा जीवन अनमोल है। हमारे हर संकल्प, हर बोल और हर कर्म में निस्वार्थ सेवाभावना होने चाहिए। स्व अधिकारी बनने के लिए अपने कमजोरियों को समाप्त करना है। हमें आत्मिक शक्ति को बढाकर तन और मन से निरोगी रहना है। कर्मभोग के बजाय कर्मयोग वाला जीवन हो हमारा।
आपने युवा शब्द का आश्य स्पष्ट करते हुए कहा कि जिसमें सदा खुशी, उमंग और उत्साह हो वह युवा है।
इस अवसर पर ब्रह्माकुमार पोषण ने युवा ये युवा सबसे आगे युवा गीत गाकर सभी में उमंग उत्साह का संचार कर दिया।
इस किसान सशक्तिकरण और नशामुक्ती रथ को ब्रह्माकुमारी बहनों द्वारा शिव ध्वज दिखाकर भिलाई क्षेत्रों में नशामुक्ति संदेश देने के लिए के लिए रवाना किया गया।
संध्या राजयोग भवन के किसान संगोष्ठी में नंदनी, अहिवारा, जामुल, पाटन,व भिलाई-दुर्ग के आसपास के क्षेत्रों से आये किसानों एवं कृषि फर्म संचालकों के लिए महाराष्ट्र, राजस्थान,गोवा और मध्यप्रदेश से आये यौगिक खेती करने वाले किसानों ने अनुभव सुनाये। गुजरात से आये गिरीश ने बताया कि आज सभी रोज 5 मीलीग्राम यूरिया खा रहे है। अंधाधुंध किटनाशको का प्रयोग उसमें भी लोभ लालच के कारण प्रतिबंधित किटनाशकों का प्रयोग कर हम धरती जहरीली बना रह है, धरती भी अनाज के रूप में वह जहर हमें वापस कर रही है। फलस्वरूप हम तेजी से बिमार होते जा रहे है।
गोवा से आयी किसान ब्रह्माकुमारी दर्शना ने अपना अनुभव सुनाते हुए कहा कि एस आर आई टेक्रीक और यौगिक खेती से मैने ज्यादा पौष्टीक अनाज उत्पादित किया है। क्योंकि आज सभी प्रेक्टिल चाहते है और राजयोग से प्रैक्टील योग द्वारा श्रेष्ठ संकल्पों से खेती करते है। यह प्रयोग धान के पौधों पर भी किया गया जिसमें उन्हे बोते समय संकल्प किया गया कि आप धरती की गोद में सुरक्षित हो तो वह इसे सुनकर जल्दी से बडे और अंकुरित होते है।
ज्ञात हो कि यह अभियान कृषि मंत्री छतीसगढ शासन रविन्द्र चौबे ने 22 सितम्बर को शांति सरोवर रायपुर में उदघाटन किया।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
 
और राष्ट्रीय ख़बरें
एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव चार अन्य मामले सामने आए एम्स ऋषिकेश में कोविड पॉजिटिव के पांच नए मामले सामने आए उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा 317 पहुंचा, सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के बाद बंगाल में एनडीआरएफ की 10 अतिरिक्त टीमें तैनात की गई "जैव विविधता भारतीय संस्कृति का अनिवार्य हिस्सा है": शेखावत कोविड—19 परीक्षण में 9 पॉजिटिव जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया कोरोना संकट में आर्थिक मंदी से झूझ रहा भारतीय फिल्म जगत: प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों से सहयोग की गुहार भारत के स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन बने विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड के चेयरमैन आत्मनिर्भर भारत अभियानः संवृद्धि आवेग की आगामी तरंग की ओर लक्षित